राजस्थान : राजस्थान के 16वें विधानसभा का पहला सत्र 20 दिसंबर से, देवनानी के स्पीकर बनने की प्रबल संभावना

Ad

Highlights

राज्यपाल कलराज मिश्रा ने सोमवार को वरिष्ठ विधायक कलिचरण सराफ को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया था, जो नवनिर्वाचित विधायकों को शपथ ग्रहण कराएंगे। कलिचरण सराफ ने सोमवार को ही राज्यपाल कलराज मिश्रा द्वारा शपथ ली थी।

जयपुर: राजस्थान विधानसभा के 16वें सत्र की शुरुआत 20 दिसंबर से होने जा रही है। राज्यपाल कलराज मिश्रा ने इस सत्र को बुलाने की मंजूरी दे दी है। सत्र के पहले दिन नवनिर्वाचित सदस्यों को शपथ ग्रहण कराया जाएगा। वहीं दूसरे दिन विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव होगा, जिसमें भाजपा के स्पीकर प्रत्याशी वासुदेव देवनानी की जीत लगभग तय मानी जा रही है। सूत्रों के मुताबिक, अगर विपक्ष देवनानी का समर्थन करता है तो उनका निर्वाचन निर्विरोध भी हो सकता है।

राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए मनोनीत वासुदेव देवनानी ने मंगलवार को जयपुर स्थित अपने आवास पर पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से मुलाकात की। माना जा रहा है कि यह शायद राजस्थान में पहला मौका होगा जब मंत्रिमंडल के गठन से पहले विधायकों को शपथ ली जा रही है। इससे पहले नए विधानसभा का पहला सत्र जनवरी में होता था, इसलिए सत्र से पहले ही मंत्रिमंडल का गठन कर लिया जाता था। इस बार पहले विधायकों का शपथ ग्रहण हो रहा है।

राज्यपाल कलराज मिश्रा ने सोमवार को वरिष्ठ विधायक कालीचरण सराफ को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया था, जो नवनिर्वाचित विधायकों को शपथ ग्रहण कराएंगे। कालीचरण सराफ ने सोमवार को ही राज्यपाल कलराज मिश्रा द्वारा शपथ ली थी।

राज्यपाल ने प्रोटेम स्पीकर की सहायता के लिए एक तीन सदस्यीय पैनल भी बनाया है। इसमें वरिष्ठ विधायक दयाराम परमार, प्रताप सिंह सिंघवी और डॉ. किरोरी लाल मीणा को शामिल किया गया है।

16वीं विधानसभा में लगभग 72 विधायक ऐसे हैं जो पहली बार विधानसभा पहुंचे हैं। इनमें मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा भी शामिल हैं। वहीं, शायद भजनलाल शर्मा पहले विधायक हैं जो विधायक बनने से पहले ही मुख्यमंत्री के रूप में विधानसभा पहुंचेंगे।

पहली बार विधानसभा पहुंचे विधायकों में भाजपा से 46, कांग्रेस से 19 और 7 अन्य शामिल हैं।

16वीं विधानसभा में सराफ सबसे वरिष्ठ विधायक हैं। इस बार वह जयपुर की मालवीय नगर विधानसभा सीट से चुनाव जीतकर आठवीं बार विधानसभा पहुंचे हैं। सराफ 1985 से लगातार चुनाव लड़ रहे हैं। वह जोहरी बाजार विधानसभा सीट से 4 बार विधायक रहे हैं, लेकिन 2008 में परिसीमन के बाद जोहरी बाजार विधानसभा सीट समाप्त हो गई। इसके बाद से कलिचरण सराफ लगातार मालवीय नगर विधानसभा सीट से चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंच रहे हैं।

  • 16वीं विधानसभा का पहला सत्र 20 दिसंबर से
  • नवनिर्वाचित विधायकों का शपथ ग्रहण पहले दिन
  • दूसरे दिन विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव
  • देवनानी के स्पीकर बनने की प्रबल संभावना
  • विपक्ष के समर्थन से निर्विरोध चुनाव की संभावना
  • राज्यपाल ने प्रोटेम स्पीकर के रूप में कलिचरण सराफ को नियुक्त किया
  • मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा भी पहली बार विधायक के रूप में आएंगे
  • विधानसभा में 72 नए विधायक

Must Read: भाजपा बोली- गरीब की थाली का प्याज होता जा रहा दूर, गहलोत सरकार का कुप्रबन्धन महंगाई का जिम्मेदार

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :