शेरनी की तरह गरजीं दिव्या मदेरणा: बोलीं- मेरे भाग्य की लकीरों में सेंट्रल जेल लिखी थी, इसलिए 10 साल तक फेरे किए

बोलीं- मेरे भाग्य की लकीरों में सेंट्रल जेल लिखी थी, इसलिए 10 साल तक फेरे किए
divya maderna
Ad

Highlights

सड़क से लेकर विधानसभा तक में शेरनी की तरह गरजने वाली विधायक दिव्या ने अपने बेबाक अंदाज में उन्होंने अपनी शादी को लेकर कहा कि, ‘लोग कहते हैं कि शादी कर लो, लेकिन मैंने कभी जवाब नहीं दिया, मैं आज जवाब देती हूं। मेरे हाथों में शादी की लकीरें नहीं, सेंट्रल जेल की लकीरें थीं।’

जोधपुर | विधानसभा चुनाव के लिए प्रत्याशियों का नामांकन पूरा हो चुका है। नामांकन के आखरी दिन सभी पार्टियों के प्रत्याशियों ने पर्चा भर चुनावी ताल ठोक दी है। 

इसी बीच जोधपुर जिले की ओसियां विधानसभा सीट से विधायक दिव्या मदेरणा (Divya Maderna) ने भी सोमवार को अपना नामांकन भरा। 

Image

इस दौरान दिव्या मदेरणा ने नामांकन से पहले मां का आशीर्वाद लिया और शेरनी की तरह आगे बढ़ीं।

नामांकन दाखिल करने से पहले दिव्या जोधपुर सेंट्रल जेल भी पहुंची और जेल के बाहर से पुष्प अर्पित किए।

Image

इस दौरान अपने सभी देवी देवताओं को ढोक लगाती हुई आगे बढ़ी दिव्या मदरेणा ने जनसभा को संबोधित भी किया। 

सड़क से लेकर विधानसभा तक में शेरनी की तरह गरजने वाली विधायक दिव्या ने अपने बेबाक अंदाज में उन्होंने अपनी शादी को लेकर कहा कि, ‘लोग कहते हैं कि शादी कर लो, लेकिन मैंने कभी जवाब नहीं दिया, मैं आज जवाब देती हूं। मेरे हाथों में शादी की लकीरें नहीं, सेंट्रल जेल की लकीरें थीं।’

उन्होंने कहा कि, जरा सोचिए अगर पिता जेल की सलाखों में हो तो बेटी शादी कैसे कर ले।

उनकी एक-एक रात जेल में कैसे गुजरी होगी, ऐसे में बेटी को शादी करना शोभा नहीं देता है। 

उन्होंने भावुक होते हुए कहा कि मेरे भाग्य की लकीरों में सेंट्रल जेल थी। मैंने 10 साल वहां के फेरे किए हैं। पिता की सेवा करना ही मेरा कर्तव्य था। 

अब सिर्फ एक ही काम है

इस दौरान दिव्या ने कहा कि अब मेरे पास सिर्फ एक ही काम है और वो ओसियां की जनता की सेवा करना है। मैं ओसियां की जनता के लिए हमेशा काम करती रहूंगी। 

दिव्या ने विरोधियों पर जमकर हमला बोलते हुए कहा कि वो शेरनी की तरह चुनाव लड़ेंगी। कुछ लोग कहते हैं कि शेरनी को जंगल में भेज दो, वहां भूख-प्यास मिट जाएगी। शेरनी शेर के साथ ही रहती है। 

दिव्या ने खुद पर तंज कसने वालों के खिलाफ बोलते हुए कहा कि उन लोगों की इन बातों पर हंसी आती है, लेकिन क्या वो ऐसी बातें अपनी बेटी के साथ भी करते हैं ? वो न भूखी हैं, न प्यासी हैं, वो तृप्त हैं। 

दिव्या मदेरणा ने अपने कार्यकर्ताओं की टीम से कहा कि मुझे मेरे माता-पिता के बाद सबसे ज्यादा भरोसा आप पर है। मेरा एक-एक कार्यकर्ता कमांडर है। इनके लिए ही मुझे काम करना है।

Must Read: सचिन पायलट पहुंचे चाकसू के कोटखावदा, विधायक सोलंकी को देख ग्रामीणों ने फेंके पत्थर

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :