राजस्थान: राजेंद्र राठौड़ ने लिखा CM भजनलाल को पत्र, बोले- ‘यह दुर्भाग्यपूर्ण’

राजेंद्र राठौड़ ने लिखा CM भजनलाल को पत्र, बोले- ‘यह दुर्भाग्यपूर्ण’
राजेंद्र राठौड़ व CM भजनलाल
Ad

Highlights

भाजपा नेता राजेंद्र राठौड़ ने सीएम शर्मा के नाम प्रदेश के 16 जिलों में जल संकट को लेकर पत्र लिखा

सफाई व मरम्मत करने के लिए पेयजल से काश्तकारों व आमजन में गहरा आक्रोश व्याप्त है |

जयपुर | राजस्थान में भीषण गर्मी (extreme heat) के चलते भजनलाल सरकार एक्शन मोड़ (action twist) में नजर आ रही है। मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने लोगों की परेशानी को देखते हुए बिजली विभाग, मेडिकल और प्रशासनिक अधिकारियों को कार्यालय (Office) नहीं छोड़ने के लिए पाबंद किया है।

इसी कड़ी में भाजपा (BJP) नेता राजेंद्र राठौड़ ने सीएम (CM) शर्मा के नाम प्रदेश के 16 जिलों में जल संकट को लेकर पत्र लिखा है। जिसमें चुरू सहित प्रदेश के 13 जिलों में पानी की आपूर्ति पूरी करने वाली इंदिरा गांधी नहर की नहरबंदी से हो रही समस्याओं को लेकर अवगत करवाया है। हालांकि इससे पहले मंत्री किरोड़ीलाल मीना सीएम (CM) शर्मा को कई विषयों पर पत्र लिख चुके है।

भाजपा (BJP) नेता राजेंद्र राठौड़ ने मुख्यमंत्री (CM) भजनलाल शर्मा को पत्र लिखते हुए कहा कि ‘मैं इस पत्र के माध्यम से आपका ध्यान इंदिरा गांधी नहर की रावतसर वितरिका के सफाई एवं मरम्मत हेतु नहरबंदी करने से उत्पन्न भयानक जल संकट एवं जनाक्रोश (public anger) की ओर आकर्षित करना चाहूंगा। इंदिरा गांधी नहर से मेरे गृह जिले चूरू सहित प्रदेश के करीब 16 जिलों में आंशिक या पूर्ण रूप से पेयजल आपूर्ति (drinking water supply) की जाती है।’

नहरबंदी करने की सहमति दुर्भाग्यपूर्ण- राठौड़

राठौड़ ने पत्र में लिखा कि ‘इसी नहर की सिल्ट (silt) आदि जमा होने के कारण सफाई व मरम्मत करने के लिए पेयजल से काश्तकारों (cultivators) व आमजन में गहरा आक्रोश व्याप्त है। अधीक्षण अभियंता, जल संसाधन विभाग, वृत हनुमानगढ़ द्वारा काश्तकारों एवं जलदाय विभाग (water supply department) को पर्याप्त जलापूर्ति हेतु असमर्थता व्यक्त करते हुए दिनांक 16 मई 2024 से 25 मई 2024 तक रावतसर वितरिका में नहरबंदी करने की जो सहमति दी गई है, वह दुर्भाग्यपूर्ण है।’

उन्होंने आगे कहा कि ‘मैं आपके संज्ञान में लाना उचित समझता हूं कि इंदिरा गांधी नहर की रावतसर वितरिका के गंधेली मुखिया (Head) से जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग की नहर कर्मसाना हैड वर्ड्स (karmasana head words) तक स्थापित है जहां विभाग का 1680 एम.एल. (M.L.) र० वाटर भंडारण निर्मित है।

नहरबंदी के दौरान विभाग द्वारा कर्मसाना हैड वर्कस (Karmasana Head Works) से ललानियां तक विभागीय नहर की सफाई करवाई जा चुकी है वहीं गंधेली हैड से कर्मसाना हैड वर्कस (Karmasana Head Works) तक विभागीय नहर की सफाई का कार्य प्रगतिरत है।’

भीषण गर्मी (extreme heat) में बूंद-बूंद के लिए परेशान- राठौड़

राठौड़ ने अनुरोध करते हुए कहा कि ‘मौजूदा भीषण गर्मी के प्रकोप में जहां एक ओर आमजन पानी की बूंद-बूंद के लिए तरस रही है, वहीं दूसरी ओर नहरबंदी के फैसले के बाद जलापूर्ति (water supply) नहीं होने से आम जनता पर पेयजल संकट की दोहरी मार पड़ रही है। नहरबंदी के कारण पर्याप्त जलापूर्ति नहीं होने से आमजन धरना-प्रदर्शन (Demonstration) करने को मजबूर है।’

उन्होंने अनुरोध है कि ‘वर्तमान समय में भीषण गर्मी (extreme heat) के प्रकोप एवं आमजन की पेयजल समस्या को दृष्टिगत रखते हुए इंदिरा गांधी नहर की रावतसर वितरिका से निर्बाध रूप से पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित कराये जाने के संबंध में महत्वपूर्ण निर्देश जारी करवाये जाकर, मुझे अनुग्रहित करावें।’

किरोड़ी लाल ने लिखे कई पत्र

इससे पहले किरोड़ीलाल मीणा ने राज्य सरकार के स्तर पर कई अव्यवस्था को उजागर करने के लिए सीएम (CM) भजनलाल शर्मा को पत्र लिखे। मीणा ने पहले सीएम (CM) भजनलाल शर्मा को पत्र लिखकर जल जीवन मिशन, ईआरसीपी (ERCP) और ओल्ड एमआरईसी कैम्पस (Old MREC Campus) व राजकीय कॉलोनी के पुनर्विकास योजना में घोटाले-धांधली की बात कही। जिसके बाद सरकार ने सभी निविदाओं (tenders) को निरस्त करने की कार्रवाई की।

Must Read: होली के बाद राजस्थान में कहीं भी सफर करो, लगेगा सिर्फ आधा किराया

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :