टी. रविकान्त के महत्वपूर्ण निर्देश: स्वायत्त शासन विभाग के प्रमुख शासन सचिव ने शहर की सफाई व्यवस्था का लिया जायजा

स्वायत्त शासन विभाग के प्रमुख शासन सचिव ने शहर की सफाई व्यवस्था का लिया जायजा
Important instructions of T. Ravikant
Ad

Highlights

दौरान निरीक्षण के दौरान आम रास्ते के दोनो ओर पाये गये सी.एन. डी वेस्ट के ढेरो एवं अन्य कचरे  को  हटाने के निर्देश भी जारी किये गये

जयपुर । स्वायत्त शासन विभाग के प्रमुख शासन सचिव टी. रविकान्त ने शनिवार को प्रातः नगर निगम ग्रेटर एवं हैरिटेज के विभिन्न क्षेत्रो का गहन निरीक्षण किया। सुबह 8ः30 बजे मुरलीपुरा जोन में डोर टू डोर कचरा संग्रहण व्यवस्था का जायजा लेकर आम लोगो से कचरा संग्रहण का फीडबैक लिया।

RFID कार्ड के माध्यम से स्कैनिंग व्यवस्था, वाहनो की VTS  के माध्यम से ट्रेकिंग सिस्टम एवं सूखे-गीले कचरे के उठाव की व्यवस्था को गहनता से जांचा गया। कॉलोनियों में 100 प्रतिशत डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण हो तथा अधिकारी वाहनो की सुबह से ही  गैराज से निकलने से लेकर अन्तिम घर तक कचरा संग्रहण होने तक व्यवस्था की मॉनिटिरग करे, इस बाबत दिशा निर्देश दिये।

सेवापुरा कॉम्पोस्ट प्लांट का निरीक्षण करते हुये बंद प्लांट को शीघ्र प्रारम्भ करने तथा तैयार किये गये 4000 टन कम्पोस्ट को बेचने की कार्य  योजना बनाने के लिए भी निर्देशित किया जाकर शीघ्र निस्तारित करने का आदेश दिया गया।
मथुरादासपुरा व सेवापुरा में संचालित लिगेसी वेस्ट रिमेडियेशन प्लांट द्वारा प्रतिदिन 6000 टन कचरे का निस्तारण हो रहा है शीघ्र ही समस्त कचरा निस्तारण होगा इसके पश्चात इन स्थलो का सौन्दर्योकिरण करने की योजना बनाने के निर्देश दिये गये ।

  रवि कान्त ने बताया कि दोनो लिगेसि वेस्ट प्लांट से प्रतिदिन लगभग 600 टन   RDF  तैयार हो रहा है जिसे राजस्थान के विभिन्न सीमेंट प्लांट को भेजा जा रहा है।
 
लांगडियावास स्थित 12 MW  की क्षमता का विद्युत वेस्ट टू एर्न्जी प्लांट प्रतिदिन 1000 टन कचरे का उपयोग करेगा। इसके पश्चात शहर से पूर्ण रूप से कचरा मुक्त हो पायेगा यह प्लांट जून 2025 तक कार्य करने लगेगा।  रवि कान्त द्वारा कार्य में आ रही बाधाओ का शीघ्र निस्तारण कर प्लांट को समयबद्व रूप से प्रारम्भ करने का निर्देश दिया।
इसके पश्चात अधिकारियों ने शहर में उत्पन्न सी.एन डी वेस्ट के निस्तारण हेतु बनाये जा रहे सी.एन.डी प्लांट को भी शीघ्र चालू करने का निर्देश दिया। यह प्लांट अप्रेल 2024 से कार्य करने लगेगा। इस प्लांट की सहायता से सडको के लिए इन्टर लॉन्किग टाईल्स, रोडी, बजरी आदि सिविल मेटिरियल तैयार हो सकेगें 
इस सुविधा से नागरिक भी टोल फ्री नम्बर पर कॉल करके निर्धारित शुल्क चुका कर नगर निगम द्वारा निर्धारित स्थल पर सी.एन.डी वेस्ट डाल सकेगें। यहा से प्लांट पर इसे ले जाकर प्रोसेस किया जायेगा। आागामी वर्षो में जयपुर कचरा मुक्ति की ओर अग्रसर होगा । 
प्रमुख शासन सचिव ने लांगडियावास में 350 टन क्षमता के संचालित RDF प्लांट का निरीक्षण कर उससे उत्पन्न इंर्धन की उपयोगिता को जाना तथा निर्देशित किया दोनो निगमो के वरिष्ठ अभियताओ द्वारा इसका नियमित निरीक्षण किया जाकर इसके संचालन को और बेहतर बनाया जाये।
निरीक्षण हेतु मुख्य अभियंता स्वंय जिम्मदार होगें , इस हेतु दोनो आयुक्तों को निर्देशित किया। 
 
लालडुगंरी ट्रांसफर स्टेशन की स्थिति का निरीक्षण करने के पश्चात  रवि कान्त ने निर्देशित किया कि दोनो निगमो के  दस ट्रांसफर स्टेशनो का आधुनिकिरण करने की कार्ययोजना शीघ्र बनाकर प्रस्तुत की जाये तथा इन सभी प्लाटों पर कार्यरत रेग पिर्क्स की आजीविका को ध्यान में रखते हुये इनके स्वास्थ्य, जीवन स्तर में सुधार के प्रयास किये जावे तथा इन्हे मुख्य धारा में लाया जावे।
रोड के मध्य डिवाईडर एचं फुटपाथो की विशेष सफाई की जाकर जहा संभव हो उनमे पौधे इत्यादि लगाकर सौन्दर्यीकरण किये जाने हेतु भी आवश्यक निर्देश जारी किये गये। ऐसे यूरिनलस,शौचालय जिनकी उपयोगिता अब नही है तथा आम रास्ते में रूकवाट बने हुये है, उनको हटाने के लिए भी आदेशित किया। 
 
दौरान निरीक्षण के दौरान आम रास्ते के दोनो ओर पाये गये सी.एन. डी वेस्ट के ढेरो एवं अन्य कचरे  को  हटाने के निर्देश भी जारी किये गये ।
निरीक्षण के दौरान उपस्थित स्वायत्त शासन विभाग निदेशक टी सुरेश कुमार ओला ने निर्देशित किया कि कचरा प्रोसेसिंग प्लाटों के रास्तो व आसपास के क्षेत्रो में सघन वृक्षारोपण किया जाकर सौन्दर्योकरण किया जावे । प्रमुख सचिव ने आम जनता से भी अपील करते हुये कहा कि दोनो निगम सफाई व्यवस्था के लिए कटिबद्व है
केवल आमजन से सहयोग की अपेक्षा है। उन्होंने आमजन व्यापारियों , सामाजिक संगठनो आदि से अपील करते हुये कहा कि सभी लोग अपने-अपने घर प्रतिष्ठान पर सूखे-गीले कचरे हेतु पृथक-पृथक डस्टबिन्स रखे , कचरे को गाडी में डाले, खाली प्लॅाटां में कचरा नही डाले तथा सिंगल यूज प्लॉस्टिक के स्थान पर कपडे के थेलो का उपयोग किया जावे।
साथ ही अधिकारियो को निर्देशित किया कि जन जागरूकता के लिए सोशल मीडिया प्लाटेफॉर्म का अधिकता से उपयोग किया जाये ।
मौके पर ग्रेटर एवं हैरिटेज निगम के आयुक्त श्रीमती रूकमणी रियाड एवं  अभिषेक सुराणा के साथ अन्य अधिकारी संपूर्ण दौरे मे साथ रहे । 

Must Read: सचिन पायलट पहुंचे चाकसू के कोटखावदा, विधायक सोलंकी को देख ग्रामीणों ने फेंके पत्थर

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :