आश्रम आने से मना किया तो गला काटा: शिष्य सुन्दरनाथ ने ही कुल्हाड़ी से की थी संत गजाराम की हत्या, 8 महीने बाद पुलिस ने किया खुलासा

शिष्य सुन्दरनाथ ने ही कुल्हाड़ी से की थी संत गजाराम की हत्या, 8 महीने बाद पुलिस ने किया खुलासा
crime scene
Ad

Highlights

6 नवम्बर को जब परिजन पहुंचे तो ड्रम से खून बह रहा था। पुलिस ने भवानी शंकर पुत्र गजा महाराज की रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर जांच शुरू की। आरोपी सुन्दरनाथ, जो योगी शुक्रनाथ का शिष्य था, को गिरफ्तार कर लिया गया।

जालोर | जालोर में संत गजाराम की 8 माह पूर्व कुल्हाड़ी से काट कर नृशंस हत्या करने का का पुलिस ने आठ महीने बाद पर्दाफाश कर दिया है। मामले में आरोपी शिष्य सुन्दरनाथ को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

पाली रेंज के उप महानिरीक्षक ओमप्रकाश ने बताया कि यह वारदात जालोर के जसवंतपुरा के पंसेरी गांव में पहाड़ी पर स्थित नीलकंठ महादेव मंदिर की कुटिया में हुई थी। वहां तपस्या करने वाले गजा महाराज की लगभग 8 महीने पहले 30 अक्टूबर से 6 नवम्बर 2023 के बीच अज्ञात व्यक्ति द्वारा हत्या कर दी गई थी। आरोपी ने शव को कुटिया में रखे एक ड्रम में बांधकर डाल दिया था और कुटिया में रखे बिस्तर ऊपर रख दिए, जिससे उनकी मौत हो गई।

6 नवम्बर को जब परिजन पहुंचे तो ड्रम से खून बह रहा था। पुलिस ने भवानी शंकर पुत्र गजा महाराज की रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर जांच शुरू की। आरोपी सुन्दरनाथ, जो योगी शुक्रनाथ का शिष्य था, को गिरफ्तार कर लिया गया।

200 मीटर दूर मिली आरोपी की लोकेशन

जालोर एसपी ज्ञानचंद्र यादव ने बताया कि घटना की जांच में सुन्दरनाथ का घटना स्थल से मात्र 200 मीटर पर होना पाया गया। इसके बाद सीसीटीवी कैमरों को चेक किया गया और घटना स्थल के बीटीएस डम्प डेटा लेकर तकनीकी सहायता से कॉल डिटेल की जांच की गई। इसमें उत्तर प्रदेश के गोवर्धन थाना क्षेत्र के संदिग्ध रोहित शर्मा उर्फ सुन्दरनाथ (19) उर्फ तन्नु पुत्र गोपाल प्रसाद शर्मा को इंदौर से गिरफ्तार किया गया।

बहस के बाद कुल्हाड़ी से किए वार

आरोपी सुन्दरनाथ ने बताया कि 30 से 31 अक्टूबर 2023 की मध्यरात्रि को वह आश्रम जा रहा था। इस बीच रास्ते में नीलकंठ महादेव मंदिर पंसेरी में पहुंचा तो गजा महाराज की कुटिया में लाइट जल रही थी। वहां पहुंचने पर गजा महाराज ने उसे डांटा, जिससे दोनों में बहस हो गई। तब उसने आवेश में आकर कुटिया के दरवाजे के पास रखी कुल्हाड़ी से गजा महाराज के सिर पर वार किया, जिससे उनके सिर से खूब खून बहने लगा और वे नीचे गिर गए। इसके बाद उसने उनके हाथ-पांव और मुंह बांध कर कुटिया में पड़े ड्रम में डालकर बंद कर दिया, जिससे उनकी मौत हो गई। फिर रात में कुटिया की साफ-सफाई कर मौके से भाग गया।

Must Read: जमीनी लोकतंत्र को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका में है पंचायती राज प्रणाली

पढें क्राइम खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :