अब नेताओं के दौरे : Rajasthan विधानसभा चुनावों के लिए नेताओं की तैयारी के बीच राजस्थान में राजनीतिक माहौल 

Rajasthan विधानसभा चुनावों के लिए नेताओं की तैयारी के बीच राजस्थान में राजनीतिक माहौल 
Political Cartoon
Ad

Highlights

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी 15 नवंबर को राजस्थान का दौरा करने वाले हैं। वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की अभियान रणनीति के हिस्से के रूप में बायतु में एक चुनावी रैली को संबोधित करेंगे। इसी दिन बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी राज्य में मौजूद रहेंगे और पूर्वी राजस्थान में सभाओं को संबोधित करेंगे।

जयपुर | राजस्थान में विधानसभा चुनाव करीब आने के साथ, राज्य में राजनीतिक लड़ाई देखी चरम पर है। क्योंकि विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता चुनाव अभियान में लगे हुए हैं। जैसे ही राष्ट्रीय नेता राज्य में पहुंच रहे हैं, चुनावी परिदृश्य में एक महत्वपूर्ण आयाम जुड़ रहा है, राजनीतिक हवा में उत्साह और प्रत्याशा का समायोजन होने की उम्मीद भी है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी का राजस्थान दौरा

कांग्रेस नेता राहुल गांधी 16 नवंबर को राजस्थान के दौरे पर आने वाले हैं। उनका अभियान चुरू जिले के तारानगर में एक रैली के साथ शुरू होगा। जिसके बाद नोहर और सादुलशहर में भी वे पब्लिक मीटिंग को सम्बोधित करेंगे। पार्टी रणनीतिक रूप से अपने नेताओं को मतदाताओं से जुड़ने और चुनाव से पहले महत्वपूर्ण दिनों में समर्थन जुटाने के लिए तैयार कर रही है।

सागवाड़ा और चित्तौड़गढ़ में प्रियंका गांधी का संबोधन
17 नवंबर को कांग्रेस पार्टी का एक और प्रमुख चेहरा प्रियंका गांधी सागवाड़ा और चित्तौड़गढ़ में सभाओं को संबोधित करेंगी. पार्टी अपने दृष्टिकोण और एजेंडे को बताने के लिए राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में मतदाताओं तक पहुंचने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है।

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे की चुनावी सभाएं
कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे 18 नवंबर को भरतपुर के वैर और अलवर जिले के तिजारा में चुनावी सभाओं को संबोधित करने वाले हैं। कांग्रेस ने अपने प्रभाव को अधिकतम करने के लिए इन दौरों को अंतिम रूप दिया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा नेताओं का राज्यव्यापी अभियान
राजनीतिक परिदृश्य के दूसरी ओर, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी 15 नवंबर को राजस्थान का दौरा करने वाले हैं। वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की अभियान रणनीति के हिस्से के रूप में बायतु में एक चुनावी रैली को संबोधित करेंगे। इसी दिन बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी राज्य में मौजूद रहेंगे और पूर्वी राजस्थान में सभाओं को संबोधित करेंगे।

गृह मंत्री अमित शाह 16 नवंबर को टोंक जिले का दौरा करने वाले हैं, जहां वह बड़ी सभाओं में जनता से जुड़ेंगे। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के 14 नवंबर को राजस्थान में होने की उम्मीद है, जो भाजपा के चुनावी अभियान में अपनी आवाज शामिल करेंगी।

चुनाव का दिन और परिणाम

राजस्थान में मतदाता राजस्थान विधानसभा की 200 सीटों के लिए अपने प्रतिनिधियों को चुनने के लिए 25 नवंबर को वोट डालने की तैयारी कर रहे हैं। चुनाव आयोग ने एक उल्लेखनीय कदम उठाते हुए शादी समारोहों को ध्यान में रखते हुए मतदान की तारीख 23 नवंबर से बदल दी। चुनाव नतीजों का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा है और 3 दिसंबर को घोषित किए जाने की उम्मीद है। मायावती और असदुद्दीन औवेसी भी राजस्थान में जल्दी ही सभाएं करने वाले हैं।

जैसे-जैसे राजनीतिक तापमान बढ़ रहा है, राजस्थान एक महत्वपूर्ण युद्धक्षेत्र के रूप में खड़ा है, जहां दोनों प्रमुख राजनीतिक दल आगामी विधानसभा चुनावों में जीत हासिल करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। राज्य खुद को एक लोकतांत्रिक तमाशे के लिए तैयार कर रहा है जो अंततः उसके राजनीतिक भविष्य को आकार देगा। 

Must Read: भाजपा की परिवर्तन यात्रा का विशाल जनसभा से आगाज

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :