जसोल परिवार में एक और बड़ा हादसा: चित्रा सिंह का चले जाना मारवाड़, खासकर के मालाणी में एक राजनीतिक सूनापन छोड़ देता है

Ad

Highlights

'कमल का फूल हमारी भूल' का नारा गुंजाकर चित्रा सिंह ने जब हुंकार भरी तो तत्कालीन सरकार की चूलें हिल गई थी। कहना गलत नहीं होगा राजस्थान की महिला नेताओं में यदि किसी ने वसुन्धरा राजे से टक्कर ली थी तो वह एकमात्र चित्रा सिंह ही रहीं।

चित्रा सिंह का चले जाना मारवाड़, खासकर के मालाणी में एक राजनीतिक सूनापन छोड़ देता है।

'कमल का फूल हमारी भूल' का नारा गुंजाकर चित्रा सिंह ने जब हुंकार भरी तो तत्कालीन सरकार की चूलें हिल गई थी। कहना गलत नहीं होगा राजस्थान की महिला नेताओं में यदि किसी ने वसुन्धरा राजे से टक्कर ली थी तो वह एकमात्र चित्रा सिंह ही रहीं।

चित्रा सिंह का चले जाना मालाणी और मारवाड़ के साथ—साथ हाड़ौती में भी दु:ख की खबर है।

उनकी पहचान सिर्फ पूर्व सांसद की पत्नी से नहीं की जानी चाहिए, बल्कि वे परिचायक थीं परम्पराओं के साथ चलते हुए राजनीति में एक अनूठी कोशिश करने वालों की।

चित्रा सिंह मानवेन्द्रसिंह की राजनीति का आधार स्तम्भ रहीं और हिन्दी, अंग्रेजी के साथ—साथ मारवाड़ी में गजब का कमांड और लोगों के दु:ख दर्द में शिद्दत से साथ खड़े होने की भावना उन्हें एक विशिष्ट दर्जा देती है और राजनीतिक विलक्षण प्रतिभा बनाती है।

हादसा: अलवर के पास दर्दनाक सड़क हादसे में पूर्व सांसद मानवेंद्र सिंह की पत्नी चित्रा सिंह का निधन

जब मानवेन्द्रसिंह ने भाजपा छोड़कर कांग्रेस का दामन थामा तब वे चित्रा सिंह ही थीं, कि उन्होंने उन्हें एक सशक्त आधार दिया था। झालरापाटन से जब चुनाव लड़ा तो उन्होंने सीधे तौर पर वसुन्धरा राजे से टक्कर ली थी।

चित्रांगदा सिंह, जिन्हें चित्रा सिंह के नाम से भी जाना जाता है, का जन्म 15 नवंबर, 1964 को भैंसरोड़गढ़ के रावत परिवार के सम्मानित वंश में हुआ था। उनके पिता, रावत शिव चरण सिंह, वर्तमान में भैंसरोड़गढ़ के पूर्व रावत की उपाधि रखते हैं। उन्होंने 1972 में उपाधि ग्रहण की थी। चित्रा का विवाह 17 जून 1994 को मेजर कुँवर मानवेंद्र सिंह, जसोल के मेजर (सेवानिवृत्त) ठाकुर जसवन्त सिंह जसोल के बड़े बेटे से विवाह हुआ। चित्रा सिंह की माता का नाम रानी लक्ष्मी कुमारी हैं। उनका ननिहाल जोधपुर के बाड़मेर जिले के ठिकाना गुडामालानी में राणा प्रताप सिंह के यहां है।

Must Read: चदरिया ऊनी रे ऊनी...

पढें Blog खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :