अवैध खनन के खिलाफ अभियान: मूंडवा के पास औचक व बड़ी कार्यवाही, दो लीजों पर 11 करोड़ से अधिक की शास्ती -दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही, एक अधिकारी सस्पेंड

मूंडवा के पास औचक व बड़ी कार्यवाही, दो लीजों पर 11 करोड़ से अधिक की शास्ती -दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही, एक अधिकारी सस्पेंड
illegal mining in nagaur
Ad

Highlights

अवैध खनन गतिविधियों के खिलाफ संयुक्त अभियान नागौर के मूंडवा के पास औचक व बड़ी कार्यवाही, -कंसेंट टू ऑपरेट से पहले ही हजारों टन सिलिका सेंड का अवैध खनन व निर्गमन -

जयपुर, 25 जनवरी। मुख्यमंत्री भजन लाल शर्मा के निर्देश पर अवैध खनन गतिविधियों के खिलाफ राज्यव्यापी संयुक्त अभियान के दौरान नागौर के मूंडवा के पास अवैध खनन का बड़ा और अनोखा मामला सामने आया है।

खनन विभाग द्वारा लीज धारक से कंसेट टू आपरेट अर्थात् खनन कार्य शुरु होने की अनुमति से पहले ही एक लाख टन से अधिक खनिज सिलिका सेंड का अवैध खनन कर राज्य सरकार को करोड़ रुपए का नुकसान पहुंचा दिया वहीं अब जांच के बाद नियमानुसार दस गुणा जुर्माना वसूला जाएगा।

राज्य सरकार को गोपनीय सूत्रों से मामले की जानकारी मिलने पर खान सचिव श्रीमती आनन्दी ने दूसरे जिले के अधिकारियों की विशेष टीम गठित कर मौके पर भेज कर जांच कराने पर पूरे मामलें का खुलासा हुआ है। जांच में बड़ी मात्रा में अवैध खनन पाया गया है.

वहीं अब विभाग ने कड़ी कार्यवाही करते हुए इस तरह के दो स्थानों पर एक लाख 8 हजार 305 टन से अधिक अवैध खनन आकलन कर बड़ी कार्यवाही करते हुए 11 करोड़ 90 लाख से अधिक का जुर्माना प्रस्तावित किया है। दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही करते हुए एक अधिकारी को सस्पेंड भी किया गया है।

अजमेर से लगाया जांच दल, गोटन रवाना होेने के दिए निर्देश

खान विभाग ने बेहद गोपनीय तरीके से कार्यवाही करते हुए नागौर मूंडवा क्षेत्र के इस मामलें में अधीक्षण खनि. अभियंता अजमेर पीआर आमेटा को टीम बनाकर तत्काल गोटन पहुंचने के निर्देश दिए गए थे। आमेटा को गोटन पहुंचने पर अवैध खनन स्थान गोटन के पास खजवाना गांव भेजा गया।

वहां पर श्री पीआर आमेटा, खनि अभियंता अजमेर जय प्रकाश गोदारा, तहसीलदार मूंडावा, राजकुमार सिहाग और अन्य अधिकारियों की टीम ने मौका स्थल पर भारी मात्रा में सिलिका सेंड का अवैध खनन के निर्गमन के प्रमाण पायें। दर असल इनमें से एक लीज खान विभाग द्वारा हाल ही में जारी की गई थी और इसी माह की 8 जनवरी, 2024 को कंसेंट टू ऑपरेट हुआ था। जबकि मौके पर आवश्यकता से बड़ी पिट से 71 हजार 498 टन सिलिका सेंड का खनन कर निर्गमन का आकलन किया गया।

इसमें 533 टन सिलिका सेंट का वैधानिक निर्गमन और 9 हजार टन का स्टॉक मौके पर मिला। इसके अलावा मौका मुआयना पर टीम द्वारा 61 हजार 966 टन सिलिका सेंड का अवैध खनन और निगर्मन पाया गया। जांच दल द्वारा इस पर 6 करोड़ 81 लाख रु. की शास्ती लगाई है।

इसी तरह से एक अन्य लीज पर 46 हजार 339 टन सिलिका सेंड का अवैध खनन कर निर्गमन कर राज्य सरकार को नुकसान पहुंचाना पाया गया। इस पर भी जांच दल द्वारा नियमानुसार दस गुणा जुर्माना लगाते हुए 5 करोड़ 9 लाख रु. की शास्ती लगाई गई है।

सिलिका सेंड है महत्वपूर्ण खनिज
नागौर जिले में सिलिका सेंड खनिज बड़ी मात्रा में उपलब्ध है।

अच्छी गुणवत्ता की सिलिका सेंड का उपयोग कांच और कांच से बनने वाले उत्पादों को बनाने में किया जाता है।

इसी तरह से नागौर में नदी की बजरी नहीं होने और खातेदारी बजरी लीजों को न्यायालय के आदेशों से निरस्त होने के कारण हल्की गुणवत्ता की सिलिका सेंड का उपयोग कंस्ट्रक्शन कार्यों में लिया जाता है।

जांच अधिकारियों के अनुसार अधिकांश सिलिका सेंड का खनन कर कंस्ट्रक्शन कार्यों के लिए निर्गमन किया गया है।
मौके पर गहरे गढ़ढे और सिलिका सेंड के टीले. जांच दल ने पाया कि क्षेत्र में सिलिका सेंड के टीले के टीले बने हुए हैं वहीं जगह जगह पर गहरी खुदाई देखी गई है।

राज्यव्यापी संयुक्त अभियान
मुख्यमंत्री भजन लाल के निर्देश पर 15 जनवरी से 31 जनवरी तक समूचे प्रदेश में राज्यव्यापी संयुक्त अभियान चलाया जा रहा है। अभियान के दौरान अब तक करोड़ों रुपए के जुर्माने के साथ ही लाख टन से अधिक अवैध खनिज भण्डारण जब्त किया जा चुका है।

विभाग स्तर पर चौबीसों घंटे सातों दिन चलाये जा रहे नियंत्रण कक्ष में सीधे आमजन से भी जानकारियां प्राप्त की जा रही है और प्राप्त शिकायत पर शीघ्र ही कार्यवाही के लिए संबंधित अधिकारियों को भेज कर तत्काल कार्यवाही रिपोर्ट मांगी जा रही है।

Must Read: टोडाभीम जलदाय विभाग के कर्मचारी ने नाबालिग का किया रेप, मंत्री महेश जोशी बोले- होगी सख्त कार्रवाई

पढें क्राइम खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :