छा गई राजस्थान की बेटी : जयपुर की दिव्यकृति ने चीन एशियाई खेलों में रोशन किया देश का नाम, चमका भारत का घुड़सवारी सितारा

जयपुर की दिव्यकृति ने चीन एशियाई खेलों में रोशन किया देश का नाम, चमका भारत का घुड़सवारी सितारा
Divyakriti Singh Rathore Jaipur
Ad

Highlights

घुड़सवारी के खेल में दिव्यकृति सिंह राठौड़ की यात्रा 12 साल की उम्र में शुरू हुई। घोड़ों और घुड़सवारी के प्रति उनके जुनून ने उन्हें एक ऐसे रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित किया जो अंततः उन्हें घुड़सवारी उत्कृष्टता के शिखर पर ले जा रहा है।

भारत के राजस्थान के ऐतिहासिक शहर जयपुर की रहने वाली दिव्याकृति का जन्म 22 अक्टूबर 1999 को एक ऐसे परिवार में हुआ, जिसने उन्हें अपने सपनों को आगे बढ़ाने में अटूट समर्थन प्रदान किया।

नई दिल्ली | भारतीय खेलों के लिए एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में, एक कुशल घुड़सवारी एथलीट दिव्यकृति सिंह राठौड़ ने 2023 में चीन के हांग्जो में आयोजित 19वें एशियाई खेलों में ड्रेसेज में टीम स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया है। यह उल्लेखनीय उपलब्धि न केवल यह दिव्यकृति के लिए एक व्यक्तिगत जीत है। बल्कि इसने एशियाई खेलों में घुड़सवारी स्पर्धाओं में भारत के पहले स्वर्ण पदक का गौरव भी हासिल किया है।

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

एक उभरते सितारे के प्रारंभिक वर्ष
घुड़सवारी के खेल में दिव्यकृति सिंह राठौड़ की यात्रा 12 साल की उम्र में शुरू हुई। घोड़ों और घुड़सवारी के प्रति उनके जुनून ने उन्हें एक ऐसे रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित किया जो अंततः उन्हें घुड़सवारी उत्कृष्टता के शिखर पर ले जा रहा है। भारत के राजस्थान के ऐतिहासिक शहर जयपुर की रहने वाली दिव्यकृति का जन्म 22 अक्टूबर 1999 को एक ऐसे परिवार में हुआ, जिसने उन्हें अपने सपनों को आगे बढ़ाने में अटूट समर्थन प्रदान किया।

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

दिव्यकृति ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा राजस्थान के अजमेर में मेयो कॉलेज गर्ल्स स्कूल से प्राप्त की। उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के जीसस एंड मैरी कॉलेज (जेएमसी) से स्नातक करके अपनी शैक्षणिक यात्रा जारी रखी, और साबित किया कि उनमें न केवल घुड़सवारी कौशल है बल्कि शैक्षणिक उत्कृष्टता भी है।

विजय का पथ
दिव्यकृति सिंह की घुड़सवारी की सफलता के शिखर तक की यात्रा को कई प्रशंसाओं और उपलब्धियों से चिह्नित किया गया है। उन्होंने लगातार अपने असाधारण कौशल और खेल के प्रति समर्पण का प्रदर्शन किया है, जिससे उन्हें राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शानदार प्रतिष्ठा मिली है। उनकी कुछ उल्लेखनीय उपलब्धियों में शामिल हैं:

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

आईपीए जूनियर नेशनल पोलो चैंपियनशिप विजेता (2016 और 2017): दिव्यकृति  ने पोलो में उत्कृष्ट प्रदर्शन करके घुड़सवारी के खेल में अपनी बहुमुखी प्रतिभा का प्रदर्शन किया, जहां उन्होंने लगातार वर्षों तक आईपीए जूनियर नेशनल पोलो चैंपियनशिप में जीत हासिल की।

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

जूनियर नेशनल इक्वेस्ट्रियन चैंपियनशिप (2016-2017): नई दिल्ली में आयोजित जूनियर नेशनल इक्वेस्ट्रियन चैंपियनशिप में दिव्यकृति ने व्यक्तिगत वर्ग में रजत पदक और टीम वर्ग में कांस्य पदक अर्जित करके ड्रेसेज में अपनी योग्यता साबित की।

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

जूनियर नेशनल इक्वेस्ट्रियन चैंपियनशिप (2018-2019): दिव्यकृति के समर्पण और लगातार प्रदर्शन का फल तब मिला जब उन्होंने भारत के कोलकाता में आयोजित चैंपियनशिप के दौरान यंग राइडर ड्रेसेज टीम के हिस्से के रूप में स्वर्ण पदक जीता।

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

जूनियर नेशनल इक्वेस्ट्रियन चैंपियनशिप (2019-2020): अपना उल्लेखनीय प्रदर्शन जारी रखते हुए, दिव्यकृति ने बैंगलोर में चैंपियनशिप के दौरान यंग राइडर ड्रेसेज टीम श्रेणी में रजत पदक हासिल किया।

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

रैंकिंग में लगातार बढ़ोतरी
घुड़सवारी के खेल में दिव्यकृति की प्रतिबद्धता और उत्कृष्टता को अंतरराष्ट्रीय मंच पर नजरअंदाज नहीं किया गया। 2023 में, उन्होंने CDI1*DIO1' श्रेणी में एथलीटों के लिए इंटरनेशनल फेडरेशन फॉर इक्वेस्ट्रियन स्पोर्ट्स (FEI) ड्रेसेज विश्व रैंकिंग के अनुसार, 14 की विश्व रैंकिंग और 1 की एशियाई रैंकिंग हासिल की।

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

इन रैंकिंग ने दुनिया के विशिष्ट घुड़सवारी एथलीटों में से एक के रूप में उनकी स्थिति को मजबूत किया और उन्हें अपने अनुशासन में शीर्ष क्रम का एशियाई बना दिया।

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

एशियाई खेलों में कमाया नाम
दिव्यकृति सिंह राठौड़ की घुड़सवारी यात्रा का शिखर 2023 में आया जब उन्होंने चीन के हांगझू में 19वें एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करने का सम्मान अर्जित किया। भारतीय घुड़सवारी टीम के लिए उनका चयन न केवल एक व्यक्तिगत जीत थी, बल्कि खेल के प्रति उनके अटूट समर्पण का भी प्रमाण था।

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

एशियाई खेलों में दिव्यकृति को पूरे महाद्वीप के शीर्ष घुड़सवारी एथलीटों से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ा। हालाँकि, उनका त्रुटिहीन कौशल, शिष्टता और ड्रेसेज की गहरी समझ विजयी संयोजन साबित हुई। सटीकता और शालीनता के आश्चर्यजनक प्रदर्शन में, दिव्यकृति ने ड्रेसेज स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता, और एशियाई खेलों में यह उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल करने वाली पहली भारतीय घुड़सवार के रूप में इतिहास रच दिया।

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

प्रेरणा की विरासत
दिव्यकृति सिंह राठौड़ की जयपुर में एक युवा उत्साही से एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता तक की यात्रा भारत और उसके बाहर के महत्वाकांक्षी एथलीटों के लिए एक प्रेरणा है। उनकी कहानी खेल में उत्कृष्टता हासिल करने में दृढ़ संकल्प, कड़ी मेहनत और परिवार और प्रशिक्षकों के अटूट समर्थन की शक्ति का उदाहरण देती है।

चूँकि दिव्यकृति घुड़सवारी के खेल में नई ऊँचाइयाँ छू रही हैं, उनकी विरासत भारतीय एथलीटों की असीमित क्षमता के प्रमाण के रूप में काम करती है। अपने समर्पण और जुनून से, उन्होंने न केवल अपने परिवार, गृहनगर और देश को गौरवान्वित किया है, बल्कि भारत में घुड़सवारी प्रतिभा की भावी पीढ़ियों के लिए बड़े सपने देखने और ऊंचे लक्ष्य रखने का मार्ग भी प्रशस्त किया है।

divyakriti singh rathore jaipur polo equestrian player

2023 एशियाई खेलों में दिव्यकृति सिंह की स्वर्णिम जीत हमेशा भारतीय खेल इतिहास के इतिहास में अंकित रहेगी, और हम सभी को याद दिलाती रहेगी कि सही भावना और प्रतिबद्धता के साथ, आकाश ही सीमा है। उनकी जीत आशा और प्रेरणा की किरण है, जो दर्शाती है कि कड़ी मेहनत, दृढ़ता और अपनी कला के प्रति अटूट प्रेम से सपने वास्तव में हकीकत बन सकते हैं।

यह लिखा था चयन पर

एशियन टीम में चयन होने पर दिव्याकीर्ति ने लिखा था मैं यह बताते हुए बहुत आभारी और खुश हूं कि एड्रेनालाईन और मुझे इस साल सितंबर में आगामी एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना गया है, और डोना वेटर को मेरे पहले रिजर्व घोड़े के रूप में नामित किया गया है।

इन चैंपियनशिप से पहले पिछले दो वर्षों में यूरोप भर में कई अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में अपने देश का प्रतिनिधित्व करना मेरे लिए सम्मान की बात रही है। एशियाई खेल मेरा एक बड़ा सपना रहा है और मुझे पता है कि मैं अपने घर में इतने सारे खिलाड़ियों के साथ यह सपना साझा करती हूँ। यहां तक पहुंचने के लिए एक गांव की जरूरत पड़ी है, और मुझे मिले सभी समर्थन के लिए मैं अविश्वसनीय रूप से आभारी हूं और मुझे यह अवसर देने के लिए अपने माता-पिता और परिवार की आभारी हूं।

आपके अमूल्य समर्थन और मदद के लिए फैमिली कैसलमैन, फ्रैंकोइस्कासेलमैन और हॉफ कैसलमैन होफकासेलमैन इंसाहनसेन की पूरी टीम को उनके अविश्वसनीय मार्गदर्शन और शीर्ष प्रबंधन के लिए धन्यवाद। आपके खूबसूरत प्रांगण में रहना सौभाग्य की बात है, जहां सवारों और घुड़सवारों की इतनी निपुण, समर्पित और मैत्रीपूर्ण टीम रहती है।

मेल्सन परिवार के लिए, जो कोरोना की चपेट में आने के बाद जब मैं डेनमार्क आया तो घर से दूर मेरा घर बन गया, और मेरी मदद और समर्थन के लिए आगे आया। मैं हेलेन, ऐनी, माइकल और स्ट्रैंडैगरगार्ड के सभी लोगों को बहुत धन्यवाद देता हूं जो शुरू से ही मुझे प्रोत्साहित करते रहे हैं।

सबसे प्यारे घोड़ों के लिए, तुम मेरी दुनिया हो ❤️

रास्ते में मेरा समर्थन करने वाले सभी लोगों को धन्यवाद ????????

मेरे साथियों अनुष अग्रवाल, हृदय छेदा और सुदीप्ति हजेला को भी बहुत-बहुत बधाई। यह आगे की यात्रा बहुत ही रोमांचक होने वाली है और मैं आप सभी के साथ इसमें शामिल होने के लिए रोमांचित हूं। #टीमइंडिया

Must Read: ’आप’ विधायक की चेतावनी- मैच हो रद्द, नहीं तो खोद देंगे पिच

पढें खेल खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :