Crime : क्या मांडोली शांति सूरी मंदिर से दुर्लभ पाट चोरी हो गया है

Ad

Highlights

जालोर जिले में धार्मिक आस्था का एक महत्वपूर्ण केंद्र मंडोलीनगर को अब एक परेशान करने वाली घटना का सामना करना पड़ रहा है जो प्रसिद्ध शांति सूरी मंदिर की पवित्रता को चुनौती देती है।

मंदिर से जुड़े ट्रस्ट ने कथित तौर पर रामसीन पुलिस स्टेशन में एक रिपोर्ट दर्ज कराई है, लेकिन धार्मिक संस्थान और स्थानीय अधिकारियों दोनों में सन्नाटा छाया हुआ है। चोरी के आसपास की परिस्थितियाँ, अपराधी की पहचान और अपराध के पीछे का मकसद रहस्य में डूबा हुआ है।

Jalore | मांडोली नगर के प्रसिद्ध जैन मंदिर के शांति सूरी मंदिर से एक दुर्लभ पाट के चोरी होने के समाचार मिले हैं। मामला रामसीन थाने में पहुंचा है। 

जालोर जिले का मांडोलीनगर धार्मिक आस्था का बड़ा केन्द्र है। यहां ट्रस्ट की ओर से एक रिपोर्ट दी गई बताई जाती है, लेकिन पुलिस भी खामोश हैं। यह पाट कैसे चोरी हुआ और कौन इसे चुरा ले गया। क्यों ही चुरा ले गया? बड़े सवाल है,  जिनके जवाब फिलहाल न तो यहां के न्यास के पास है और न ही पुलिस के पास।

यह मंदिर अपनी आस्था के लिए पूरे देश में प्रसिद्ध है। एक पुस्तक के अनुसार संत शांति सूरी महाराज का 1943 में देहावसान हुआ और उनका आग्नि संस्कार किया गया था। इसके बाद मांडोली में एक मंदिर, विद्यालय और अस्पताल बनवाया गया। यह मंदिर जैन के साथ-साथ सनातन धर्म में भी बड़ी आस्था का केन्द्र है।

इस चोरी की सूचना मिलने के बाद यहां के श्राविकों में हलचल है। बताया जाता है कि और भी बड़े पैमाने पर सामान चोरी हुआ है। अब यहां का न्यास खामोश है और न्यासी भी। वहीं भक्तों की ओर से मामला लगातार उठाया जा रहा है कि प्रकरण की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।

शांति सूरी मंदिर देश भर के भक्तों के दिलों में एक विशेष स्थान रखता है, जो जैन धर्म और सनातन धर्म दोनों में अपने गहरे महत्व के लिए जाना जाता है। ऐतिहासिक अभिलेखों के अनुसार, संत शांति सूरी महाराज, जिनकी विरासत को मंदिर द्वारा सम्मानित किया जाता है, का 1943 में निधन हो गया और उनका अंतिम संस्कार किया गया। इसके बाद के वर्षों में, मंडोलीनगर में एक मंदिर, स्कूल और अस्पताल की स्थापना की गई, जिसने इस स्थल को महान आस्था और धार्मिक अभ्यास के केंद्र के रूप में स्थापित किया।

चोरी की खबर मिलते ही मंदिर के पुजारियों और स्थानीय समुदाय में अशांति फैल गई। अफवाहें बताती हैं कि चोरी की गई वस्तुएं आगे तक फैली हुई हैं, जिससे चिंता की एक अतिरिक्त परत जुड़ गई है। हालाँकि, ट्रस्ट और उसके ट्रस्टियों ने इस मामले पर स्पष्ट चुप्पी बनाए रखी है, जिससे भक्त और संबंधित व्यक्ति घटना की पारदर्शी और निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे हैं।

शांति सूरी मंदिर में चोरी से आक्रोश फैल गया है और जवाबदेही की मांग की जा रही है, भक्तों ने अपने पवित्र पूजा स्थल की सुरक्षा पर गहरी चिंता व्यक्त की है। जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ती है, समुदाय चोरी से जुड़े महत्वपूर्ण सवालों के जवाब का इंतजार कर रहा है, उम्मीद है कि न्याय मिलेगा और शांति सूरी मंदिर की पवित्रता बहाल होगी।

Must Read: सीएम गहलोत का ट्वीट, पैरालंपिक पदक विजेता को सम्मान, एक कहलाएगी ’अवनी’ तो एक चिरंजीवी और चिरायु

पढें क्राइम खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :