Hathras Uttar Pradesh Hadsa: उत्तरी भारत के हाथरस में धार्मिक आयोजन में भगदड़ से 50 से अधिक लोगों की मौत

उत्तरी भारत के हाथरस में धार्मिक आयोजन में भगदड़ से 50 से अधिक लोगों की मौत
Crowd in Program
Ad

Highlights

उत्तरी भारत के हाथरस में एक धार्मिक आयोजन में भगदड़ से 50 से अधिक लोगों की मौत हो गई है। यह घटना उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में एक सत्संग (हिंदू धार्मिक आयोजन) के दौरान हुई।

हाथरस | उत्तरी भारत के हाथरस में एक धार्मिक आयोजन में भगदड़ से 50 से अधिक लोगों की मौत हो गई है। यह घटना उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में एक सत्संग (हिंदू धार्मिक आयोजन) के दौरान हुई।

हाथरस के जिलाधिकारी आशीष कुमार ने बताया, "डॉक्टरों ने मुझे करीब 50-60 मौतों का आंकड़ा बताया है।" मरने वालों में बड़ी संख्या में महिलाएं और कुछ बच्चे भी शामिल हैं, जिनकी पहचान की जा रही है।

पीड़ितों ने बताया कि मुघलगढ़ी गांव में सत्संग समाप्त होने के बाद जब वे आयोजन स्थल से बाहर निकलने की कोशिश कर रहे थे, तब यह हादसा हुआ। एक प्रत्यक्षदर्शी, जिन्होंने अपना नाम गुप्त रखने का अनुरोध किया, ने बताया कि "सब कुछ ठीक चल रहा था, अचानक मैंने चीखें सुनीं और इससे पहले कि मैं समझ पाता, लोग एक-दूसरे पर गिरने लगे।"

"कई लोग कुचल गए और मैं कुछ नहीं कर सका। मैं बस जीवित बच गया," उन्होंने कहा। पीटीआई समाचार एजेंसी को एक महिला ने बताया, "जब प्रवचन समाप्त हुआ, तो सभी बाहर निकलने लगे। लोग सड़क के किनारे एक नाले में गिरने लगे। वे एक-दूसरे पर गिरने लगे और कुचलकर मर गए।"

एटा जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी उमेश कुमार त्रिपाठी ने बताया कि "इस भगदड़ में कम से कम तीन बच्चों की मौत हो गई है।"

घटनास्थल से दुखद दृश्य ऑनलाइन साझा किए जा रहे हैं। कुछ वीडियो में घायलों को पिकअप ट्रकों, ऑटो रिक्शा और यहां तक कि मोटरसाइकिलों पर अस्पताल ले जाते हुए दिखाया गया है। बीबीसी द्वारा देखे गए एक क्लिप में स्थानीय अस्पताल के प्रवेश द्वार पर कई शव पड़े हुए दिखे, जबकि रिश्तेदार मदद के लिए चीख रहे थे।

एक रिश्तेदार ने एक वीडियो में कहा, "इतना बड़ा हादसा हो गया है, लेकिन यहां एक भी वरिष्ठ अधिकारी मौजूद नहीं है। प्रशासन कहां है?" श्री कुमार ने कहा कि आयोजन स्थल पर भीड़ अधिक थी और इस घटना की जांच के लिए एक उच्च-स्तरीय समिति बनाई गई है।

"प्रशासन का प्राथमिक ध्यान घायल और मृतकों के परिजनों को हर संभव सहायता प्रदान करने पर है," उन्होंने कहा। पीटीआई समाचार एजेंसी द्वारा साझा किए गए एक वीडियो में घायल लोगों को उपचार के लिए अस्पताल लाते हुए दिखाया गया है। एटा जिले के अधिकारी सत्य प्रकाश ने बताया, "पोस्टमार्टम की प्रक्रिया चल रही है और मामले की जांच की जा रही है।"

हाथरस में स्थानीय अस्पताल में शोकग्रस्त परिवारों की चीखें सुनाई दे रही हैं। कई लोग अपने प्रियजनों की तलाश में हैं, कई शव अज्ञात हैं। एम्बुलेंस की कमी है - प्रत्येक एम्बुलेंस दो से तीन शव ला रही है। हाथरस निराशा और दर्द से भरा हुआ है।

भारत में धार्मिक आयोजनों में हादसे नियमित रूप से होते हैं, क्योंकि विशाल भीड़ छोटे स्थानों पर इकट्ठा होती है और सुरक्षा उपायों का पालन नहीं किया जाता है। 2018 में, दशहरा समारोह देखते समय ट्रेन से कुचलकर लगभग 60 लोगों की मौत हो गई थी। 2013 में, मध्य प्रदेश में एक त्योहार के दौरान भगदड़ में 115 लोगों की मौत हो गई थी।

कौन है यह भोले बाबा
यूपी के हाथरस जिले में भोले बाबा के सत्संग में हुए भगदड़ के बाद एक बड़ा सवाल उठ गया है - आखिर भोले बाबा कौन हैं? भोले बाबा, जिनका असली नाम सूरज पाल है, वे एटा के रहने वाले हैं। उन्होंने यूपी पुलिस की नौकरी छोड़ बाबा बनने का फैसला किया। उन्होंने खुद की एक प्राइवेट आर्मी भी बनाई है।

भोले बाबा के समागम में अक्सर उनकी पत्नी भी साथ होती हैं, जो सफेद सूट और जूते पहनती हैं। उनके सत्संग में दिखने वाली ये तस्वीरें इस बात की पुष्टि करती हैं।

भोले बाबा की शुरुआती जीवनी में बताया गया है कि उन्होंने अपनी पढ़ाई एटा जिले में की थी और बाद में पुलिस में भर्ती हुए थे। उनकी नौकरी के दौरान कांशीराम नगर में भी पोस्टिंग रही। बाबा के खिलाफ कुछ यौन शोषण के मामले दर्ज हैं, जिसकी वजह से उन्हें पुलिस से बर्खास्त किया गया था। इसके बाद उन्होंने अपना नाम और पहचान बदल लिया और बाबा बन गए।

भोले बाबा की आर्मी के सदस्य भी विशेष रूप से उच्च वर्ग के लोग हैं, जो उनके समागम में सेवा करते हैं। उनकी पत्नी भी उनके साथ हर समागम में नजर आती हैं।

भोले बाबा के अनुयायी उन्हें भगवान के साक्षात्कार के बाद ही बाबा मानते हैं और उनके समागम में लाखों लोग शामिल होते हैं। उनके समागमों में राजनेता और अधिकारी भी शामिल होते हैं। उनका अगला कार्यक्रम आगरा में होने वाला है, जिसके लिए वहां पोस्टर भी लगे हैं।

ये सभी तथ्य भोले बाबा के व्यक्तिगत और आध्यात्मिक जीवन को दर्शाते हैं, जो उनके अनुयायियों के बीच काफी प्रसिद्ध हैं।

Must Read: पीएम मोदी और सीएम योगी से सीमा हैदर की गुहार, मिले भारत की नागरिकता

पढें क्राइम खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :