मेयर कुर्सी खतरे में!: मुनेश गुर्जर को लेकर मंत्री खाचरियावास बोले- मैंने पहले ही कहा था बर्खास्त कर दो, अब नाटकबाजी नहीं चलेगी

मुनेश गुर्जर को लेकर मंत्री खाचरियावास बोले- मैंने पहले ही कहा था बर्खास्त कर दो, अब नाटकबाजी नहीं चलेगी
Pratap Singh Khachariyawas - Munesh Gurjar
Ad

Highlights

मेयर मुनेश के पति के रिश्वत मामले में गिरफ्तार होने के बाद विपक्षी भाजपा को तो गहलोत सरकार को घेरने का मौका मिल ही गया, लेकिन खुद सरकार के मंत्री भी मुनेश गुर्जर के खिलाफ होते दिख रहे हैं। 

जयपुर | राजधानी जयपुर में नगर निगम हेरिटेज मेयर मुनेश गुर्जर (Munesh Gurjar) बेहद परेशानी में घिरती नजर आ रही हैं। 

ACB  ने उनके पति सुशील गुर्जर को और दो दलालों को रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया है। 

एसीबी ने अपनी कार्रवाई के दौरान मेयर मुनेश के घर से 41.55 लाख रुपए बरामद किए हैं। 

ऐसे में अब उनकी मेयर कुर्सी खतरे में आ गई है।

मेयर मुनेश के पति के रिश्वत मामले में गिरफ्तार होने के बाद विपक्षी भाजपा को तो गहलोत सरकार को घेरने का मौका मिल ही गया, लेकिन खुद सरकार के मंत्री भी मुनेश गुर्जर के खिलाफ होते दिख रहे हैं। 

गहलोत सरकार के मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास (Pratap Singh Khachariyawas) ने कहा है कि मुनेश गुर्जर के काम को लेकर मैं पहले ही खुश नहीं था। 

मैंने विधायक रफीक खान और अमीन कागजी, तीनों ने कांग्रेस प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा से कह दिया था कि मुनेश को  बर्खास्त कर दिया जाए।

रिश्वत लेने के लिए मेयर थोड़े बनाया था

खाचरियावास ने कहा कि मैं भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं कर सकता हूं। हमने मुनेश को इसलिए मेयर थोड़ी बनाया था कि उनके घर पर ही पट्टे के लिए गरीब लोगों से रिश्वत ली जाए। अब तो अति हो गई है।

बिना सबूत किसी के घर छापा नहीं मारती ACB

गहलोत के मंत्री खाचरियावास ने आगे कहा कि एसीबी बिना सबूत किसी के घर पर छापा नहीं मारती है।

पिछले काफी समय से इस मामले में शिकायतें मिल रही थी। पूरे सत्यापन के बाद ही एसीबी टीम ने करवाई की है। 

उन्होंने आगे कहा कि मैं सीएम गहलोत और राजस्थान पुलिस की एसीबी टीम को धन्यवाद दूंगा। मुझे विश्वाश है, जो कोई भी इस मामले में लिप्त होगा। वो बख्शा नहीं जाएगा। 

अब किसी की नाटकबाजी नहीं चलेगी। आप कितने ही नाटक क्यों ना कर लो, अब नहीं चलने वाले है। चाहे प्रताप सिंह हो या फिर कोई और नेता। 

हालाँकि, एसीबी का कहना है कि इस पूरे मामले में अभी तक मुनेश गुर्जर का कोई भूमिका सामने नहीं आई है। एसीबी गिरफ्तार किए गए सुशील गुर्जर और दोनों दलाल से पूछताछ कर रही है। जानकारी में ये भी सामने आया है कि एसीबी की टीम जयपुर हेरिटेज नगर निगम मुख्यालय पहुंची और मेयर के ऑफिस में भी जांच-पड़ताल की है। 

Must Read: हनुमान जयंती को माधव यूनिवर्सिटी में होगा बड़ा कार्यक्रम, आसपास के गांवों की भीड़ रहेगी मौजूद

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :