विधानसभा में बोले उप मुख्यमंत्री : अगले छह माह में नई बसें खरीदेंगे : प्रेम चंद बैरवा

Ad

Highlights

बैरवा प्रश्नकाल के दौरान सदस्यों द्वारा इस संबंध में पूछे गए पूरक प्रश्नों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि डूंगरपुर से रतनपुर आवागमन के लिए डूंगरपुर से अहमदाबाद वाया रतनपुर रोडवेज की 12 बसें संचालित हैं तथा रतनपुर में इन बसों का ठहराव भी हो रहा है। उन्होंने कहा कि गत सरकार के समय पिछले 5 वर्षों में एक भी नई बस का संचालन नहीं किया गया।

जयपुर | उप मुख्यमंत्री एवं परिवहन मंत्री प्रेमचंद बैरवा ने बुधवार को विधानसभा में कहा कि आगामी 3 माह में राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम के अधीन बसें अनुबन्ध पर लेने की प्रकिया पूर्ण किया जाना संभावित है। उन्होंने कहा कि अगले 6 माह में नई बसें क्रय कर इन्हें रोडवेज को उपलब्ध कराने की कार्यवाही की जाएगी।

बैरवा प्रश्नकाल के दौरान सदस्यों द्वारा इस संबंध में पूछे गए पूरक प्रश्नों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि डूंगरपुर से रतनपुर आवागमन के लिए डूंगरपुर से अहमदाबाद वाया रतनपुर रोडवेज की 12 बसें संचालित हैं तथा रतनपुर में इन बसों का ठहराव भी हो रहा है। उन्होंने कहा कि गत सरकार के समय पिछले 5 वर्षों में एक भी नई बस का संचालन नहीं किया गया।

इससे पहले विधायक गणेश घोगरा के मूल प्रश्न के लिखित जवाब में परिवहन मंत्री ने बताया कि डूंगरपुर जिले में राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम द्वारा 145 बसें संचालित हैं। उन्होंने बताया कि निगम द्वारा बसें क्रय करने एवं निगम के अधीन बसें अनुबन्ध पर संचालित करने हेतु उपापन की कार्यवाही प्रक्रियाधीन है। उन्होंने बताया कि उपापन प्रक्रिया पूर्ण होने पर डूंगरपुर आगार को 5 बसें अनुबन्ध पर एवं क्रय करने के उपरांत अतिरिक्त बसें आवंटित की जा सकेंगी।

परिवहन मंत्री ने बताया कि निगम द्वारा वर्तमान में डूंगरपुर से अहमदाबाद वाया रतनपुर 12 बसें संचालित हैं। डूंगरपुर से हिम्मतपुर एवं डूंगरपुर से पाली सोडा के लिए निगम की बसें संचालित नहीं है। उन्होंने बताया कि डूंगरपुर से हिम्मतपुर एवं डूंगरपुर से पाली सोडा के लिए निगम द्वारा बसों का संचालन शुरू करने का वर्तमान में कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है। पर्याप्त यात्रीभार एवं संसाधन उपलब्ध होने पर इन प्रस्तावों पर विचार किया जाएगा।

Must Read: राजस्थान में भाजपा बदलेगी अपना प्रभारी, कास्ट फैक्टर में फिट बैठ रहे है केशव प्रसाद मौर्य ,जाट समाज की भरपाई माली समाज से करने की कोशिश

पढें राज्य खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :