यमुना जल के लिए संघर्ष: सबसे अधिक जलस्तर शेखावाटी में गिर रहा है, यमुना का पानी हमारा हक है और वह मिलना चाहिए: यशवर्धन सिंह शेखावत

Ad

Highlights

झुंझुनू जिले के किसानों कहना है कि 1994 में पांच राज्यों के बीच हुए समझौते के बावजूद उन्हें यमुना नहर से पानी का उनका उचित हिस्सा नहीं मिला है।

पानी की यह कमी उनकी आजीविका के प्राथमिक स्रोत कृषि को खतरे में डाल रही है, जिससे कई लोग अपने खेतों को बेचकर खेती ही छोड़ने पर विचार करने के लिए मजबूर हो रहे हैं।

जल स्तर में गिरावट और नहर परियोजना पर प्रगति की कमी ने उनकी हताशा को बढ़ा दिया है।

Jaipur | यमुना जल के लिए संघर्ष कर रहे हैं झुंझुनूं जिले और शेखावाटी के लोग। नासा की रिपोर्ट के अनुसार यदि दुनिया में सबसे अधिक भू—जल स्तर कहीं गिर रहा है तो वह शेखावाटी का है।

बावजूद इसके सरकारें मौन है। ईआरसीपी परियोजना को अमली जामा पहनाकर केन्द्र ने राजस्थान के पूर्वी हिस्से को तो सौगात दे दी है, लेकिन यह इलाका अब डार्क जोन में है। पीने का पानी नहीं, सिंचाई तो छोड़िए। पेयजल भी घटिया खनिज लवणों से युक्त है। यमुना का पानी राजस्थान को दिए जाने को लेकर 31 हजार करोड़ की परियोजना रिपोर्ट बन चुकी है। इसके बावजूद अभी तक मुद्दा वहीं खड़ा है, जहां शुरू हुआ था। यमुना जल संघर्ष समिति के संयोजक यशवर्धनसिंह शेखावत से जब हमने बात की तो सामने आया कि हालात और भी विकट है और लोग इसके लिए लामबंद हो रहे हैं।

शेखावाटी के किसान यमुना नहर के पानी की मांग को लेकर बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन के लिए तैयार हैं. पेशे से साफ्टवेयर इंजीनियर यशवर्धन सिंह शेखावत बताते हैं कि शेखावाटी क्षेत्र के किसान यमुना नहर से पानी हासिल करने के अपने दशकों लंबे संघर्ष को लेकर एक बड़े आंदोलन के कगार पर हैं। वर्षों के अधूरे वादों और घटते जल संसाधनों के बाद, अब वे अपने भविष्य की लड़ाई के लिए सड़कों पर उतरने के लिए तैयार हैं।

शेखावत के अनुसार झुंझुनू जिले के किसानों कहना है कि 1994 में पांच राज्यों के बीच हुए समझौते के बावजूद उन्हें यमुना नहर से पानी का उनका उचित हिस्सा नहीं मिला है। पानी की यह कमी उनकी आजीविका के प्राथमिक स्रोत कृषि को खतरे में डाल रही है, जिससे कई लोग अपने खेतों को बेचकर खेती ही छोड़ने पर विचार करने के लिए मजबूर हो रहे हैं। जल स्तर में गिरावट और नहर परियोजना पर प्रगति की कमी ने उनकी हताशा को बढ़ा दिया है।

आंदोलन का नेतृत्व करने के लिए बनाई गई यमुना जल समिति को जिले भर के विभिन्न संगठनों और ग्रामीणों से समर्थन मिल रहा है।

यमुना जल समझौते को लागू करने और हरियाणा के साथ एक समझौता ज्ञापन की मांग को लेकर 12 फरवरी को झुंझुनू जिला कलक्ट्रेट पर एक विशाल प्रदर्शन आयोजित किया गया है। इससे पहले 5 फरवरी को किसानों की मांग पर ग्राम सभाओं में निर्णय किए जा रहे हैं।

किसानों ने केंद्र सरकार से प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए ईआरसीपी परियोजना के समान हरियाणा और राजस्थान के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने की सुविधा देने का आग्रह किया।

किसानों की मांगें
1994 के समझौते के अनुसार झुंझुनू के हिस्से का यमुना नहर का पानी दिए जाने को लेकर तत्काल प्रभाव से तकनीकी, वित्तीय और प्रशासनिक स्वीकृति जारी हो।

सुचारू जल प्रवाह के लिए हरियाणा के साथ तकनीकी अनुमोदन एवं डीपीआर (विस्तृत परियोजना रिपोर्ट) पर हस्ताक्षर हो।

एमओयू पर हस्ताक्षर करने की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए केंद्र सरकार का हस्तक्षेप हो।

किसानों का कहना है कि निरंतर जल संकट उन्हें अपनी कृषि जीवन शैली को छोड़कर अन्यत्र पलायन करने के लिए मजबूर कर सकता है। वे अपने खेतों को पुनर्जीवित करने और अपना भविष्य सुरक्षित करने के लिए तत्काल कार्रवाई की गुहार लगाते हैं।

Must Read: जोधपुर में राजनाथ सिंह की जनसभा, गहलोत सरकार को लिया आड़े हाथ, कहा- जाते जाते प्रलोभन दे रही सरकार

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :