Jalore: जालोर में ग्रेनाइट व्यापारी के बेटे ने रची खुद के अपहरण की झूठी कहानी, पुलिस ने किया गिरफ्तार

Ad

जालोर, राजस्थान: जालोर के एक ग्रेनाइट व्यापारी के बेटे ने शेयर बाजार में हुए नुकसान की भरपाई के लिए अपने ही अपहरण की झूठी साजिश रची। राजेंद्र कुमार, ग्रेनाइट व्यापारी रतनलाल मालवीय के बेटे ने खुद के अपहरण का नाटक करते हुए अपने पिता से 6 लाख रुपये की फिरौती मांगी। पुलिस ने तीन दिन की मेहनत के बाद राजेंद्र को पकड़ लिया, जो झाड़ियों में आराम कर रहा था।

शेयर बाजार में नुकसान ने बनाया अपहरण का प्लान

राजेंद्र ने शेयर बाजार में फ्यूचर एंड ऑप्शन में पैसे लगाए थे, जिसमें उसे दिसंबर 2023 से जून 2024 तक 10.50 लाख रुपये का नुकसान हुआ। इस नुकसान की भरपाई के लिए उसने 4.50 लाख रुपये का ऑनलाइन लोन लिया और बाकी 6 लाख रुपये के लिए खुद के अपहरण की योजना बनाई।

अपहरण की झूठी कहानी और फिरौती की मांग

राजेंद्र ने अपने पिता रतनलाल को अपने अपहरण की खबर देकर 6 लाख रुपये की फिरौती की मांग की। उसने धमकी भरे मैसेज भेजे कि अगर पैसे नहीं दिए गए तो उसे मार दिया जाएगा। उसने अपने फोन को बंद कर दिया और सिरोही, हरजी, बालोतरा, पचपदरा, साण्डेराव, रानी और सादड़ी के आसपास घूमता रहा।

पुलिस की तत्परता और आरोपी की गिरफ्तारी

जालोर पुलिस ने 7 टीमों का गठन किया और 100 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली। गुरुवार को पुलिस ने रणकपुर के रास्ते में राजेंद्र को उसकी मोटरसाइकिल के साथ पकड़ लिया। पुलिस ने राजेंद्र को सादड़ी कस्बे के पास से गिरफ्तार किया और उससे गहन पूछताछ की। पूछताछ में राजेंद्र ने स्वीकार किया कि उसने शेयर बाजार में हुए नुकसान की भरपाई के लिए यह योजना बनाई थी।

पुलिस की जांच में हुआ खुलासा

जांच के दौरान पुलिस को राजेंद्र के बारे में जानकारी मिली कि उसने अपने अपहरण की झूठी कहानी बनाई थी। पुलिस को राजेंद्र का पता लगाने में कठिनाई हुई क्योंकि उसके पास आईफोन था, जिससे उसकी लोकेशन ट्रैक करना मुश्किल हो रहा था। पुलिस ने राजेंद्र को कई स्थानों पर देखा, जहां वह अकेला ही नजर आया। इससे पुलिस को शक हुआ और अंत में राजेंद्र की साजिश का पर्दाफाश हुआ।

पुलिस अधिकारी का बयान

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रामेश्वरलाल ने बताया कि राजेंद्र सोमवार को घर से ग्रेनाइट फैक्ट्री जाने के लिए निकला था, लेकिन उसने सिरोही, हरजी, बालोतरा, पचपदरा, साण्डेराव, रानी और सादड़ी के विभिन्न इलाकों में घूमता रहा। पुलिस ने तकनीकी सहायता और सीसीटीवी फुटेज के माध्यम से उसे ढूंढने की कोशिश की और अंत में गुरुवार शाम को रणकपुर के रास्ते से गिरफ्तार किया।

इस घटना ने साबित कर दिया कि पुलिस की सतर्कता और तकनीकी जांच ने एक जटिल मामले को सुलझा लिया। राजेंद्र को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है।

Must Read: पीएम मोदी के लिए प्रथम महिला जिल बाइडन ने खुद तैयार करवाया, बाजरा-मकई का लगेगा चटकारा

पढें क्राइम खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :