शिक्षा विभाग: बाबू का काम कर रहे शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति रद्द होंगी, शिक्षा मंत्री ने प्रबोधकों की पदोन्नति के प्रस्ताव को दी मंजूरी

बाबू का काम कर रहे शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति रद्द होंगी, शिक्षा मंत्री ने प्रबोधकों की पदोन्नति के प्रस्ताव को दी मंजूरी
madan dilawar meeting in jaipur
Ad

Highlights

शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने बीकानेर शिक्षा निदेशालय में 65 से अधिक शिक्षकों के लंबे समय से बाबू का काम करने पर नाराजगी जताते हुए इनके पदस्थापन निरस्त करने के निर्देश दिए। शिक्षा मंत्री ने कहा की इन 65 लोगों में 19 व्याख्याता और 20 से अधिक सेकंड ग्रेड शिक्षक हैं।

ये स्कूल में बच्चों को पढ़ाने की बजाय निदेशालय में बाबू का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक पद पर 5 साल से अधिक के पदस्थापित शिक्षकों को हटाकर उनके मूल नियुक्ति स्थान भेजा जाएगा। शिक्षा मंत्री ने कहा की आदेश के बाद काफी सारे पदस्थापन निरस्त हुए हैं, परंतु अभी भी 900 से ज्यादा बाकी हैं, इनको भी 12 फरवरी तक हटाया जाए।

जयपुर | शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने सोमवार को सचिवालय में आयोजित उच्चस्तरीय बैठक में 5000 प्रबोधकों की पदोन्नति के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। प्रबोधक लंबे समय से इसकी मांग कर रहे थे। अब यह प्रस्ताव वित्तीय स्वीकृति के लिए वित्त मंत्रालय के पास जायेगा।

बैठक में उपस्थित अधिकारियों ने बताया की 5000 प्रबोधक की पदोन्नति पूर्व में हो गई थी। शेष 5000 और प्रबोधक पदोन्नति की मांग कर रहे हैं। इस पर शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने तुरंत प्रस्ताव को वित्त विभाग को भेजने को मंजूरी प्रदान की।

NTT शिक्षको की 2018 में हुई भर्ती के मामले में इसी सप्ताह में राहत पहुंचाने का निर्णय लिया गया। देवनारायण योजना में छठी कक्षा के बच्चो को मिलने वाली छात्रावृति की लिए चयनित स्कूलों की संख्या बढ़ाई जाएगी।

तृतीय श्रेणी शिक्षा भर्ती में वर्तमान महिला आरक्षण को 30 प्रतिशत से बढ़ाकर 50 प्रतिशत के प्रस्ताव पर भी चर्चा की गई।

बैठक में महात्मा गांधी इंग्लिश मीडियम स्कूलों की समीक्षा करने पर भी विचार किया गया।

निदेशालय में बाबू का काम कर रहे शिक्षकों के पदस्थापन निरस्त होंगे-

शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने बीकानेर शिक्षा निदेशालय में 65 से अधिक शिक्षकों के लंबे समय से बाबू का काम करने पर नाराजगी जताते हुए इनके पदस्थापन निरस्त करने के निर्देश दिए। शिक्षा मंत्री ने कहा की इन 65 लोगों में 19 व्याख्याता और 20 से अधिक सेकंड ग्रेड शिक्षक हैं।

ये स्कूल में बच्चों को पढ़ाने की बजाय निदेशालय में बाबू का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक पद पर 5 साल से अधिक के पदस्थापित शिक्षकों को हटाकर उनके मूल नियुक्ति स्थान भेजा जाएगा। शिक्षा मंत्री ने कहा की आदेश के बाद काफी सारे पदस्थापन निरस्त हुए हैं, परंतु अभी भी 900 से ज्यादा बाकी हैं, इनको भी 12 फरवरी तक हटाया जाए।

बैठक में प्रमुख सचिव शिक्षा नवीन जैन, स्पेशल सेक्रेटरी श्रीमती चित्रा गुप्ता सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Must Read: राजस्थान में आचार संहिता की डेट को लेकर बड़ी खबर, इस तारीख से हो सकती है लागू

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :