Rajasthan: कांग्रेस का ‘वचन पत्र’ लॉन्च, वैभव गहलोत बोले, यह अगले 5 साल में जालोर की तस्वीर और तकदीर बदल देगा

कांग्रेस का ‘वचन पत्र’ लॉन्च, वैभव गहलोत बोले, यह अगले 5 साल में जालोर की तस्वीर और तकदीर बदल देगा
vaibhav gehlot in raniwara
Ad

Highlights

5 साल में दिलवाएंगे 10 हजार नौकरियां, खुलवाएंगे 100 स्टार्टअप्स

सिरोही-जालोर सड़क मार्ग को फोरलेन करा नेशनल हाइवे बनाएंगे

माही-व्यास का पानी जालोर आएगा, जवाई बांध का पुनर्भरण होगा

17 अप्रैल, रानीवाड़ा (जालोर)। जालोर-सिरोही लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी वैभव गहलोत ने बुधवार को अपना वचन पत्र जारी कर दिया। रानीवाड़ा के कांग्रेस कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि यह वचन पत्र जालोर, सांचौर और सिरोही जिलों की तरक्की का रास्ता खोलता है। वचन पत्र में रोजगार मेलों के जरिए 10 हजार से अधिक स्थानीय युवाओं को नौकरियां देने का वादा वैभव ने किया। उन्होंने युवाओं के लिए अगले पांच साल में 100 स्टार्टअप्स खुलवाने की भी बात कहीं।

वैभव ने जालोर से जयपुर, दिल्ली, हैदराबाद, कोयम्बटूर, चैन्नई, बैंगलूरु के लिए नियमित यात्री रेलगाड़ियां चलवाने, सिरोही-जालोर मार्ग को फोरलेन करा नेशनल हाइवे घोषित कराने, आबूरोड हवाई पट्‌टी को एयरपोर्ट बनाकर वहां से नियमित उड़ानें शुरू कराने का वादा किया। उन्होंने कहा कि अब क्षेत्र की जनता को जवाई बांध के पानी से वंचित नहीं रहने दिया जाएगा और माही-व्यास का पानी भी जालोर-सिरोही तक लाने के प्रयास किए जाएंगे।

वैभव ने कहा कि इस मैनिफेस्टो में जालोर के सभी आयु व वर्गों का ध्यान रखा गया है। मैनिफेस्टो के रोडमैप को आमजन से विचार-विमर्श कर इस तरह बनाया गया है कि यह लोकसभा क्षेत्र की जनता की सभी बुनियादी जरूरतों और तरक्की की संभावनाओं को पूरा करता है। उन्होंने कहा कि मैनिफेस्टो का रोडमैप आने वाले पांच साल में तीनों जिलों की तस्वीर बदल देगा, तकदीर बदल देगा। 

vaibhav gehlot in raniwara

20 साल से तरक्की की बाट जोह रहे हैं जालोर, सांचौर, सिरोही
पत्रकारों से संवाद में वैभव ने कहा कि आप अच्छी तरह जानते हैं कि जालोर लोकसभा क्षेत्र पिछले 20 वर्षों से तरक्की की बाट जोह रहा है। यहां लगातार भाजपा सांसद रहे, देवजी पटेल तो लगातार 15 वर्षों तक यहां के सांसद रहे, लेकिन जालोर, सिरोही जिलों को तो छोड़ो, सांचौर क्षेत्र का भी विकास वे ढंग से नहीं करा पाए। उन्होंने कहा कि आज भी हमारे मारवाड़ी भाई-बंधु पेयजल, सिंचाई जल, बुनियादी विकास, रोजगार, पलायन से जुड़ी समस्याओं से जूझ रहे हैं। जालोर लोकसभा क्षेत्र में प्रवासी बंधुओं के लिए न ट्रेन कनेक्टिविटी है न ही एयर कनेक्टिविटी।

आने-जाने के लिए जोधपुर या अहमदाबाद जाना पड़ता है। ग्रेनाइट, पर्यटन, जीरा, सौंफ के उद्योग यहां की पहचान हैं, लेकिन इन उद्योगों के विकास के लिए भाजपा ने कुछ नहीं किया। युवाओं, महिलाओं के विषयों को भी भाजपा सांसदों ने दरकिनार किया है। कहने को डबल इंजन की सरकार है, लेकिन वह विकास के लिए नहीं केवल राजनीति करने के लिए है।

जोधपुर की तर्ज पर विकसित होगा जालोर
वैभव ने कहा कि अशोक गहलोत के नेतृत्व में पिछली कांग्रेस सरकार ने जनकल्याण के लिए काफी काम किया है। बुनियादी विकास, शिक्षा, स्वास्थ्य, महंगाई से राहत, पशुबीमा आदि क्षेत्रों में कई अनूठे निर्णय लिए गए। लेकिन साढ़े तीन महीने की भाजपा सरकार ने जिस तरह योजनाओं को बंद किया है, उससे जालोर की जनता में नाराजगी है। मैं आपको विश्वास दिलाना चाहता हूं कि अशोक गहलोत ने जिस तरह जोधपुर का विकास कराने में जान झोंक दी, वहां हर सुख-सुविधा उपलब्ध कराई, विश्व पटल पर जोधपुर का नाम ऊंचा किया, वैसे ही प्रयास मैं जालोर लोकसभा क्षेत्र के लिए करूंगा। जालोर, सांचौर और सिरोही तीनों जिलों को पिछड़ा नहीं रहने दिया जाएगा।

vaibhav gehlot in raniwara

जनता, जनप्रतिनिधियों, प्रबुद्धजनों से संवाद कर तैयार किया वचन पत्र
वैभव ने कहा कि यह वचन पत्र आमजन की समस्याओं, मांगों, जरूरतों और भावी संभावनाओं को दृष्टिगत रखते हुए गहन विचार-विमर्श के बाद तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि वे जालोर लोकसभा क्षेत्र में लगातार सक्रिय हैं और प्रतिदिन विभिन्न क्षेत्रों के लोगों से संवाद कर रहे हैं। जालोर, सांचौर और सिरोही तीनों ही जिलों के लोगों की आवश्यकताओं को लेकर जनता, जनप्रतिनिधियों, प्रबुद्धजनों और कार्यकर्ताओं से संवाद कर तरक्की एक्सप्रेस का रोडमैप तैयार किया है। 

क्षेत्र की तरक्की के लिए स्थानीय विकास जरूरी: रतन देवासी
इस मौके पर रानीवाड़ा विधायक रतन देवासी ने अपने संबोधन में कहा कि जालोर, सांचौर और सिरोही की तरक्की के लिए स्थानीय विकास जरूरी है। कांग्रेस पार्टी स्थानीय विकास को महत्व देती है, इसीलिए जब-जब कांग्रेस की सरकार रही है, तब-तब पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़कों का विकास हुआ है। नर्मदा का पानी आज यहां पहुंच रहा है तो वह पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रयासों से संभव हुआ है। उन्होंने कहा कि वैभव गहलोत के मैनिफेस्टो में पानी, ट्रेन, रोजगार जैसे स्थानीय विकास के मुद्दों को पूरी प्राथमिकता से शामिल किया गया है। उन्होंने भराेसा दिलाया कि वैभव गहलोत आमजन की इन समस्याओं को दूर करने में जी-जान लगा देंगे। मैनिफेस्टो लॉन्चिंग में जालोर कांग्रेस जिलाध्यक्ष भंवरलाल मेघवाल, हेम सिंह शेखावत सहित कांग्रेस पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता बड़ी संख्या में उपस्थित थे। 

व्हॉट्सएप नंबर के जरिए जान सकते हैं मैनिफेस्टो के बिंदु
वैभव गहलोत ने कहा कि उनके वचन पत्र में क्षेत्र के विकास के लिए कई अभिनव पहल शामिल की गई हैं। साथ ही जिन मांगों को पूरा करने का प्रण लिया गया है, उसकी जानकारी व्हॉट्सएप के जरिए ली जा सकती है। आमजन 8468848484 व्हॉट्सएप नंबर के जरिए मैनिफेस्टो डाउनलोड़ कर सकता है, पढ़ सकता है।

कांग्रेस प्रत्याशी वैभव गहलोत के प्रमुख वादे

  • - हर 6 माह में रोजगार मेले लगाकर 10 हजार से अधिक स्थानीय युवाओं को नौकरियां। अप्रशिक्षित लोगों के लिए जरूरी स्किल ट्रेनिंग भी।
  • - केंद्रीय विश्वविद्यालय खुलवाने का प्रयास होगा।
  • - हर वर्ष 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने वाले शीर्ष 20 प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को विदेश में शिक्षा का अवसर।
  • - युवाओं के लिए पांच साल में 100 स्टार्टअप्स।
  • - 50 हजार महिलाओं को एनजीओ के माध्यम से प्रशिक्षण व स्वरोजगार में मदद।  
  • - पिण्डवाड़ा-बागरा और उदयपुर पिण्डवाड़ा रेल लाइन की शुरुआत।
  • - जालोर से जयपुर, दिल्ली, हैदराबाद, कोयम्बटूर, चैन्नई, बैंगलूरु के लिए नियमित यात्री रेलगाड़ियां।
  • - सिरोही, आबूरोड और जालोर की हवाई पटि्टयों का विकास और आबू रोड हवाईपट्‌टी को एयरपोर्ट के रूप में विकसित कर नियमित उड़ानें शुरू कराने का प्रयास।
  • - मॉडल गांव के रूप में गांवों का चरणबद्ध विकास।
  • - ग्रेनाइट स्पेशल मालगाड़ियां चलाने का प्रयास होगा।
  • - जीरा, ईसबगोल और सौंफ आधारित प्रसंस्करण उद्योग लगाकर 10000 से अधिक राेजगार के अवसर बनेंगे।
  • - जवाई बांध पुनर्भरण की डीपीआर को स्वीकृत कराकर जालोर-सिरोही तक पानी लाने का प्रयास।
  • - माही-व्यास का पानी जालोर-सिराेही तक लाने के लिए प्रयास।
  • - सिरोही-जालोर मार्ग को नेशनल हाइवे घोषित करवाकर फोरलेन बनाना।
  • - 50 फीसदी से अधिक आबादी की अनुसूचित जनजाति वाले बचे हुए गांवों को टीएसपी क्षेत्र में जुड़वाना।

Must Read: ऐसे ही नहीं बनता है नया जिला, कई चरणों के बाद मिलती है स्वीकृति, जानें इसकी प्रक्रिया

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :