सांचौर विधानसभा सीट : सांचौर विधानसभा सीट  मेरे साथ धोखा किया गया, मैं यह धोखा सहन नहीं कर पाउंगा : दानाराम चौधरी, बीजेपी सांसद देवजी पटेल के खिलाफ जीवाराम—दानाराम मिलकर लड़ेंगे

Ad

Highlights

पांच साल तक हर काम मुझसे करवाया। बहुत पैसे खर्च हुए। इन पांच साल में मैं परिवार को दस दिन का समय तक नहीं दे पाया था। पूरे पांच साल आपके बीच रहा, लेकिन मेरे साथ धोखा हुआ है। मैं यह धोखा सहन नहीं कर पाऊंगा।

सांचौर | भाजपा के स्थानीय कार्यकर्ताओं के भीतर नाराजगी सांसद देवजी पटेल के चयन से उपजी है, जिससे पार्टी के भीतर विरोध का माहौल पैदा हो गया है। चौधरी की भावपूर्ण अपील में उनके और पार्टी के अन्य दिग्गजों के लंबे समय से दिए गए योगदान पर प्रकाश डाला गया, जिसमें सांचौर के विकास के लिए उनकी वर्षों की समर्पित सेवा और बलिदान की ओर ध्यान दिलाया गया।

इसके अतिरिक्त, चौधरी ने अपने प्रयासों को मान्यता न मिलने और स्थानीय भाजपा इकाई में व्याप्त विश्वासघात की भावना पर पड़ने वाले प्रभाव पर भी जोर दिया। जैसे-जैसे असंतोष जोर पकड़ रहा है, यह स्पष्ट होता जा रहा है कि सांचौर में चुनावी लड़ाई पारंपरिक भाजपा-कांग्रेस प्रतियोगिता से आगे निकलने के लिए तैयार है, जिससे संभावित रूप से क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण राजनीतिक पुनर्गठन हो सकता है।

जैसा कि यह निर्वाचन क्षेत्र एक गर्म चुनावी मुकाबले के लिए तैयार है, आने वाले दिनों में तीव्र राजनीतिक पैंतरेबाज़ी देखने की संभावना है क्योंकि भाजपा नेतृत्व सांचौर निर्वाचन क्षेत्र पर अपनी पकड़ बनाए रखने के प्रयास में आंतरिक असंतोष से उत्पन्न चुनौती से जूझ रहा है।

सांचौर में बगावत का बिगुल फूंक दिया गया है। इस सीट पर चुनाव इस बार भी त्रिकोणीय होगा। लेकिन लगता है कि परिणाम बीजेपी कांग्रेस से इतर भी जा सकते हैं। सांसद देवजी पटेल को प्रत्याशी बनाए जाने का विरोध अब बगावत पर उतर आया है।

सांचौर में एक सभा को सम्बोधित करते हुए 2018 में बीजेपी के विधायक रहे दानाराम चौधरी रो पड़े और एक भावुक संबोधन दिया। सांचौर से भाजपा के दावेदार रहे दानाराम ने कहा कि पार्टी टिकट दे या नहीं दे, लेकिन में हमेशा आपके साथ रहूंगा।

पार्टी से निवेदन है कि टिकट को लेकर विचार करें। मैं एससी एसटी के सम्मेलन में बैठा था तब आई सूची में देवजी का नाम था। इसलिए वहां कार्यकर्ता मेरी तरफ देखने लग गए। उन्होंने कहा कि मेरे सीनियर जीवाराम 6 इलेक्शन लड़े हैं। इनके मार्गदर्शन में काम करेंगे।

पांच साल तक हर काम मुझसे करवाया। बहुत पैसे खर्च हुए। इन पांच साल में मैं परिवार को दस दिन का समय तक नहीं दे पाया था। पूरे पांच साल आपके बीच रहा, लेकिन मेरे साथ धोखा हुआ है। मैं यह धोखा सहन नहीं कर पाऊंगा।

Must Read: गहलोत सरकार ने मुहैया करवाई वाई कैटेगिरी सुरक्षा

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :