25 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज: ’चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना’ का लाभ उठाने के लिए ऐसे करें अप्लाई, ये दस्तावेज होना अनिवार्य

’चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना’ का लाभ उठाने के लिए ऐसे करें अप्लाई, ये दस्तावेज होना अनिवार्य
Chiranjeevi Health Insurance Scheme
Ad

Highlights

गहलोत सरकार ने बढ़ते इलाज के खर्चों को देखते हुए गरीबों और असहाय लोगों के लिए ये योजना चलाई है। गंभीर बीमारियों में महंगे इलाज को समाज का हर वर्ग वहन नहीं कर पाता, ऐसे में इस योजना की शुरुआत में प्रत्येक परिवार को हर साल 5 लाख रुपये तक का कैशलेस/निशुल्क इलाज उपलब्ध कराया जाता था।

जयपुर | राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार द्वारा चलाई जा रही ’चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना’ (Chiranjeevi Health Insurance Scheme) में सीएम गहलोत ने बड़ा ऐलान करते हुए इसे 8 लाख से कम आय वालों के लिए मुफ्त कर दिया है। ऐसे में अब इसमें प्रीमियम भरने की जरूरत नहीं होगी।

गहलोत सरकार ने बढ़ते इलाज के खर्चों को देखते हुए गरीबों और असहाय लोगों के लिए ये योजना चलाई है। इसकी शुरूआत साल 2021 में की गई थी। राजस्थान में गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों को इसका लाभ मिलता है। 

गंभीर बीमारियों में महंगे इलाज को समाज का हर वर्ग वहन नहीं कर पाता, ऐसे में इस योजना की शुरुआत में प्रत्येक परिवार को हर साल 5 लाख रुपये तक का कैशलेस/निशुल्क इलाज उपलब्ध कराया जाता था।

जिसे वित्त वर्ष 2022-23 में बढ़ाकर 10 लाख रुपये और इसके बाद अब 2023-24 के लिए इस राशि को बढ़ाकर 25 लाख रुपये करने की घोषणा की गई है। 

सरकार के आंकड़ों के मुताबिक मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना (Mukhyamantri Chiranjeevi Yojana Rajasthan) से अब तक 1 करोड़ 35 लाख परिवार जुड़ चुके हैं और इस योजना के तहत अब तक 15 लाख लोगों का कैशलेस इलाज भी हो चुका है। 

कैसे ले सकते हैं इस योजना का लाभ

चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के लिए पंजीकरण राजस्थान के चिकित्सा विभाग के वेब पोर्टल पर जाकर या फिर ई-मित्र पर शुल्क का भुगतान कर पंजीकरण कराया जा सकता हैं। 

इस योजना के अन्तर्गत हर चिरंजीवी परिवार को 5 लाख रुपये का दुर्घटना बीमा भी दिया जा रहा है। 

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के माध्यम से राजस्थान के प्रत्येक परिवार को 25 लाख तक के कैशलेस इलाज की सुविधा प्रदान की जा रही है।

जिसके तहत लाभार्थी ब्लैक फंगस, कैंसर, पैरालाइसिस, हार्ट सर्जरी, न्यूरो सर्जरी, ऑर्गन ट्रांसप्लांट, कोविड-19 जैसी गंभीर बीमारियों का भी इलाज करवा सकते हैं। 

एक साल के लिए बनाई जाती है पॉलिसी

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत राजस्थान के सभी सरकारी अस्पतालों में ओपीडी और आईपीडी की सेवाएं पूरी तरह से मुफ्त हैं। इसके तहत महंगी दवाइयां भी फ्री में मिल जाती हैं।

चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत 25 लाख की राशि का प्रावधान एक पॉलिसी वर्ष के लिए किया जाता है। उसके बाद दोबारा नया साल शुरू होने पर यह वापस शून्य होकर 25 लाख हो जाती है। 

ये दस्तावेज होना अनिवार्य

इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक के पास आवेदन करते समय जन आधार नंबर या जन आधार पंजीयन रसीद होना अनिवार्य है।

अगर किसी के पास जन आधार कार्ड नहीं है तो इस योजना का लाभ लेने के लिए सबसे पहले जन आधार कार्ड बनवाना होगा।

ये सब दस्तावेज भी रखें साथ

पंजीकरण कराते समय आवेदक के पास जन आधार कार्ड अथवा जन आधार के पंजीकरण रसीद का नंबर होना बेहद जरूरी है नहीं, तो पंजीकरण नहीं हो सकेगा।

इसके अलावा आधार कार्ड, ओटीपी के लिए मोबाइल नंबर, परिवार के सभी सदस्यों का नाम और उम्र के दस्तावेज होने चाहिए।

इस योजना की ऑफिसियल वेबसाइट https://chiranjeevi.rajasthan.gov.in/  है।

Must Read: रथ में सवार होकर अपनी मौसी के घर चले तीनों बहन-भाई,  रथ के निर्माण में नहीं होता कील-धातु का प्रयोग

पढें मनचाही खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :