केदारनाथ मार्ग पर बड़ा हादसा: गौरीकुंड में टूटा पहाड़, 3 लोगों की मौत, 17 लापता, इनमें एक राजस्थान का निवासी भी

गौरीकुंड में टूटा पहाड़, 3 लोगों की मौत, 17 लापता, इनमें एक राजस्थान का निवासी भी
Ad

Highlights

राजस्थान के भरतपुर जिले के खनावा निवासी विनोद सिंह भी इस घटना के बाद से लापता है। जब गौरीकुंड में हादसा हुआ तब विनोद भी मौके पर मौजूद थे।

जयपुर | Landslide in Gaurikund: देवभूमि उत्तराखंड में भारा बारिश का दौर जारी है। जिसके चलते केदारनाथ मार्ग पर बड़ा हादसा हो गया है। 

केदारनाथ धाम (Kedarnath Dham) के पहले पड़ाव गौरीकुंड में दर्दनाक हादसा हो गया। यहां स्थित दुकानों पर पहाड़ गिरने से कई दुकानें मलबे में दब गई और तीन लोगों की मौत के साथ ही करीब 17 लोग लापता हो गए है। आशंका जताई जा रही है कि इस हादसों में और कई श्रद्धालुओं की मौत हो गई है। 

इन लापता लोगों में राजस्थान के दो लोग भी शामिल बताए जा रहे हैं। 

राजस्थान के भरतपुर जिले के खनावा निवासी विनोद सिंह अपने आगरा निवासी जीजा जसवंत सिंह के साथ इस घटना के बाद से लापता है। विनोद की उम्र 26 साल बताई गई है। 

गौरीकुंड में लगाते थे दुकान

गौरीकुंड में हुए भूस्खलन के बाद लापता हुए दो लोगों के परिजनों ने बताया कि विनोद अपने जीजा के साथ केदारनाथ में काम धंधा करने के लिए माला और तस्वीर की दुकान लगाने हर साल की तरह इस बार भी गया था।

बीते 3 अगस्त की रात अचानक लैंडस्लाइड हुआ, जिसमें दो दुकानें क्षतिग्रस्त होकर नदी में बह गई। इसमें दोनों ही लापता हो गए। 

आशंका जताई जा रही है कि इस हादसों में और कई श्रद्धालुओं की मौत हो गई है। 

केदारनाथ धाम की यात्रा पर गए श्रद्धालुओं को सुरक्षित स्थानों पर ही रूकने के लिए कहा गया है। फिलहाल यात्रा रोक दी गई है।

लापता लोगों की तलाशा में जुटी SDRF टीम

गौरीकुंड में हुए हादसे के बाद से एसडीआरएफ की टीम लापता हुए श्रद्धालुओं को तलाशने में जुटी हुई है। 

बताया जा रहा है कि जब ये हादसा हुआ तब सभी लोग दुकानों में आराम कर रहे थे। उस दौरान अचानक से पहाड़ टूटने से ये लोग या तो मलबे में दब गए या उफनती हुई मंदाकिनी नदी में बह गए। 

7 लोग नेपाल मूल बताए जा रहे हैं

लापता हुए लोगों में से 7 लोग नेपाल मूल के रहने वाले बताए जा रहे हैं, इसके अलावा कई अन्य राज्यों के केदारनाथ धाम (Chardham Yatra) के लिए आए थे। 

बताया जा रहा है कि नेपाल मूल के लोग यहां काम करने वाले है जो कंडी के सहारे तीर्थ यात्रियों को केदारनाथ धाम तक ले जाते हैं।

हर साल राजस्थान से जाते हैं हजारों श्रद्धालु

उत्तराखंड की चारधाम यात्रा शुरू होते ही हर साल राजस्थान से हजारों की संख्या में श्रद्धालु देवभूमि पहुंचते हैं। 

प्राइवेट गाड़ियों और बसों से लोग चारधाम की यात्रा पर उत्तराखंड जाते हैं। 

दरअसल, गौरी कुंड इलाके में गुरुवार देर रात से भारी बारिश का दौर चल पड़ा था। जिसके चलते मंदाकिनी नदी उफान पर है।

वहीं, कई जगहों पर लैंड स्लाइड होने से यात्रा में बाधा पहुंची थी।

Must Read: राजस्थान हादसे ने थामी वायुसेना के लड़ाकु विमान की रफ्तार, अब नहीं भरेंगे उड़ान

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :