अशोक गहलोत का बयान: हमने कर्नल केसरी सिंह की सैन्य सेवाओं के आधार पर सिफारिश की, उनकी टिप्पणियों से मुझे दु:ख हुआ

हमने कर्नल केसरी सिंह की सैन्य सेवाओं के आधार पर सिफारिश की, उनकी टिप्पणियों से मुझे दु:ख हुआ
Ashok Gehlot and Col Kesari Singh Rathore
Ad

Highlights

हाल ही में सरकार ने RSSB के अध्यक्ष के रूप में मेजर जनरल आलोक राज एवं RPSC में सदस्य के रूप में कर्नल केसरी सिंह की नियुक्ति की सिफारिश की थी।

इन दोनों ने ना तो अप्लाई किया और ना ही इनकी कोई सिफारिश आई। इनकी 37 साल और 20 साल की सैन्य सेवाओं को देखते हुए इनको नियुक्त किया गया।

जयपुर | एक बयान में, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आरपीएससी मेंबर बनाए गए कर्नल केसरीसिंह को लेकर अपनी बात कही है। गहलोत ने अपने ट्वीट में  राज्य में 3 लाख व्यक्तियों की ऐतिहासिक का उल्लेख भी किया। जो देश में सबसे अधिक में से एक है। हालाँकि, उन्होंने सेना और न्यायपालिका सहित विभिन्न क्षेत्रों में पेपर लीक के प्रचलित मुद्दे को भी स्वीकार किया, और इस बात पर जोर दिया कि पेपर लीक समस्या केवल राजस्थान के लिए नहीं है।

राजस्थान लोक सेवा आयोग (आरपीएससी) और राजस्थान अधीनस्थ सेवा बोर्ड (आरएसएसबी) जैसे संस्थानों की विश्वसनीयता बढ़ाने के प्रयास में, गहलोत ने खुलासा किया कि सरकार ने आरएसएसबी के अध्यक्ष के रूप में मेजर जनरल आलोक राज और कर्नल केसरी सिंह की नियुक्ति की सिफारिश की थी। आरपीएससी में एक सदस्य. ये नियुक्तियाँ उनकी व्यापक सैन्य पृष्ठभूमि, क्रमशः 37 और 20 वर्षों की सेवा के कारण की गईं।

गहलोत ने अपना विश्वास व्यक्त किया कि जिन व्यक्तियों ने सेना में सेवा की है, उनसे जाति, धर्म या वर्ग जैसे कारकों की परवाह किए बिना देश की सेवा के सिद्धांतों को बनाए रखने की उम्मीद की जाती है। देश की सीमाओं की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले सैनिक समाज के अत्यधिक सम्मानित सदस्य होते हैं।

हालाँकि, कर्नल केसरी सिंह की नियुक्ति के बाद उनके द्वारा दिए गए कुछ बयान सोशल मीडिया पर वायरल हो गए हैं। ये टिप्पणियाँ एक विशेष जाति और व्यक्ति के खिलाफ थीं, जिसे गहलोत ने निंदनीय, पीड़ादायक और दुर्भाग्यपूर्ण माना। उन्होंने व्यक्तिगत रूप से इन टिप्पणियों पर गहरी निराशा व्यक्त की और इस बात पर जोर दिया कि सरकार ने कर्नल केसरी सिंह की नियुक्ति की सिफारिश उनकी सैन्य पृष्ठभूमि के आधार पर की थी।

आपको बता दें कि कर्नल केसरी सिंह की नियुक्ति को लेकर विवाद राजस्थान में एक प्रमुख मुद्दा बना हुआ है।

यह लिखा है अशोक गहलोत ने
एक तरफ हमारी सरकार ने 3 लाख भर्ती निकालने का ऐतिहासिक कार्य किया जो शायद देश में सर्वाधिक है और दूसरी तरफ पेपर लीक की कुछ घटनाएं सामने आईं (अधिकांश राज्यों में ऐसी ही स्थिति बनी हुई है, आर्मी और ज्यूडिशियरी तक में पेपर लीक हो गए)।

ये सोचकर सरकार ने प्रयास किया कि आर्मी बैकग्राउंड के अधिकारियों को राजस्थान लोक सेवा आयोग (RPSC) एवं राजस्थान अधीनस्थ सेवा बोर्ड (RSSB) जैसी संस्थाओं में स्थान दिया जाए जिससे इन संस्थाओं की विश्वसनीयता कायम रहे।

हाल ही में सरकार ने RSSB के अध्यक्ष के रूप में मेजर जनरल आलोक राज एवं RPSC में सदस्य के रूप में कर्नल केसरी सिंह की नियुक्ति की सिफारिश की थी।

इन दोनों ने ना तो अप्लाई किया और ना ही इनकी कोई सिफारिश आई। इनकी 37 साल और 20 साल की सैन्य सेवाओं को देखते हुए इनको नियुक्त किया गया।

किसी भी सेना में रहे व्यक्ति से जाति, धर्म, वर्ग इत्यादि से ऊपर उठकर देशसेवा की उम्मीद की जाती है। सैनिक देश की सीमाओं की रक्षा के लिए अपनी जान तक न्यौछावर कर देते हैं इसलिए उनका समाज में सम्मान होता है। कर्नल केसरी सिंह की नियुक्ति के बाद सोशल मीडिया पर उनके कुछ बयान वायरल हुए हैं जो जाति विशेष और व्यक्ति विशेष को लेकर दिए गए हैं जो निंदनीय, पीड़ादायक एवं दुर्भाग्यपूर्ण हैं। उनकी टिप्पणियों से मुझे भी बेहद दुख पहुंचा है। हमारी सरकार ने उनके सैन्य बैकग्राउंड को देखते हुए उनकी नियुक्ति की सिफारिश की थी।

शिवरासी गांव के रहने वाले

मकराना शिवरासी गांव निवासी कर्नल केसरी सिंह ने सोमवार सुबह ही अजमेर में आरपीएससी भवन जाकर ज्वाइन कर लिया था। कर्नल केसरी सिंह (46) मूलत: शिवरासी गांव के रहने वाले हैं और भारतीय सेना में 21 साल सेवाएं देकर स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ली थी। वे मिसाइल रेजीमेंट में थे और फरवरी 2021 में सेवानिवृत्त हुए। कर्नल ने आईटी में एमएससी, मिलिट्री टेक्रोलॉजी में एमएससी, एक्सएलआरआई में एमबीए कर रखा है।

Must Read: राजेंद्र राठौड़ का तंज- आखिरकार कब तक गलतियों पर गलतियां करोगे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी, क्या मजबूरी थी

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :