गुढ़ा में उलझ गई उदयपुरवाटी सीट: यहां राजेंद्र सिंह गुढ़ा vs राजेंद्र सिंह गुढ़ा के बीच मुकाबला

यहां राजेंद्र सिंह गुढ़ा vs राजेंद्र सिंह गुढ़ा के बीच मुकाबला
Rajendra Singh Gudha
Ad

Highlights

राजेंद्र सिंह गुढ़ा के नाम से एक और निर्दलीय प्रत्याशी चुनावी मैदान में खड़ा हुआ है। इसके नाम के पीछे भी गुढ़ा है। ऐसे में उदयपुरवाटी में राजेंद्र सिंह गुढ़ा नाम से दो उम्मीदवार आमने-सामने हो गए हैं। 

उदयपुरवाटी | राजस्थान विधानसभा में लाल डायरी लहराकर प्रदेश की राजनीति में हड़कंप मचाने वाले कांग्रेस के बर्खास्त मंत्री और उदयपुरवाटी से विधायक राजेंद्र सिंह गुढ़ा (Rajendra Singh Gudha) एक बार फिर से चर्चा में आ गए हैं। 

इस बार राजेंद्र सिंह अपने नाम गुढ़ा को लेकर सुर्खियों में आए हैं। 

बता दें कि राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने पिछले दिनों शिव सेना (Shiv Sena) ज्वाइन कर ली थी और विधानसभा चुनाव 2023 में उसी के टिकट पर उदयपुरवाटी से खड़े हुए हैं। 

लेकिन अब उनके सामने गुढ़ा नाम को लेकर नई और बड़ी परेशानी आ गई है। 

दरअसल, राजेंद्र सिंह गुढ़ा के नाम से एक और निर्दलीय प्रत्याशी चुनावी मैदान में खड़ा हुआ है। इसके नाम के पीछे भी गुढ़ा है। ऐसे में उदयपुरवाटी में राजेंद्र सिंह गुढ़ा नाम से दो उम्मीदवार आमने-सामने हो गए हैं। 

कैसे चला पता ?

उदयपुरवाटी में एक ही नाम के दो प्रत्याशियों का खुलासा तब हुआ जब गुरुवार को नामांकन वापसी के बाद प्रत्याशियों की अंतिम सूची सामने आई। 

खड़ा हो गया विवाद

ऐसे में एक सीट से दो प्रत्याशियों का एक ही नाम (फर्स्ट-मिडल-लास्ट) सबकुछ एक जैसा होने की स्थिति में विवाद खड़ा हो गया। 

समान नाम को लेकर देर रात तक मतपत्र सूची का प्रकाशन भी रुका रहा। 

इस पूरे मामले में विधायक राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने रिटर्निंग ऑफिसर के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत भी की है। जिसमें उन्होंने कहा है कि इससे उन्हें नुकसान होगा।

कौन हैं निर्दलीय राजेंद्र सिंह गुढ़ा ?

उदयपुरवाटी से शिवसेना के राजेंद्र सिंह गुढ़ा के अलावा टोडी के निर्दलीय राजेंद्र सिंह ने भी नामांकन दाखिल किया है। 

अब दोनों ही प्रत्याशी अंतिम प्रकाशित होने वाली मतदान सूची में अपने नाम के लास्ट में गुढ़ा लिखवाने जिद पर अड़े है। 

इस पर विधायक राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने आपत्ति भी दर्ज कराते हुए कहा कि इससे उन्हें नुकसान होगा। 

जिसके बाद रिटर्निंग अधिकारी ने सहायक रिटर्निंग अधिकारी से जांच कराई तो रिपोर्ट में कहा गया कि टोडी निवासी गुढ़ा नाम के प्रत्याशी राजेंद्र सिंह को नहीं जानते हैं।

टोडी निवासी राजेंद्र सिंह ने अपने नाम के पीछे गुढ़ा लगाने की मांग जारी रखी। 

शिवसेना प्रत्याशी राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने पेश किए दस्तावेज 

शिवसेना प्रत्याशी राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने इस संबंध में खुद के गुढ़ा होने के दस्तावेज भी पेश किए।

उन्होंने अपना पंद्रहवीं विधानसभा का कार्ड पेश किया, जिसमें उनके नाम के आगे गुढ़ा लिखा हुआ था। 

लेकिन टोडी निवासी राजेंद्र सिंह भी अपने नाम के पीछे गुढ़ा लगाने को लेकर अड़े रहे। 

जिसके बाद चुनाव अधिकारी कल्पित शिवराण ने दोनों ही प्रत्याशियों के नाम के आगे गुढ़ा लगाने का फैसला लिया।

इसी के साथ उन्होंने ये भी कहा कि दोनों की अलग-अलग पहचान के लिए उनके पिता के नाम भी लिखे जाएंगे।

Must Read: ओबीसी वोटर्स के लिए गहलोत का यह मास्टर स्ट्रोक बीजेपी पर भारी पड़ेगा

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :