राजस्व मंडल: व्यापक लोकहित में वैधानिक तरीके से कार्य करें अधिकारी - राजेश्वर सिंह  

व्यापक लोकहित में वैधानिक तरीके से कार्य करें अधिकारी - राजेश्वर सिंह  
अजमेर सभागार
Ad

Highlights

विधिक एवं व्यावहारिक दृष्टिकोण से सुदृढ़ होकर  निष्पक्ष एवं दृढ़तापूर्वक सेवाएं देने का संकल्प लेना

राजस्व दायित्वों के भलीभांति निर्वहन के लिए विधि,नियम,विनियम व समय समय पर जारी परिपत्रों का अध्ययन कर अपने ज्ञान को आदिनांक रखें।

जयपुर। राजस्व मंडल (Board of Revenue) अध्यक्ष राजेश्वर सिंह ने कहा कि प्रशासनिक तबके को विधिक एवं व्यावहारिक दृष्टिकोण से सुदृढ़ होकर  निष्पक्ष एवं दृढ़तापूर्वक सेवाएं देने का संकल्प लेना चाहिए।

राजेश्वर गुरुवार को आरआरटीआई (RRTI) अजमेर सभागार में आरटीएस (RTS) 31वें बेच के नवनियुक्त (newly appointed) नायब तहसीलदारों के आधारभूत प्रशिक्षण कार्यक्रम को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे।

 श्रेष्ठ व्यक्तित्व को बनायें आधार

सिंह ने कहा कि अधिकारी अपने कार्य व्यवहार में श्रेष्ठ व्यक्तित्व को आधार बनाकर कार्य करें। सभी वर्गों के कार्य जो विधिसम्मत (legal) एवं न्यायोचित (justified) हों उन्हें अविलंब पूरा करने के प्रयास किए जाएं।


 
जहां अतिक्रमण हटाने का विषय हो वहां प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत से कार्य करें। कार्य संपादन में  गंभीरता, अनुशासन व स्‍वाभाविकता के संतुलन को बनाए रखें।  राजस्व दायित्वों के भलीभांति निर्वहन के लिए विधि,नियम,विनियम व समय समय पर जारी परिपत्रों का अध्ययन कर अपने ज्ञान को आदिनांक (starting date) रखें।

मंडल अध्यक्ष ने प्रशिक्षु नायब तहसीलदारों से अपेक्षा की कि वे विधिक आधार से कार्यरचना को समझें। समुचित आत्मज्ञान (proper self-knowledge) एवं आकलन को भी कार्य निष्पादन (task performance) का श्रेष्ठ आधार बताया।

उन्होंने कार्य क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए स्थानीय भौगोलिक, सामाजिक, ऐतिहासिक, व्यापारिक, राजनीतिक व सांस्कृतिक परिवेश को पूरी तरह समझते हुए ग्रामीण क्षेत्रों की समस्याओं का विधिवत अध्ययन करने की भी महती जरूरत बताई। उन्होंने क्षेत्र के बेहतर विकास के लिए अपने अनुभवों को साझा (share) करने पर भी जोर दिया।

आरटीएस सशक्त कड़ी है 

मंडल अध्यक्ष ने तहसीलदार संवर्ग को प्रशासनिक तबके की सशक्त (strong) एवं महत्वपूर्ण कड़ी बताते हुए कहा कि अधिकारियों को पूर्ण निष्ठा, अनुशासन एवं जवाबदेही के साथ कार्य निर्वहन करने की आवश्यकता है।

उन्होंने कार्य क्षेत्र में सफलता के लिए सतत संवाद से सूचना तंत्र को मजबूत बनाने एवं आम जनता से बेहतर व्यवहार बनाए रखने की सीख दी।

आरंभ में आरआरटीआई(RRTI) निदेशक ऋषिबाला श्रीमाली ने बताया कि संस्थान में आरटीएस (RTS) के 31वें बैच के तहत 69 प्रशिक्षु आरटीएस (RTS) आधारभूत प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने संस्थान की गतिविधियों पर विस्तार से जानकारी दी।

Must Read: राजस्थान में ’बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ योजना बेहाल, केन्द्र का पैसा भी बेटियों पर खर्च नहीं कर पा रही राज्य सरकार

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :