राम मंदिर: इंडी गठबंधन की सरकार बनी तो राहुल गांधी राम मंदिर का फैसला पलट सकते हैं-आचार्य प्रमोद कृष्णम

इंडी गठबंधन की सरकार बनी तो राहुल गांधी राम मंदिर का फैसला पलट सकते हैं-आचार्य प्रमोद कृष्णम
राम मंदिर का फैसला पलट देंगे राहुल गांधी-आचार्य प्रमोद कृष्णम
Ad

Highlights

  • राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट से फैसला आने के बाद राहुल गांधी ने अपने करीबी सहयोगियों के साथ बैठक की
  • राम मंदिर के फैसले को वैसे ही पलट देंगे जैसे राजीव गांधी ने शाह बानो के फैसले को पलट दिया 
  • प्रमोद कृष्णम ने कहा कि कांग्रेस के नेता राम विरोधी हैं और तभी वो राम मंदिर के उद्घाटन समारोह में नहीं गए
जयपुर | कल्कि पीठ के प्रमुख और प्रियंका गांधी के पूर्व सलाहकार आचार्य प्रमोद कृष्णम ने राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा है। पूर्व कांग्रेसी नेता(congress leader) राम मंदिर और कांग्रेस को लेकर बड़ा दावा किया। उन्होंने कहा कि अगर आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत होती है और देश में इंडी गठबंधन(indie alliance) की सरकार बनी तो वो राम मंदिर का फैसला पलट सकते हैं। राहुल गांधी इसको लेकर योजना बना चुके हैं और अपने नेताओं के साथ बैठक कर चुके हैं।
 
राहुल गांधी ने राम मंदिर पर फैसला आते ही बनाई थी योजना 

आचार्य प्रमोद कृष्णम ने दावा किया कि राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट से फैसला आने के बाद राहुल गांधी ने अपने करीबी सहयोगियों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार बनने के बाद वे एक महाशक्ति आयोग बनाएंगे और राम मंदिर के फैसले को वैसे ही पलट देंगे जैसे राजीव गांधी ने शाह बानो के फैसले को पलट दिया था। आचार्य प्रमोद कृष्णम ने दावा करते हुए कहा कि मैंने कांग्रेस(INC) में 32 साल से अधिक समय बिताया है इसलिए मैं उनके बारे में अच्छे से जानता हूं। 

क्या था शाह बानो केस  

अप्रैल 1978 में 62 वर्षीय मुस्लिम महिला शाह बानो ने पति से तीन तलाक मिलने के बाद अदालत में गुजारा भत्ता पाने के लिए एक याचिका डाली थी। इस पर सुनवाई के बाद हाई कोर्ट ने शाह बानो के पक्ष में फैसला सुनाया, जिसे बाद में सुप्रीम कोर्ट ने भी बरकरार रखा। इसके बाद तत्कालीन राजीव गांधी सरकार ने मई 1986 को मुस्लिम महिला (विवाह विच्छेद पर अधिकार संरक्षण) अधिनियम पारित किया। संसद में Protection of rights on divorce अधिनियम पास होने के बाद शीर्ष अदालत के फैसले को रद्द कर दिया गया।


 राम विरोधी हैं, कांग्रेस के नेता
राम मंदिर के मुद्दे पर कांग्रेस को घेरते हुए प्रमोद कृष्णम ने कहा कि कांग्रेस(INC) के नेता राम विरोधी है इसलिए वो राम मंदिर के उद्घाटन समारोह में नहीं गए थे। आचार्य प्रमोद पहले भी कांग्रेस को राम मंदिर के मुद्दे पर घेरते रहे हैं। राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह के निमंत्रण को अस्वीकार करने पर आचार्य ने कांग्रेस के बड़े नेताओं पर निशाना साधा था। इसी कारण उन्हें पार्टी ने निष्कासित कर दिया था। 

 दो धड़ों में बंटेगी कांग्रेस चुनाव के बाद

आचार्य ने हाल ही में कहा था कि प्रियंका के खिलाफ कांग्रेस(INC) में राजनीतिक साजिश हो रही है। उन्होंने कहा कि प्रियंका को पार्टी अध्यक्ष बनने से रोका गया और फिर न राज्यसभा भेजा गया और न ही उन्हें कोई बड़ा पद दिया गया। ये साजिश कई सालों से चल रही है। उन्होंने कहा कि 4 जून को लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद कांग्रेस दो धड़ों में बंट जाएगी क्योंकि कार्यकर्ताओं और कई नेताओं में गुस्सा भरा हुआ है।

Must Read: जालौर सिरोही लोकसभा से भाजपा प्रत्याशी लुम्बाराम चौधरी ने नामांकन दाखिल किया

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :