भारत नहीं चीन प्रथम: राज्यवर्धन राठौड़ ने सोनिया और राहुल गांधी पर देशद्रोह का आरोप जड़ा, राजस्थान में बेटियां असुरक्षित हैं

Ad

Highlights

राठौड़ के दावे दो महत्वपूर्ण मुद्दों के इर्द-गिर्द घूमते हैं: 2008 बीजिंग ओलंपिक के दौरान सोनिया गांधी, राहुल गांधी और चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के बीच एक कथित बैठक, और राजस्थान राज्य में बलात्कार की बढ़ती घटनाओं पर कांग्रेस पार्टी की प्रतिक्रिया।

जयपुर | हाल ही में लोकसभा सत्र के दौरान एक उग्र भाषण में, भाजपा के एक प्रमुख चेहरे और पूर्व केन्द्रीय मंत्री राज्यवर्धन राठौड़ ने कांग्रेस पार्टी और उसके शीर्ष नेतृत्व पर गंभीर आरोप लगाकर राजनीतिक हलचल मचा दी।

राठौड़ के दावे दो महत्वपूर्ण मुद्दों के इर्द-गिर्द घूमते हैं: 2008 बीजिंग ओलंपिक के दौरान सोनिया गांधी, राहुल गांधी और चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के बीच एक कथित बैठक, और राजस्थान राज्य में बलात्कार की बढ़ती घटनाओं पर कांग्रेस पार्टी की प्रतिक्रिया।

राठौड़ का पहला आरोप 2008 बीजिंग ओलंपिक के दौरान हुई एक कथित बैठक पर केंद्रित है। उनके अनुसार, सोनिया और राहुल गांधी ने प्रतिष्ठित खेल आयोजन में भाग लेने वाले भारतीय एथलीटों से जुड़ने के बजाय चीनी कम्युनिस्ट पार्टी से मिलने का विकल्प चुना।

यह दावा न केवल चौंकाने वाला है, बल्कि इसमें पर्याप्त राजनीतिक महत्व भी है। यह संकेत देता है कि कांग्रेस नेतृत्व ने भारतीय एथलीटों के समर्थन के बजाय अंतरराष्ट्रीय राजनीतिक गतिविधियों को प्राथमिकता दी। राठौड़ ने "देशद्रोह" शब्द चारों ओर उछाला गया, जिसका अर्थ था कि इस कार्रवाई से देश के हित कमजोर हो सकते हैं।

हालांकि इस तरह का दावा सावधानीपूर्वक विचार करने और तथ्य-जांच करने लायक है, लेकिन यह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस पार्टी के बीच चल रही वैचारिक रस्साकशी की एक शक्तिशाली याद के रूप में भी काम करता है।

देश के हितों को कथित रूप से कमजोर करने वाले गैर-देशभक्तिपूर्ण व्यवहार और निर्णयों के आरोप भारतीय राजनीति में असामान्य नहीं हैं, जहां दांव ऊंचे हैं, और सार्वजनिक भावना राष्ट्रीय पहचान के साथ गहराई से जुड़ी हुई है।

राठौड़ का दूसरा आरोप राजस्थान में बलात्कार के बढ़ते मामलों पर कांग्रेस पार्टी की प्रतिक्रिया, या कथित कमी से संबंधित है। उन्होंने राज्य में कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार पर कथित तौर पर बलात्कार की घटनाओं की खतरनाक संख्या पर आंखें मूंदने और अपने नागरिकों, विशेषकर महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी कार्रवाई करने में विफल रहने के लिए आलोचना की।

Must Read: क्या तय हो गयी है शांति धारीवाल ,महेश जोशी और धर्मेंद्र राठौड़ की छुट्टी!

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :