आइजोल बम विस्फोट विवाद: आइजोल बम विस्फोट विवाद अमित मालवीय का अशोक गहलोत पर सचिन पायलट के मुद्दे पर हमला, राजेश पायलट की विरासत पर राजनीतिक टकराव कायम

आइजोल बम विस्फोट विवाद अमित मालवीय का अशोक गहलोत पर सचिन पायलट के मुद्दे पर हमला, राजेश पायलट की विरासत पर राजनीतिक टकराव कायम
Ashok gehlot Amiit malviya Sachin Pilot
Ad

Highlights

मालवीय ने गहलोत के मंत्रिमंडल से हटाए गए राजेश पायलट के बेटे सचिन पायलट का उदाहरण देते हुए, राजेश पायलट के सम्मान की रक्षा करने में गहलोत की ईमानदारी पर सवाल उठाया

मालवीय ने सुझाव दिया कि यदि गहलोत वास्तव में राजेश पायलट का सम्मान करते, तो उन्हें सचिन पायलट के साथ ऐसा व्यवहार नहीं करना पड़ता

Jaipur | आइजोल में हुए हवाई हमले में भारतीय वायु सेना के पूर्व पायलट और कांग्रेस नेता राजेश पायलट की कथित संलिप्तता को लेकर दशकों पुराने विवाद को तूल दिए जाने के बाद राजनीतिक घटकों में कई तरीकों से चर्चा ए आम है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और भाजपा आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय के बीच अब सचिन पायलट के राजनीति और उनके कॅरियर को लेकर भी टकराहट सामने आई है।

इस घटना ने दोनों दलों के बीच राजनीतिक जवाबी हमले को जन्म दिया है, जिसमें आरोप-प्रत्यारोप की हवा चल रही है। इस विवाद ने न केवल ऐतिहासिक घटनाओं बल्कि फिलहाल राजनीति में सरगर्मी जगा दी है।

जब अशोक गहलोत ने भाजपा पर राजेश पायलट का अपमान करने का आरोप लगाया और उन्हें "भारतीय वायु सेना का बहादुर पायलट" बताया। गहलोत का ट्वीट अमित मालवीय के दावों के जवाब में था कि राजेश पायलट, सुरेश कलमाड़ी के साथ, कथित तौर पर 1966 में आइजोल पर हवाई हमले में शामिल थे।

मालवीय के ट्वीट में निहित है कि इन दोनों व्यक्तियों को बाद में कांग्रेस पार्टी के भीतर प्रमुख पदों से पुरस्कृत किया गया था।

जवाबी कार्रवाई में, मालवीय ने गहलोत के मंत्रिमंडल से हटाए गए राजेश पायलट के बेटे सचिन पायलट का उदाहरण देते हुए, राजेश पायलट के सम्मान की रक्षा करने में गहलोत की ईमानदारी पर सवाल उठाया।

मालवीय ने सुझाव दिया कि यदि गहलोत वास्तव में राजेश पायलट का सम्मान करते, तो उन्हें सचिन पायलट के साथ ऐसा व्यवहार नहीं करना पड़ता।

आरोप-प्रत्यारोप का यह आदान-प्रदान और बढ़ गया, साथ ही मालवीय ने केंद्रीय मंत्री के रूप में सचिन पायलट के कार्यकाल के दौरान राजेश पायलट को 1966 के हवाई हमले से जोड़ने वाली समाचार रिपोर्टों के जवाब में कांग्रेस की कथित निष्क्रियता को उजागर किया।

ऐतिहासिक संदर्भ
यह विवाद 1966 में आइजोल पर हुए हवाई हमले में राजेश पायलट और सुरेश कलमाड़ी की कथित संलिप्तता के इर्द-गिर्द घूमता है, जो कथित तौर पर तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी के आदेश पर हुआ था।

इंडियन एक्सप्रेस और टाइम्स ऑफ इंडिया जैसे प्रमुख समाचार पत्रों में प्रकाशित 2011 की समाचार रिपोर्टों में कथित तौर पर असम विधान सभा की कार्यवाही में पायलट और कलमाडी का नाम लिया गया था। इस हड़ताल का उद्देश्य मिजोरम में विद्रोह को दबाना था।

हालांकि राजेश पायलट से जुड़ी तारीखों से यह हमला मेल नहीं खाता है।

सचिन पायलट ने जोरदार खंडन करते हुए कहा था कि उनके पिता ने 1966 में मिजोरम पर किसी भी हवाई हमले में भाग नहीं लिया था। उन्होंने बताया कि राजेश पायलट 29 अक्टूबर, 1966 को भारतीय वायु सेना में एक कमीशन अधिकारी बने थे जबकि कथित हवाई हमले की समयरेखा मार्च 1966 में थी। इस दावे ने उनके पिता के खिलाफ आरोपों की सटीकता को चौड़े किया है।

राजनीतिक पैंतरेबाज़ी और बयानबाजी
इस विवाद ने राजनीतिक दलों को पुराने झगड़े फिर से शुरू करने और अपने विरोधियों के खिलाफ अंक हासिल करने के लिए एक मंच प्रदान किया है।

राजस्थान में कांग्रेस और बीजेपी के बीच चल रहे सत्ता संघर्ष ने इस टकराव को और बढ़ा दिया है. आदान-प्रदान का समय महत्वपूर्ण है, क्योंकि आंतरिक कलह के बाद कांग्रेस अपने खेमे में, खासकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच एकता दिखाने की कोशिश कर रही थी।

अमित मालवीय द्वारा ऐतिहासिक विवाद का रणनीतिक उपयोग करके गहलोत और पायलट के बीच फिर से तनाव पैदा करने वाली तकनीक के रूप में देखा जा रहा है। देखना है कि अब राजनीति किस करवट बैठती है।

Must Read: कहा- एक्सप्रेस-वे में राजस्थान ने मारी डबल सेंचुरी, कांग्रेस मतलब - लूट की दुकान, झूठ का बाजार

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :