Jalore Sirohi Loksabha: जिला उपाध्यक्ष राठौड़ ने कांग्रेस को दिखाया आंखों में लाल रंग, टिकट नहीं तो निर्दलीय लड़ेंगे चुनाव

जिला उपाध्यक्ष राठौड़ ने कांग्रेस को दिखाया आंखों में लाल रंग, टिकट नहीं तो निर्दलीय लड़ेंगे चुनाव
Lal Singh Rathore Address People in Varada Hanuman Mandir Rajasthan
Ad

Highlights

लाल सिंह राठौड़ के नेतृत्व में वराड़ा हनुमान मंदिर में राजपूत क्षत्रिय एकता सम्मेलन का आयोजन

जालोर | सिरोही—जालोर लोकसभा क्षेत्र के एक महत्वपूर्ण राजनीतिक घटनाक्रम में, जालोर जिला कांग्रेस के उपाध्यक्ष लाल सिंह धानपुर ने पार्टी को 'आंख में लाल रंग' दिखाया है। जालोर जिले की सीमा पर वराड़ा (सिरोही) में आयोजित एक सभा में बोलते हुए, धानपुर ने कहा कि यदि कांग्रेस उन्हें या उम सिंह राठौड़ को उम्मीदवार के रूप में नामित नहीं करती है तो वह पार्टी द्वारा मैदान में उतारे गए किसी भी बाहरी व्यक्ति के खिलाफ स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ेंगे।

क्षत्रिय स्नेहमिलन के नाम से यह सभा लाल सिंह राठौड़ धानपुर के नेतृत्व में आयोजित की गई थी, जिसमें दोनों प्रमुख राजनीतिक दलों द्वारा जालोर-सिरोही लोकसभा क्षेत्र की कथित उपेक्षा की ओर ध्यान आकर्षित किया गया था। कार्यक्रम में वक्ताओं ने विशेष रूप से आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों (ईडब्ल्यूएस) के वर्गीकरण में सामाजिक विसंगतियों को दूर करने की तत्काल आवश्यकता पर प्रकाश डाला।

इस मौके पर संबोधित करते हुए जालोर जिला कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष लाल सिंह राठौड़ ने राजपूत समुदाय के भीतर एकता पर जोर दिया। उन्होंने राजपूतों, भोमिया राजपूतों और रावणा राजपूतों को विभाजित करने के प्रयासों का आरोप लगाते हुए कुछ राजनीतिक संस्थाओं द्वारा अपनाई गई विभाजनकारी रणनीति की आलोचना की।

राठौड़ ने इन समूहों के बीच एकजुटता को रेखांकित किया और महत्वपूर्ण मतदान शक्ति के बावजूद उन्हें हाशिये पर रखे जाने की निंदा की।

अपने अटूट दृढ़ संकल्प को व्यक्त करते हुए, राठौड़ ने उनके खिलाफ आयकर छापों के माध्यम से सरकारी दबाव के पिछले उदाहरणों का हवाला देते हुए, किसी भी राजनीतिक दल का मुकाबला करने के लिए अपनी तत्परता की घोषणा की। उन्होंने न्यायसंगत प्रतिनिधित्व की मांग दोहराई और समाज के सामूहिक निर्णय का पालन करने की अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि की।

शिवगंज के पूर्व प्रधान दलीप सिंह मांडानी ने राठौड़ की भावनाओं को दोहराया, उन्होंने क्षत्रियों के राजनीतिक हाशिए पर रहने के समाधान के लिए उनके बीच एकता का आग्रह किया। दलीप सिंह मांडानी ने राष्ट्रीय राजनीति को प्रभावित करने के लिए सामूहिक प्रयासों की संभावित शक्ति पर जोर देते हुए दिवंगत नेता नाथूराम मिर्धा के शब्दों का जिक्र किया।

सभा में सामाजिक न्याय और समानता की खोज में राजनीतिक जागरूकता और युवाओं की भागीदारी के लिए एक उत्साही आह्वान देखा गया। सिरोही के पूर्व प्रमुख नीतिराज सिंह देवड़ा ने राजनीतिक संबद्धता से ऊपर उठकर एकजुट सामाजिक कार्रवाई की आवश्यकता पर बल दिया।

जालोर के पूर्व प्रधान बजरंग सिंह ने सामाजिक फूट के हानिकारक प्रभावों पर अपनी बात कही। राठौड़ बोले कि राजनीतिक विभाजन को दूर करने के लिए ठोस प्रयास की जरूरत है। क्षत्रिय में बिखराव यहां देखा है, इस राजनीति ने भाइयों को ही बांट दिया, अब एक जाजम पर आकर साथ मिलकर चलना होगा। जयेंद्रसिंह गलथनी ने कहा कि अपने हक की लड़ाई के लिए मुखर होना जरुरी है। दोनों राजनीतिक पार्टियां टिकट नहीं दे रही है, इस बात पर हमें सोचना होगा। हमारी आरक्षण की मांग अभी तक पूरी नहीं हुई है। आरक्षण के नाम पर कुछ नहीं दिया है। सिर्फ कागजों में ही आरक्षण दिया गया है। ईडब्ल्यूएस का धरातल पर कोई विशेष लाभ नहीं मिल रहा है।

योगेंद्रसिंह कुंपावत ने केंद्र और राज्य सरकार से ईडब्ल्यूएस के सरलीकरण की मांग की। कुंपावत ने कहा कि ईडब्ल्यूएस के वास्तविक हकदारों को भी ईडब्ल्यूएस का लाभ नहीं मिल रहा है। इस दौरान दिलीपसिंह मंडानी, बजरंगसिंह बागरा, तेजसिंह रसियावास, प्रेमसिंह मायलावास, ईश्वरसिंह भवरानी, नटवरसिंह रावना राजपूत, विक्रमसिंह, रूपसिंह, दशरथसिंह, चंदनसिंह,सुमेरसिंह, कल्याणसिंह, शैतानसिंह गलथनी, गजेंद्रसिंह डोडियाली, भंवरसिंह कवला, पूरनसिंह बागसीन, राजूसिंह समेत कई लोग उपस्थित थे। योगेन्द्र सिंह कुंपावत और नटवर सिंह रावणा राजपूत जैसे प्रमुख समुदाय के सदस्यों सहित प्रतिभागियों ने मौजूदा कल्याणकारी योजनाओं, विशेष रूप से ईडब्ल्यूएस की अपर्याप्तताओं पर चिंता व्यक्त की, और केंद्र और राज्य दोनों सरकारों से ठोस कार्रवाई की मांग की।

Must Read: सचिन पायलट ने युवाओं संग निकाला मशाल जुलूस, जानें क्या कहा

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :