शर्मनाक: राजस्थान में विधायक पर जीभ से जूते चटवाने और पुलिस अधिकारी द्वारा मुंह पर पेशाब करने का आरोप

राजस्थान में विधायक पर जीभ से जूते चटवाने और पुलिस अधिकारी द्वारा मुंह पर पेशाब करने का आरोप
Ad

Highlights

जयपुर के जमवारामगढ़ (Jamwa Ramgarh) से कांग्रेस विधायक गोपाल मीना (Gopal Meena) और तत्कालीन डीप्टी एसपी शिव कुमार भारद्वाज (Shiv Kumar Bhardwaj) समेत कई पुलिसकर्मियों के खिलाफ एक दलित व्यक्ति ने मामला दर्ज करवाया है। 

जयपुर | पेपर लीक, भष्टाचार, गैंगरेप जैसे अपराधों के बाद अब  राजस्थान में मध्य प्रदेश में हुए पेशाब कांड और जीभ से जूते चटवाने जैसा गंभीर मामला सामने आया है। 

इस मामले को लेकर राजधानी जयपुर के जमवारामगढ़ (Jamwa Ramgarh) से कांग्रेस विधायक गोपाल मीना (Gopal Meena) और तत्कालीन डीप्टी एसपी शिव कुमार भारद्वाज (Shiv Kumar Bhardwaj) समेत कई पुलिसकर्मियों के खिलाफ एक दलित व्यक्ति ने मामला दर्ज करवाया है। 

एससी-एसटी एक्ट में मामला दर्ज इस मामले की जांच सीआईडी सीबी कर रही है। 

जमवारामगढ़ थानाधिकारी सीताराम सैनी के अनुसार, 27 जुलाई को जमवारामगढ़ तहसील के जयचंदपुरा के हरने वाले 51 साल के पीड़ित ने थाने में इस मामले को लेकर रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

इसके बाद रिपोर्ट को जांच के लिए सीआईडी सीबी को भेज दिया गया है। 

क्या कहा गया दर्ज रिपोर्ट में

रिपोर्ट के अनुसार, पीड़ित टोडालड़ी गांव के एक खेत पर सार-संभाल का काम करता है।

30 जून को भी वह खेत पर काम कर रहा था। तभी कुछ पुलिसकर्मी उसके पास आए और उसे जबरदस्ती गाड़ी में डालकर जमवारामगढ़ विधायक गोपाल मीणा के घर पर ले गए। 

वहां एक कमरे में बंद कर उसके साथ मारपीट की गई। बाद में  डिप्टी एसपी शिवकुमार भारद्वाज और चार-पांच पुलिसकर्मी वहां आए। 

पुलिसकर्मियों ने उसके साथ मारपीट करते हुए जमीन पर पटक दिया और डिप्टी एसपी शिवकुमार ने उसके मुंह पर पेशाब कर दिया। 

वह उनके सामने गिड़गिड़ाता लेकिन वह नहीं माने और उसे जाति सूचक अपशब्द कहते हुए मारपीट करते रहे। 

डिप्टी एसपी शिवकुमार उसे धमकाया हुए कहा कि रामगढ़ के राजा गोपाल मीना को बिना नजराना दिए खेत में आने की तूने हिम्मत कैसे की। 

इसके बाद उसे विधायक मीना के पास ले गए। तब विधायक ने कहा कि जब तक ये मेरे जूते जीभ से साफ नहीं करेगा। तब तक नहीं जाने दूंगा। 

अपनी जान बचाने के लिए विधायक के जूते जीभ से साफ किए। तब जाकर उसे छोड़ा गया। 

बोले- धमकी दी किसी को बताया तो बुरा हाल होगा, सरकार हमारी है 

पीड़ित से ऐसा घिनौना व्यवहार करने के बाद उन्होंने धमकी दी कि अगर इस बारे में किसी को बताया तो उसका इससे भी बुरा हाल करेंगे, क्योंकि सरकारी हमारी है। 
विधायक ने कहा कि दोबारा टोडालडी वाले खेत पर दिखा तो जान से मार देंगे।

पीड़ित ने पुलिस पर भी लगाया आरोप

इस घटना से सहमे हुए पीड़ित ने पुलिस का सहारा लेना चाहा तो पुलिस ने भी उसे भगा दिया।

उसने पुलिस पर आरोप लगाया है कि वह हिम्मत जुटा कर 7 जुलाई को जमवारामगढ थाने पहुंचा तो पुलिसवालों ने उसकी मदद करने के बजाए उसे धमकाकर भगा दिया। 

जब उसकी रिपोर्ट पुलिस में दर्ज नहीं हुई तो वह 8 जुलाई को जयपुर ग्रामीण एसपी और डीजीपी से मिला, लेकिन फिर भी एफआईआर दर्ज नहीं की गई। 

जिसके बाद उसने कोर्ट के समक्ष गुहार लगाई तब जाकर कोर्ट के आदेश के बाद 27 जुलाई को जमवारामगढ थाने में मुकदमा दर्ज किया गया।

आरोप लगने के बाद क्या बोले विधायक ?

खुद पर लगे इन गंभीर आरोपों को कांग्रेस विधायक गोपाल मीना ने मनगढ़ंत बताया है। उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले उनकी छवी को धूमिल करने का प्रयास किया जा रहा है। 

वो इस मामले में आरोप लगाने वाले के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज कराएंगे। 

लेकिन मैं पीड़ित को नहीं जानता हूं। इस मामले से मेरा कोई लेना-देना नही है।

उन्होंने कहा कि यह मामला पूर्व डीजी नवदीप सिंह और उनकी पत्नी परम नवदीप की जमीन से जुड़ा है। ये लोग मुझ पर दबाव बनवाकर जमीन पर कब्जा दिलवाना चाहते थे।

उनका कहना है कि आरोप तो कोई भी लगा सकता है। लेकिन, ये आरोप पूरी तरह से गलत है। 

Must Read: राजू ठेहट की हत्या में आनंदपाल की बेटी का नाम, दुबई में रची गई साजिश

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :