सरपंचगण से संवाद कार्यक्रम: मुख्यमंत्री ने सरपंचों के साथ विकास के मुद्दों पर की चर्चा - ग्राम पंचायतों के विकास कार्यों के लिए कार्ययोजना बनाने के दिये निर्देश

मुख्यमंत्री ने सरपंचों के साथ विकास के मुद्दों पर की चर्चा - ग्राम पंचायतों के विकास कार्यों के लिए कार्ययोजना बनाने के दिये निर्देश
Chief Minister Bhajanlal Sharma visits Barmer on Wednesday
Ad

Highlights

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना का जिक्र करते हुए कहा कि स्थानीय निवासी इस योजना का लाभ उठाएं। उन्होंने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार के नवीन अवसर प्रदान किए हैं

जयपुर । मुख्यमंत्री श्री भजनलाल शर्मा ने सीमावर्ती ग्राम पंचायतों में रह रहे विस्थापितों के लिए अलग से कार्य योजना बनाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि बाड़मेर जिले की अंतरराष्ट्रीय सीमा से जुड़ी ग्राम पंचायतों का सर्वांगीण विकास हमारी प्राथमिकता है।

भजनलाल शर्मा ने कहा कि आधारभूत विकास के लिए राज्य सरकार की ओर से हर सम्भव मदद उपलब्ध कराई जाएगी। श्री शर्मा ने कहा कि सरपंच ग्राम पंचायत के विकास एवं जनसेवा का प्रमुख आधार हैं।
 
 मुख्यमंत्री श्री भजनलाल शर्मा बुधवार को बाड़मेर दौरे के तहत जिला परिषद् सभागार में सीमावर्ती ग्राम पंचायतों के सरपंचों व जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक को सम्बोधित कर रहे थे।
भजनलाल शर्मा नेसरपंचों को सम्बोधित करते हुए कहा कि पंचायतीराज व्यवस्था के तहत प्रत्येक गांव का मूलभूत विकास सुनिश्चित किया जाएगा। उन्होंने सीमावर्ती 49 ग्राम पंचायतों के विकास के संबंध में जिला कलक्टर को निर्देश दिए कि विकास की जरूरतों को सूचीबद्ध कर रिपोर्ट तैयार करें और समय-समय पर इनकी मॉनिटरिंग करें।
भजनलाल शर्मा ने जिला कलक्टर को इस कार्य के लिए अधिकारियों को नियुक्त करने के निर्देश दिए। श्री शर्मा ने कहा कि जिला प्रशासन राज्य सरकार की योजनाओं की सफल क्रियान्विति के लिए टीम भावना के साथ कार्य करें।
 
भजनलाल शर्मा ने शासन सचिव ग्रामीण विकास विभाग एवं पंचायतीराज को ग्राम पंचायतों में बिजली, पानी, चिकित्सा, शिक्षा, सड़क जैसी आधारभूत आवश्यकताओं से जुड़े कार्यों की सूची तैयार कर इन्हें समय से पूरा करने के निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना का जिक्र करते हुए कहा कि स्थानीय निवासी इस योजना का लाभ उठाएं। उन्होंने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार के नवीन अवसर प्रदान किए हैं
सरपंचगण इन योजनाओं का अधिकाधिक स्थानीय निवासियों को लाभ दिलाने का कार्य करें। श्री शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के विकास के संकल्प ने भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत बाड़मेर जिले के सीमावर्ती क्षेत्र के विकास को नवीन गति प्रदान की है।
 
मुख्यमंत्री से बोले सरपंच-आप से संवाद खोलेगा विकास की राह-
 मुख्यमंत्री श्री भजनलाल शर्मा ने बैठक में मौजूद सीमावर्ती ग्राम पंचायतों के सरपंचों से संवाद कर विकास की आवश्यकताओं को जाना। संवाद के तहत सरपंचों ने कहा कि गत सरकार में ग्राम पंचायतों के विकास को लेकर चले लम्बे संघर्ष व उन पर की गई टिप्पणियों ने उनका मनोबल कम कर दिया था।
आज मुख्यमंत्री के साथ पंचायतों के विकास कार्यांे को लेकर इस संवाद ने एक बार पुनः विकास की नई राह खोली है। सरपंचों ने मुख्यमंत्री श्री शर्मा से चौहटन में पर्यटन के विकास हेतु मदद उपलब्ध कराने की अपील की।
ग्राम पंचायतों में मजबूत सड़क कनेक्टिविटी, रोजगार के प्रमुख आधार पशुधन एवं आमजन के लिए पीने के पानी, स्कूलों में शिक्षा के आधारभूत विकास, गौशाला निर्माण, बिजली कनेक्शन, आंगनबाड़ी, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, पशु चिकित्सालय को लेकर अपनी आवश्यकताओं से अवगत कराया।
मुख्यमंत्री श्री शर्मा ने सभी सरपंचों से कहा कि पंचायत की आवश्यकताओं के तहत विकास कार्यों को कार्य योजना बनाकर पूरा कराया जाएगा। मुख्यमंत्री ने इसके लिए ग्रामीण विकास विभाग एवं पंचायतीराज के उच्च अधिकारियों व जिला कलक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश प्रदान किए।
 
 इस अवसर पर केन्द्रीय कृषि एवं कृषक कल्याण राज्यमंत्री श्री कैलाश चौधरी, प्रदेश के उद्योग एवं वाणिज्य राज्यमंत्री श्री कृष्ण कुमार के.के. विश्नोई, विधायक श्री आदूराम मेघवाल, श्री रविन्द्र सिंह भाटी, डॉ. प्रियंका चौधरी, शासन सचिव ग्रामीण विकास विभाग श्री आशुतोष ए.टी. पेडणेकर, शासन सचिव पंचायतीराज श्री रवि जैन, संभागीय आयुक्त श्री बीएल मेहरा, आईजी रेंज श्री विकास कुमार, जिला कलक्टर डॉ. निशान्त जैन, जिला पुलिस अधीक्षक नरेन्द्र सिंह मीणा, जिला परिषद मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री सिद्धार्थ पालानीचामी सहित जिला स्तरीय अधिकारी एवं सरपंचगण मौजूद रहे।

Must Read: गोविन्द सिंह डोटासरा और राजेन्द्र राठौड़ आपस में भिड़े, राठौड़ ने कहा कि चूरू की धरती नाथ का बाड़ा नहीं है

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :