राजस्थान भाजपा: चुनाव से पहले पूर्व सांसद गोपाल सिंह ईडवा समेत 33 नेता बीजेपी में शामिल, चन्द्रभान अक्या, रितु बनावत, जीवाराम चौधरी और गणेशराज भी आए

Ad

Highlights

2019 में चित्तौड़गढ़ से लोकसभा चुनाव लड़ने वाले पूर्व सांसद गोपाल सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राष्ट्रवाद और विकास के प्रति दृढ़ प्रतिबद्धता का हवाला देते हुए भाजपा के प्रति अपना अटूट समर्थन व्यक्त किया। राम मंदिर के निर्माण जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर एकता के महत्व पर जोर देते हुए, एडवा ने भाजपा की विचारधारा के साथ अपने जुड़ाव पर प्रकाश डाला।


जयपुर । भाजपा को समर्थन देने वाले निर्दलीय विधायकों में चित्तौड़गढ़ से चंद्रभान सिंह आक्या, सांचौर से जीवाराम चौधरी, हनुमानगढ़ से गणेश राज और बयाना से रितु बनावत शामिल हो गए हैं। अब इंतजार सिर्फ रविन्द्रसिंह भाटी का है। 


यहां एक महत्वपूर्ण राजनीतिक घटनाक्रम में, राजसमंद के पूर्व सांसद गोपाल सिंह ईडवा सहित 33 नेता शनिवार को आधिकारिक तौर पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए, जो राजस्थान के राजनीतिक परिदृश्य में एक उल्लेखनीय बदलाव का प्रतीक है। यह घोषणा एक सभा के दौरान की गई जहां चार स्वतंत्र विधायकों ने भी भाजपा को अपना समर्थन देने का वादा किया।

2019 में चित्तौड़गढ़ से लोकसभा चुनाव लड़ने वाले पूर्व सांसद गोपाल सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राष्ट्रवाद और विकास के प्रति दृढ़ प्रतिबद्धता का हवाला देते हुए भाजपा के प्रति अपना अटूट समर्थन व्यक्त किया। राम मंदिर के निर्माण जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर एकता के महत्व पर जोर देते हुए, एडवा ने भाजपा की विचारधारा के साथ अपने जुड़ाव पर प्रकाश डाला।

एक बयान में, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सीपी जोशी ने नए सदस्यों का स्वागत किया, जिनमें पिछले चुनावों में स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़ने वाले बागी नेता भी शामिल थे। जोशी ने राजस्थान में महत्वपूर्ण जीत हासिल करने का भरोसा जताया और अनुमान लगाया कि भाजपा आगामी लोकसभा चुनाव में 25 से अधिक सीटें और देशभर में 400 से अधिक सीटें हासिल करेगी।

भाजपा को समर्थन देने वाले निर्दलीय विधायकों में चित्तौड़गढ़ से चंद्रभान सिंह आक्या, सांचौर से जीवाराम चौधरी, हनुमानगढ़ से गणेश राज और बयाना से रितु बनावत शामिल हैं। आक्या ने भविष्य के लिए उनके साझा दृष्टिकोण पर जोर देते हुए, भाजपा की विचारधारा के साथ अपने जुड़ाव की पुष्टि की।

गौरतलब है कि ये चारों निर्दलीय विधायक विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी से जुड़े थे. हालाँकि, जब उन्हें पार्टी से टिकट नहीं मिला तो उन्होंने खुद को उपेक्षित महसूस करते हुए स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़ने का फैसला किया और विजयी हुए। आगामी चुनावों में किसी भी संभावित नुकसान को रोकने के लिए, भाजपा तेजी से उन्हें पार्टी में वापस लाने में कामयाब रही, जिससे वे चुनावी लड़ाई के लिए तैयार हो सकें और एकजुटता और ताकत सुनिश्चित हो सके।

इन प्रमुख नेताओं और विधायकों का सामूहिक दलबदल और समर्थन भाजपा के लिए एक रणनीतिक बढ़ावा का संकेत देता है, जो संभावित रूप से राजस्थान में राजनीतिक परिदृश्य को नया आकार दे रहा है क्योंकि देश आगामी चुनावों के लिए तैयार है। इस कहानी पर आगे के अपडेट के लिए बने रहें।

Must Read: कांग्रेस के चार बड़े नेता महेन्द्रजीत सिंह मालवीया, रिछपाल मिर्धा, उदयलाल आंजणा और लालचंद कटारिया के बीजेपी में जाने की बातें

पढें वीडियो खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :