Rajasthan: कमला बेनीवाल का निधन, इन कारणों से उन्हें याद करना बनता है

कमला बेनीवाल का निधन, इन कारणों से उन्हें याद करना बनता है
Kamala Beniwal
Ad

Highlights

कमला बेनीवाल ने 97 साल की उम्र में अंतिम सांस ली। उनका जन्म राजस्थान के झुंझुनू जिले के गोरिर गांव के जाट परिवार में 12 जनवरी 1927 को हुआ था। वह कांग्रेस की महिला मोर्चे की प्रदेश अध्यक्ष भी रही थीं।

जयपुर | गुजरात की गवर्नर रहीं वरिष्ठ कांग्रेस नेता कमला बेनीवाल का आज जयपुर में निधन हो गया। 
राजस्थान की पहली विधानसभा की एकमात्र जीवित सदस्य श्रीमती कमला बेनीवाल का निधन। उप चुनाव में आमेर ए सीट से चुनाव जीतकर वे सदन में पहुंची थीं। पहले सदन में मात्र दो ही महिलाएं थीं। मूल चुनाव में बांसवाड़ा से जीतकर पहुंची यशोदा रानी और उप चुनाव में पहुंची श्रीमती कमला! कमला बेनीवाल को याद किया जाना चाहिए नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली गुजरात सरकार को राज्यपाल की शक्तियों का अहसास कराने के लिए।
उन्हें याद किया जाना चाहिए राजस्थान में एक सशक्त महिला मंत्री के रूप में। उन्हें याद किया जाना चाहिए नॉर्थ ईस्ट के किसी भी प्रदेश में पहली महिला गवर्नर होने के रूप में। वे सात बार विधायक बनीं। विधायक बनने की संख्या के लिहाज से वे सुमित्रा सिंह के बाद दूसरे नम्बर पर हैं। वे राजस्थान की पहली महिला उप मुख्यमंत्री भी रहीं। इस वजह से भी याद करना बनता है। उन्हें याद किया जाना चाहिए बहुत से कारणों से...। वे 97वें वर्ष की थीं। उनका जयपुर के फोर्टिस अस्पताल में उपचार के दौरान निधन हो गया।
झुंझुनूं जिले की रहने वाली थीं
कमला बेनीवाल ने 97 साल की उम्र में अंतिम सांस ली। उनका जन्म राजस्थान के झुंझुनू जिले के गोरिर गांव के जाट परिवार में 12 जनवरी 1927 को हुआ था। वह कांग्रेस की महिला मोर्चे की प्रदेश अध्यक्ष भी रही थीं।
सात बार रहीं विधायक
  • 04/03/1952 - 00/06/1954 सदस्य, पहली राजस्थान विधान सभा रहीं। वे आमेर ए सीट पर उप चुनाव में करणीराम दास को  5 हजार 260 वोट से हराकर विधानसभा पहुंची।
  • 03/03/1962 - 28/02/1967 सदस्य, तीसरी राजस्थान विधान सभा रहीं। वे बैराठ सीट पर धर्मेन्द्र को 3186 सीट से हराती हैं।
  • 5वीं विधानसभा में वे दूदू सीट से रघुवीर सिंह को चुनाव हराकर विधायक बनीं। अंतर 13442 वोट का रहा।
  • 7वीं विधानसभा के लिए हुए चुनाव में वे बैराठ सीट पर ओमप्रकाश गुप्ता से 4632 वोटों से चुनाव जीतीं।
  • 8 वीं विधानसभा के लिए उन्होंने बैराठ सीट पर ओम प्रकाश गुप्‍ता को  413 वोटों से हराया था।
  • 10 वीं विधानसभा के लिए उन्होंने बैराठ सीट पर ओम प्रकाश गुप्‍ता को  14 हजार 110 वोटों से शिकस्त दी।
  • 11 वीं विधानसभा के लिए हुए चुनाव में उन्होंने जयपुर बैराठ (सामान्य) सीट पर बीजेपी के राव राजेन्द्रसिंह को 10 हजार 453 वोट से हराया।
जानिए कौन थीं कमला बेनीवाल
कमला बेनीवाल की प्रारंभिक शिक्षा झुंझनूं में ही हुई थी। उन्होंने अर्थशास्त्र, राजनीति शास्त्र और इतिहास में स्नातक की डिग्री हासिल की थी। वे बनस्थली विद्यापीठ में अध्ययनरत रहीं और राजस्थान विश्वविद्यालय में भी पढ़ी थीं। कमला बेनीवाल साल 1954 में 27 वर्ष की उम्र में विधानसभा चुनाव जीतकर राजस्थान सरकार में पहली महिला मंत्री बनीं। कमला बेनीवाल 27 नवम्बर 2009 को गुजरात की राज्यपाल नियुक्त हुईं थीं और इससे पहले त्रिपुरा का राज्यपाल भी रही थीं।
बेनीवाल 1954 से राजस्थान में लगातार कांग्रेस सरकारों में मंत्री रहे, और उनके पास गृह, चिकित्सा और स्वास्थ्य, शिक्षा और कृषि सहित विभिन्न महत्वपूर्ण विभाग थे। वह अशोक गहलोत सरकार में राजस्व मंत्री थीं।
1980 से 1990 तक एक दशक तक वह राजस्थान सरकार में कैबिनेट मंत्री रहीं। इस दौरान उनके पास कृषि, पशुपालन, सिंचाई, श्रम और रोजगार, शिक्षा, कला और संस्कृति, पर्यटन और एकीकृत ग्रामीण विकास जैसे विविध विभाग थे।
1993 में वह मंत्री नहीं रहीं लेकिन फिर भी बैराठ (अब विराटनगर), जयपुर से विधान सभा के लिए चुनी गईं। 1998 में वह फिर से कैबिनेट मंत्री बनीं और 2003 से राजस्थान की उप मुख्यमंत्री रहीं।
अपने लंबे करियर में वह राज्य कांग्रेस पार्टी के कामकाज से निकटता से जुड़ी रही और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की सदस्य हैं। पार्टी के पदों में उन्होंने 1977 के चुनावों के दौरान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संयुक्त सचिव, राजस्थान कांग्रेस कार्यकारी समिति के सदस्य, राजस्थान महिला कांग्रेस के अध्यक्ष, राजस्थान प्रदेश चुनाव समिति के सदस्य और फिर चुनाव अध्यक्ष के रूप में कार्य किया। अभियान समिति.
बेनीवाल लंबे समय तक राजस्थान राज्य सरकार में मंत्री रहे और विभिन्न कैबिनेट पदों पर रहे। एक मंत्री के रूप में उन्होंने लगभग 50 वर्षों तक राजस्थान सरकार की सेवा की है।
अक्टूबर 2009 में उन्हें त्रिपुरा का राज्यपाल नियुक्त किया गया। वह पूर्वोत्तर भारत के किसी भी राज्य की पहली महिला राज्यपाल थीं।[5] एक महीने बाद, उन्हें 27 नवंबर 2009 को गुजरात का राज्यपाल नियुक्त किया गया जहां उन्होंने चार साल से अधिक समय तक सेवा की। 6 जुलाई 2014 को उनका तबादला मिज़ोरम के राज्यपाल पद पर कर दिया गया।
वह 1954 में 27 साल की उम्र में राजस्थान की पहली महिला मंत्री बनीं। वह किसी भी पूर्वोत्तर राज्य की पहली महिला राज्यपाल रही हैं। स्वतंत्रता संग्राम में उनके योगदान के लिए पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने उन्हें ताम्रपत्र से सम्मानित किया था।

Must Read: नेताओं के बिगड़ रहे बोल, कहीं सुनाई दिया जहरीला सांप, तो कहीं विषकन्या और राजनीति का रावण

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :