राष्ट्रीय मीडिया सम्मेलन: फिर से रामराज्य लाने में मीडिया की रहेगी महत्वपूर्ण भूमिका - मंत्री खराड़ी

फिर से रामराज्य लाने में मीडिया की रहेगी महत्वपूर्ण भूमिका - मंत्री खराड़ी
चार दिवसीय राष्ट्रीय मीडिया सम्मेलन एवं रिट्रीट का शुभारंभ
Ad

Highlights

चार दिवसीय राष्ट्रीय मीडिया सम्मेलन एवं रिट्रीट का शुभारंभ

देशभर से प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, रेडियो और वेब मीडिया से जुड़े पत्रकार और संपादक पहुंचे

राजस्थान के जनजातीय क्षेत्रीय विकास एवं गृह रक्षा विभाग कैबिनेट मंत्री बाबूलाल खराड़ी और प्रेरक वक्त सिस्टर शिवानी दीदी सहित नामचीन हस्तियां रही मौजूद

राजस्थान। ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान (Brahma Kumaris Institute) के ज्ञान सरोवर परिसर में आयोजित चार दिवसीय राष्ट्रीय मीडिया सम्मेलन एवं रिट्रीट (National Media Conference and Retreat) का शुभारंभ किया गया। नई सामाजिक व्यवस्था के लिए दृष्टि और मूल्य- मीडिया की भूमिका विषय पर आयोजित इस सम्मेलन में देशभर से प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक (electronic), रेडियो और वेब मीडिया (web media) से जुड़े संशोधक (redocteur) और पत्रकार भाग लेने पहुंचे हैं।

शुभारंभ पर राजस्थान के जनजातीय क्षेत्रीय विकास एवं गृह रक्षा विभाग कैबिनेट मंत्री बाबूलाल खराड़ी ने कहा कि आज नेता सियासती कुर्सी पाने के लिए और सत्ता में आने के लिए कुछ भी करने को तैयार हैं। नेताओ का नैतिक स्तर का गिरना चिंता का विषय है।

हम उस सर्वश्रेष्ठ संस्कृति से आते हैं जहां भरत जैसे राजा हुए जिन्होंने 14 बरस अपने बड़े भाई श्रीराम के पैरो की खड़ाऊ रख कर शासन चलाया। आज लोग पैसे कमाने के लिए किसी भी स्तर तक जाने को तैयार हैं। फिर से राम राज्य आएगा इसे कोई रोक नहीं सकता है। इसमें मीडिया (Media) को अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी।

हमें मिलकर लाना है राम राज्य 

बीके (BK) शिवानी दीदी ने कहा कि हमें मिलकर राम राज्य लाना होगा। इसके लिए एक-एक को संकल्प करना होगा। हमारे संस्कारों से ही रामराज्य और रावण राज्य बनता है, संस्कारों से संसार बनता है। यदि हमारे संस्कार दिव्य, पवित्र होगे तो रामराज्य आएगा। हमें आग लगाने वाली नहीं आग बुझाने वाली चिड़िया बनना है। हमें अपने संस्कारों को दिव्य बनाकर स्वर्णिम संसार लाना है। इसमें हर एक को अपनी सहभागिता निभानी है।

पत्रकारिता का काम है लोक मंगल

भारतीय जनसंचार संस्थान के पूर्व महानिदेशक गुरु प्रो. संजय द्विवेदी ने कहा कि आज नारद जयंती है। संचारक (communicator) कभी एक स्थान पर नहीं रहते। उनका काम है लोक मंगल।  पत्रकारिता किसके लिए, कैसी होनी चाहिए यह बात ब्रह्माकुमारी में सिखाई जाती है। हमारा जो भी ज्ञान है वह विश्व को सुख देने के लिए है। हमे मीडिया का भारतीयकरण करना पड़ेगा। हमारा संचार, संवाद का है। हमें दूसरों को दोष देना बंद करना होगा। खुद समस्याओं का समाधान (Solution) ढूंढना होगा।

इन्होंने भी विचार व्यक्त किए 

संयुक्त मुख्य प्रशासिका एवं ज्ञान सरोवर की निदेशिका राजयोगिनी बीके (BK) स्वदेश दीदी ने कहा कि भारत पुण्य भूमि, स्वर्णिम भारत कहलाता था। हमें अपने कर्मों से फिर से वही भारत लाना है। हम सभी आत्माएं इस रथ शरीर रूपी के राजा है।

बीके (BK) करुणा भाई ने कहा कि आपका पेशा (profession) जवाबदारी का है इसलिए आपका समाज के प्रति अधिक दायित्व है। जब आप स्वयं मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ रहेंगे तो समाज के लिए बेहतर कर पाएंगे। इस दौरान राष्ट्रीय संयोजिका बीके (BK) सरला आनंद बहन, पूर्व कुलपति मानसिंह परमार, यूके (UK) से आए लेखक नेविले होड़ीगसन, राष्टीय संयोजक बीके (BK) सांतानु भाई ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

आपकी लेखनी से समाज को नई दिशा मिले

ब्रह्माकुमारीज़ के मुंबई घाटकोपर उपक्षेत्र (subzone) की निदेशिका डॉ. राजयोगिनी नलिनी दीदी ने कहा कि हमारे मीडिया (Media) के भाई-बहन सबसे महत्वपूर्ण सेवा करते हैं। आप सभी विशेष हो, आपकी सेवा विशेष है। ब्रह्माकुमारीज़ का मकसद है आप सभी को परमात्मा, प्रभु के समीप ले जाना। संस्थान का मुख्य उद्देश्य यही है।

आप सभी अपनी लेखनी से ऐसा प्रकाश फैलाएं कि समाज को नई दिशा और प्रेरणा मिले। हमारी जो वास्तविक पहचान है वह किसी को नहीं दिखाई देती है। वास्तविकता में हम सभी ज्योति स्वरूप आत्मा हैं। यह शरीर तो कर्म करने का साधन है। परमपिता शिव भी प्रकाश बिंदु स्वरूप हैं।

आत्मा का कोई धर्म नहीं होता है

बीके (BK) आत्म प्रकाश भाई ने कहा कि आज जिस तेजी से दुनिया में दुख, अशांति बढ़ रही है, इसका मुख्य कारण है पांच विकार- काम, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार। देह अभिमान (body pride) के कारण यह सभी अवगुण बढ़ रहे हैं। दुनिया की सारी समस्याओं की जड़ देह अभिमान ही है। जब हम देही अभिमान बनते हैं तभी परमात्मा की अनुभूति होती है। ब्रह्माकुमारीज़ का पहला अध्याय (lesson) है कि हम सभी आत्मा हैं। आत्मा का कोई धर्म नहीं होता है। हम सभी एक ही परमपिता शिव परमात्मा की संतान हैं।

बीके (BK) शांतानु भाई ने स्वागत भाषण देते कहा कि आप सभी का परमात्मा के घर में स्वागत है। चार दिन तक आप सभी यहां के आध्यात्मिक वातावरण का लाभ लें और यहां से ज्ञान और शांति से भरपूर होकर जाएं।

बीके (BK) निकुंज भाई ने कहा कि आप सभी मीडिया (Media) के भाई-बहन अपने घर में, परमात्मा के घर में आए हैं। ज्ञान सरोवर से ज्ञान की झोली भरकर जाएं। यहां से खुशी, शांति लेकर जाएं जो आपके जीवन में हमेशा के लिए यादगार बन जाएगी। मीडिया विंग (media wing) द्वारा पिछले तीन दशकों से भारत सहित विश्वभर के अनेक देशों में मीडिया सम्मेलन (media conference) आयोजित किए जा रहे हैं।

इन सम्मेलनों का मकसद है मीडियाकर्मियों के जीवन में सुख, शांति और खुशी लाना है। वलसाड़ से आईं  बीके (BK) रंजन दीदी ने राजयोग ध्यान (Rajyoga meditation) के माध्यम से मीडियाकर्मियों को गहन शांति की अनुभूति कराई।

बालिकाओं ने स्वागत गीत से मोहा मन

स्वागत नृत्य खड़गपुर के आदिकला नृत्य अकादमी (Adikala Dance Academy) की बालिकाओं ने पेश किया। शानदार नृत्य की प्रस्तुति ने सभी का मन मोह लिया। शुरुआत में ब्रह्माकुमारीज़ की अब तक की यात्रा और आध्यात्मिक ज्ञान पर बनी वॉइस ऑफ टू्थ्र शॉर्ट वीडियो (voice of toothr short video) फिल्म दिखाई गई।

गायक व कलाकार बीके (BK) डेविड भाई ने मधुर गीत की प्रस्तुति दी। अजमेर से आईं बीके (BK) योगिनी बहन ने सम्मेलन की रूपरेखा बताई। अतिथियों का स्वागत पगड़ी पहनाकर और पुष्पगुच्छ (Bouquet) भेंट कर किया गया। बीके (BK) चंदा बहन ने किया। स्वागत गीत मधुर वाणी ग्रुप के कलाकार बीके सतीश भाई व टीम ने पेश किया। आभार बीके ने माना।

Must Read: कुछ लोग राम मंदिर की राजनीति के लिए हिन्दू बने है, ऐसे लोगों का हिन्दू धर्म से कोई वास्ता नहीं

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :