न्याय के लिए किरोड़ीलाल ने खोला मोर्चा: चुनावी ड्यूटी में लगे एसआई ने 4 साल की मासूम से की दरिंदगी

चुनावी ड्यूटी में लगे एसआई ने 4 साल की मासूम से की दरिंदगी
Ad

Highlights

सांसद मीणा अपने व्यस्त चुनावी कार्यक्रम को छोड़कर मौके पर पहुंच गए हैं। 

दौसा | राजस्थान में चुनावों के दौरान जनता को सुरक्षा प्रदान करने वाले ही हैवान बनते दिख रहे हैं। 

दौसा जिले में चुनाव की ड्यूटी में लगे पुलिसकर्मी ने अपनी हैवानित से खाकी को शर्मसार कर दिया है।

जिले के लालसोट विधानसभा क्षेत्र के राहुवास गांव में एक सब-इंस्पेक्टर (SI) पर 4 साल की मासूम बच्ची से रेप का आरोप लगा है। 

इस वारदात ने पूरे प्रदेशवासियों को हिलाकर रख दिया है। लोगों का कहना है कि ऐसी घटनाओं को देखकर कौन खाकी पहनने वालों पर विश्वास कर सकता है। 

इस मामले के बाद से राहुवास थाने के बाहर सैकड़ों लोग विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। गुस्साए लोग आरोपी एसआई भूपेंद्र सिंह को फांसी की सजा दिए जाने की मांग कर रहे हैं।

मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने सब-इंस्पेक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करते हुए गिरफ्तार कर लिया है। 

मासूम को न्याय दिलाने के लिए किरोड़ी लाली मीणा ने खोला मोर्चा

राज्यसभा सांसद और भाजपा नेता किरोड़ीलाल मीणा (Kirodi Lal Meena) ने भी बच्ची और उसके परिवार को न्याय दिलाने लेकर मोर्चा खोल दिया है। 

सांसद मीणा अपने व्यस्त चुनावी कार्यक्रम को छोड़कर मौके पर पहुंच गए हैं। 

सांसद किरोड़ी लाल मीणा और लालसोट से भाजपा प्रत्याशी रामविलास मीणा भी मौके पर पहुंचे। रेपिस्ट सब इंस्पेक्टर को सेवा से बर्खास्त करने, थाने के संपूर्ण स्टाफ को निलंबित करने की मांग की गई।

साथ ही दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों को राज्य सरकार द्वारा आर्थिक मुआवजा दिए जाने की भी मांग रखी गई है। 

काफी देर तक धरना प्रदर्शन के बाद सांसद किरोड़ी लाल मीणा मासूम बच्ची को लेकर दौसा जिला अस्पताल पहुंचे।  जहां मेडिकल बोर्ड बनाया गया।  इस मेडिकल बोर्ड ने पीड़िता का मेडिकल किया।

इस दौरान सांसद किरोड़ी मीणा ने कहा कि जब पीड़िता को बचाने उसके माता-पिता गए तो पुलिसकर्मियों ने और गांव के कुछ लोगों ने पीड़िता के माता-पिता के साथ मारपीट की।

इसी के साथ उन्होंने सोशल मीडिया पर भी अपना गुस्सा जाहिर करते हुए कहा कि, लालसोट में 7 साल की दलित बच्ची के साथ पुलिसकर्मी द्वारा दुष्कर्म की घटना से लोगों में भारी आक्रोश है। 

मासूम को न्याय दिलाने के लिए मौके पर पहुंच गया हूं। अशोक गहलोत सरकार के नाकारापन से निरंकुश हुई पुलिस चुनाव जैसे संवेदनशील मौके पर भी ज्यादती करने से बाज नहीं आ रही।

इस मामले को लेकर अब राजनीति गरमा गई है। भाजपा समेत अन्य विपक्षी दल इस मुद्दे पर अशोक गहलोत की कांग्रेस सरकार को घेरने में लगे हुए हैं।

क्या है पूरा मामला ?

जानकारी के मुताबिक, विधानसभा चुनाव को देखते हुए आरोपी सब इंस्पेक्टर भूपेंद्र सिंह को राहुवास थाने में ड्यूटी के लिए भेजा था। 

सब-इंस्पेक्टर भूपेंद्र सिंह एक अन्य पुलिसकर्मी के किराए के कमरे में रह रहा था।

इसी दौरान उसने बच्चों के साथ खेल रही एक 4 साल की मासूम को कमरे में बुलाकर उसके साथ दरिंदगी कर डाली।

इन सब चीजों से अनजान बच्ची ने ये सारी घटना अपने परिजनों को बताई तो उनके होश उड़ गए। 

पुलिसकर्मी की इस वारदात से पूरे राहुवास क्षेत्र में हड़कंप मच गया और लोग सड़क पर उतार आए। 

Must Read: तेरह साल की मासूम से गैंगरेप, अपहरण करके ले गए दरिंदे, चौबीस घंटे बंधक बनाकर रखा

पढें क्राइम खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :