पश्चिम बंगाल: बंगाल में भाजपा उम्मीदवार खिलाफ मुक़दमा दर्ज , पूर्व जज पर हत्या का आरोप

बंगाल में भाजपा उम्मीदवार खिलाफ मुक़दमा दर्ज , पूर्व जज पर हत्या का आरोप
पूर्व जज पर हत्या का आरोप
Ad

Highlights

तमलुक पुलिस स्टेशन में भारतीय दंड संहिता और शस्त्र अधिनियम की विभिन्न गैर-जमानती धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।

अभिजीत गंगोपाध्याय ने कहा कि फर्जी आरोपों पर आधारित ऐसी FIR काफी आम हैं

पश्चिम बंगाल | पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर (midanapur) में तमलुक (tamluk) लोकसभा क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार और कलकत्ता उच्च न्यायालय ( kolkata high court) के पूर्व न्यायाधीश (justics) अभिजीत गंगोपाध्याय (Abhijit Gangopadhyay) और कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं के खिलाफ FIR दर्ज की गई। इन सभी पर धरना दे रहे बर्खास्त स्कूल कर्मचारियों पर हमला करने का आरोप लगाया गया है। उच्च न्यायालय के आदेश के बाद अपनी नौकरी गंवाने वाले 25,753 शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों के एक वर्ग की ओर से दायर शिकायत पर तमलुक पुलिस स्टेशन में भारतीय दंड संहिता (IPC) और शस्त्र अधिनियम (Arms Act) की विभिन्न गैर-जमानती धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। 

 क्या है पूरा मामला 

पश्चिम बंगाल (west bangal) प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष मैदुल इस्लाम (Maidul Islam) के अनुसार, अभिजीत गंगोपाध्याय के जुलूस में शामिल लोगों ने प्रदर्शनकारियों पर अकारण हमला किया। उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि अगर भूख हड़ताल कर रहे कर्मचारियों पर हमले में शामिल लोगों को जल्‍द गिरफ्तार नहीं किया गया, तो राज्य भर में बड़ा आंदोलन होगा। बता दें कि अभिजीत  गंगोपाध्याय (Abhijit Gangopadhyay) 4 मई को इसी जुलूस के साथ नामांकन दाखिल करने जा रहे थे। तनाव तब शुरू हुआ, जब जुलूस उस क्षेत्र से गुजरा। वहां कुछ बर्खास्त स्कूल कर्मचारी कलकत्ता उच्च न्यायालय (kolkata highcourt) के आदेश के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे।

भाजपा उम्मीदवार ने कहा फर्जी हैं आरोप

FIR पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा उम्मीदवार अभिजीत गंगोपाध्याय (Abhijit Gangopadhyay) ने कहा कि फर्जी आरोपों पर आधारित ऐसी FIR काफी आम हैं और वह इसके नतीजे का सामना करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि मैं देखना चाहता हूं कि जो लोग इस तरह के फर्जी आरोप लगा रहे हैं, वे कब तक कानून (law) के शिकंजे से बच सकते हैं।


न्यायमूर्ति की समूर्ण सम्पति क्या है 

जस्टिस गंगोपाध्याय (Abhijit Gangopadhyay) ने नामांकन पत्र के साथ अपनी संपत्ति का जो ब्योरा दिया है, उसके अनुसार उनके पास 1,55,38,472 रुपये की चल व 3,07,21,000 रुपये की अचल संपत्ति है। चल संपत्ति में एक कार, दो सोने की अंगूठी व कानून की किताबें हैं। किताबों की कीमत करीब 12 लाख रुपये हैं। अचल संपत्ति में पैतृक घर व कृषि जमीन शामिल हैं।

इसके अलावा, साल्टलेक के सेक्टर-3 इलाके में उनका 1,200 वर्गफुट का एक फ्लैट भी है, जिसे उन्होंने अगस्त, 2021 में खरीदा था। फ्लैट की कीमत 80 लाख रुपये है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, जस्टिस गंगोपाध्याय ने बैंक से ऋण लेकर फ्लैट खरीदा था। हलफनामे (affidavit) के मुताबिक बैंक के अभी भी उनपर फ्लैट के बाबत 50,77,000 रुपये बकाया हैं। बैंक में स्थायी जमा के अलावा शेयर बाजार में भी उनका निवेश है

Must Read: कोटा में क्यों बढ़ रही आत्महत्याएं, कहां है जिम्मेदार, कोचिंग संस्थानों पर कार्यवाही क्यों नहीं

पढें क्राइम खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :