राजस्थान पुलिस: पुलिस सेवाभाव एवं संवेदनशीलता से करे कार्य -मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा

पुलिस सेवाभाव एवं संवेदनशीलता से करे कार्य -मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा
परेड निरीक्षण करते हुए सलामी
Ad

Highlights

  • राजस्थान पुलिस स्थापना दिवस समारोह
  • राज्य सरकार प्रतिबद्ध अपराध मुक्त राजस्थान के लिए 
  • मुख्यमंत्री ने उत्कृष्ट सेवाओं के लिए पुलिस अधिकारी एवं कार्मिकों को पुलिस पदक से सम्मानित किया।

जयपुर। मुख्यमंत्री (CM)  भजनलाल शर्मा ने कहा कि प्रदेश में शांति एवं कानून व्यवस्था को बनाए रखना राज्य सरकार की प्रमुख प्राथमिकता है। ‘आमजन में विश्वास और अपराधियों में भय’ के ध्येय वाक्य के साथ राजस्थान पुलिस कर्मठता से अपने कर्तव्य का निर्वहन कर रही है।

शर्मा बुधवार को राजस्थान पुलिस स्थापना दिवस के अवसर पर राजस्थान पुलिस अकादमी (Rajasthan Police Academy) में आयोजित राज्य स्तरीय समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने सभी पुलिसकर्मियों एवं अधिकारियों को स्थापना दिवस की बधाई दी। साथ ही, कर्तव्य निर्वहन के दौरान शहीद हुए वीर जवानों को नमन किया।

उन्होंने कहा कि राजस्थान पुलिस (Rajasthan Police) ने अपने 75 वर्षों के गौरवशाली इतिहास में वीरता, कर्तव्यनिष्ठा और जनसेवा की एक अद्वितीय मिसाल पेश की है जो अपराध मुक्त राजस्थान की दिशा में मील का पत्थर साबित हो रहा है।

लगातार बड़े फैसले हो रहे आमजन की सुरक्षा के लिए 

शर्मा ने कहा कि आमजन की सुरक्षा के लिए राज्य सरकार (state government) लगातार कई बड़े फैसले ले रही हैं, जिससे अपराध के आंकड़ों में गिरावट आई है। राज्य सरकार ने पेपरलीक (Paperleak) मामले में एसआईटी (SIT) जांच, एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स (Anti Gangster Task Force) का गठन, महिला एवं दलित अत्याचार को कम करने सहित विभिन्न मामलों में कई नीतिगत निर्णय लिए हैं, जिनके अपेक्षित परिणाम सामने आ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि महिला सुरक्षा व सशक्तीकरण को बढ़ावा देने के लिए एंटी रोमियो स्क्वाड (Anti Romeo Squad) का गठन किया गया है। साथ ही, 174 पुलिस थानों में भी महिला डेस्क की स्थापना कर महिला परिवादियों की सुनवाई सुनिश्चित हो रही है। उन्होंने विश्वास दिलाया कि संवैधानिक मूल्यों की सुरक्षा के लिए प्रदेश सरकार और पुलिस कृत-संकल्पित है।

आधुनिक पुलिस के लिए संकल्पबद्ध राज्य सरकार 

मुख्यमंत्री ने कहा कि समय के साथ अपराधों के तरीके बदल रहे हैं, ऐसे में राजस्थान पुलिस भी खुद को लगातार आधुनिक बना रही है। पुलिस बल को आधुनिक हथियारों, फॉरेंसिक साइंस (forensic science) और साइबर अपराध की रोकथाम जैसी तकनीकों में दक्ष बनाया जा रहा है ताकि वे भविष्य में आने वाली प्रत्येक चुनौती का सामना कर सकें।

उन्होंने कहा कि रामराज्य की परिकल्पना को साकार करते हुए हमारी सरकार आम जनता की सुरक्षा को लेकर पूरी मुस्तैदी के साथ काम कर रही है।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर राजस्थान पुलिस कल्याण निधि के लिए 1.5 करोड़, राजस्थान पुलिस बेनेवलेन्ट फण्ड (Benevolent Fund) के लिए 1 करोड़ तथा उत्सव फंड में 1 करोड़ से बढ़ाकर 1.5 करोड़ रुपए आवंटित करने की घोषणा भी की। इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक यू आर (UR) साहू ने कहा कि जनमानस में पुलिस की विश्वसनीयता तथा कर्तव्यपरायणता को और मजबूत बनाने में राजस्थान पुलिस कोई कोर कसर नहीं छोड़गी।

इससे पहले शर्मा ने पुलिस शहीद स्मारक पर पुष्प अर्पित कर शहादत को नमन किया। मुख्यमंत्री ने आरपीए (RPA) के परेड ग्राउण्ड में सेरेमोनियल परेड में राजस्थान पुलिस अकादमी, चतुर्थ एवं पांचवीं बटालियन आरएसी (RAC), हाड़ी रानी बटालियन, एसडीआरएफ (SDRF), जीआरपी (GRP), एमबीसी (MBC) एवं ईआरटी (ERT) की एक-एक प्लाटून के अलावा जयपुर पुलिस आयुक्तालय की तीन प्लाटून (निर्भया स्कवॉड, पुलिसकर्मी और यातायात प्लाटून) का परेड निरीक्षण करते हुए सलामी ली।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने उत्कृष्ट सेवाओं के लिए पुलिस अधिकारी एवं कार्मिकों को पुलिस पदक से सम्मानित किया। कार्यक्रम में मुख्य सचिव सुधांश पंत, महानिदेशक भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो रवि प्रकाश मेहरड़ा, महानिदेशक पुलिस एस.सी.आर.बी. हेमन्त प्रियदर्शी, महानिदेशक इन्टेलिजेन्स संजय कुमार अग्रवाल सहित पुलिस विभाग के बड़ी संख्या में अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित थे।

Must Read: गहलोत सरकार के खिलाफ एक अगस्त को भाजपा का महाआंदोलन

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :