गोविंद देवजी के नाम पर महाविद्यालय: चार महाविद्यालयों का नामकरण महापुरूषों के नाम पर, इनके नाम पर लगी मुहर

चार महाविद्यालयों का नामकरण महापुरूषों के नाम पर, इनके नाम पर लगी मुहर
Ad

Highlights

पहली बार स्थापित चार महाविद्यालयों का नामकरण महापुरूषों के नाम पर किए जाने से संपूर्ण क्षेत्र की जनता में हर्ष की लहर है। जलदाय मंत्री और हवामहल विधायक डॉ. महेश जोशी (Mahesh Joshi) ने इस अहम फैसले पर हवामहल विधानसभा क्षेत्र की जनता की ओर से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार जताया है। 

जयपुर |  हवामहल विधानसभा क्षेत्र में पहली बार स्थापित चार महाविद्यालयों का नामकरण महापुरूषों के नाम पर किए जाने से संपूर्ण क्षेत्र की जनता में हर्ष की लहर है। 

जलदाय मंत्री और हवामहल विधायक डॉ. महेश जोशी (Mahesh Joshi) ने इस अहम फैसले पर हवामहल विधानसभा क्षेत्र की जनता की ओर से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार जताया है। 

हवामहल विधानसभा क्षेत्र के महाविद्यालयों के नामकरण पर स्थानीय जनता ने भी जलदाय मंत्री और हवामहल विधायक डॉ.महेश जोशी को धन्यवाद दिया है।  

गौरतलब है कि जलदाय मंत्री और हवामहल विधायक डॉ. महेश जोशी के आग्रह पर रविवार को हुई कैबिनेट बैठक में हवामहल विधानसभा क्षेत्र के चारों नव स्थापित महाविद्यालयों के नामकरण पर मुहर लगी। 

इन चार महाविद्यालयों के नाम पर लगी मुहर

इनमें गुलाबी नगरी के असंख्य श्रद्धालुओं की आस्था के केंद्र गोविंद देवजी के नाम पर ब्रह्मपुरी स्थित राजकीय कंवर नगर महाविद्यालय का नामकरण श्री राधागोविंद राजकीय महाविद्यालय कंवर नगर ब्रह्मपुरी किया गया है।

इसी तरह से गंगापोल स्थित कन्या महाविद्यालय का नामकरण भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति, महान वैज्ञानिक और मिसाइल मैन के नाम से विख्यात डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम कन्या महाविद्यालय, गंगापोल रखा गया है। 

वहीं, गणगौरी बाजार स्थित नव स्थापित कन्या महाविद्यालय का नाम सतयुग में भगवान श्रीराम की भक्त मां शबरी के नाम पर मां शबरी राजकीय कन्या महाविद्यालय, गणगौरी बाजार रखा गया है। 

इसी के साथ महान समाज सुधारक और स्त्रियों के उत्थान में अपना अहम योगदान देने वाली विभूति ज्योतिबा फूले के नाम पर जयसिंहपुरा खोर स्थित नव स्थापित राजकीय महाविद्यालय का नाम महात्बा ज्योतिबा फूले राजकीय महाविद्यालय जयसिंहपुरा खोर किया गया है। 

मंत्री महेश जोशी बोले- महापुरूषों के नाम से समाज में सकारात्मक संदेश

मंत्री डॉ. महेश जोशी ने नव स्थापित महाविद्यालयों के नामकरण के अवसर पर कहा कि शिक्षा के मंदिरों के नामकरण का अपना एक महत्व होता है। 

महापुरूषों के नाम पर शिक्षा के मंदिरों के नामकरण से जहां समाज में एक सकारात्मक संदेश जाता है, वहीं शिक्षा के मंदिरों में शिक्षा ग्रहण करने आने वाले छात्रों को उनके जीवन से प्रेरक संदेश भी मिलते हैं। 

महापुरूषों के जीवन से प्राप्त प्रेरक संदेशों का अनुसरण कर छात्र अच्छे नागरिक बनकर ना सिर्फ खुद का जीवन बेहतर बनाते हैं बल्कि देश-प्रदेश और समाज की उन्नति में अपनी भागीदारी निभाने के लिए प्रेरित होते हैं।

Must Read: क्या राहुल गांधी कोटड़ी, सलूंबर, बीकानेर और डूंगरपुर रेप पीड़िताओं के घर भी जाएंगे या सिर्फ वोट मांगने आ रहे हैं

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :