भाजपा का फिर बढ़ा कुनबा: कांग्रेस छोड़ कई नेता और अधिकारी भाजपा में शामिल

कांग्रेस छोड़ कई नेता और अधिकारी भाजपा में शामिल
Ad

Highlights

कई कांग्रेसी नेता और अधिकारी भाजपा में शामिल हुए। राजस्थान में फिर से कांग्रेस सरकार रिपीट होने के दावा कर रही गहलोत सरकार के लिए ये बड़ा झटका माना जा रहा है। इससे पूर्व भी कई नेताओं ने कांग्रेस का हाथ छोड़कर भाजपा पार्टी ज्वॉइन की है। 

जयपुर | Rajasthan Election 2023: राजस्थान में विधानसभा चुनाव 2023 को लेकर दलबदल का खेला लगातार जारी है। 

इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए चुनावों से पहले गुरूवार को कई कांग्रेस नेता और पूर्व प्रशासनिक अधिकारियों ने भाजपा का कमल खिलाने का संकल्प लिया।

गुरूवार को कई कांग्रेसी नेता और अधिकारी भाजपा में शामिल हुए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ऐतिहासिक कार्यों, जनकल्याणकारी नीतियों और प्रदेश में कांग्रेस सरकार के जंगलराज से आहत होकर बिना किसी शर्त के आज विभिन्न समाजों और राजनैतिक दलों से आए 17 प्रशासनिक अधिकारियों और नेताओं ने भाजपा प्रदेश कार्यालय में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। 

राजस्थान में फिर से कांग्रेस सरकार रिपीट होने के दावा कर रही गहलोत सरकार के लिए ये बड़ा झटका माना जा रहा है। इससे पूर्व भी कई नेताओं ने कांग्रेस का हाथ छोड़कर भाजपा पार्टी ज्वॉइन की है। 

राजधानी जयपुर में भाजपा कार्यालय में आयोजित एक समारोह में प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी, केंद्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल और प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह ने सभी नेताओं को पार्टी की सदस्यता दिलवाई है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पार्टी को आगे बढ़ाने का की बात कही। 

इस मौके पर प्रदेशाध्यक्ष जोशी ने भाजपा ज्वॉइन करने वाले सभी नेताओं को बधाई दी और प्रदेश की गहलोत सरकार पर साधा निशाना।

उन्होंने कहा कि सरकार पर अब उनके ही मंत्रियों और विधायकों को भरोसा नहीं है। जिसका ही नतीजा है कि ये पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हो रहे हैं। गहलोत सरकार ने इन साढ़े चार सालों में भ्रष्टता की सीमाएं लांघ दी है। 

ये सब हुए भाजपा में शामिल

पूर्व प्रशासनिक अधिकारी एंव रैगर महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भंवरलाल नवल, बैरवा महासभा के प्रदेश उपाध्यक्ष लालाराम बैरवा, पूर्व प्रशासनिक अधिकारी कैलाश वर्मा, सेवानिवृत आईएएस हनुमान सिंह भाटी, पूर्व आईपीएस डॉ. महेश भारद्वाज, कुंवर राव गगन सिंह, सेवानिवृत आयुक्त ओमप्रकाश मीणा, सेवानिवृत डीईओ राजाराम मीणा, सेवानिवृत शिक्षा निदेशक बहादुरसिंह गुर्जर, ओमप्रकाश बागडा, रिटायर्ड आयकर आयुक्त नरेन्द्र गौड, भूदेव देवडा, दयानंद सक्क्रवाल, सेवानिवृत पुलिस अधिकारी खेमराज खोलिया, धनेश्वर आहारी और प्रशासनिक सेवा के माताराम रिणवा को भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव एंव प्रदेश प्रभारी अरूण सिंह, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी और केंद्रीय कानून राज्य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने माला और भाजपा का दुपट्टा पहनाकर भाजपा की सदस्यता ग्रहण कराई। 

इस दौरान कार्यक्रम मे मंच संचालन विधायक वासुदेव देवनानी ने किया। 

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव एंव प्रदेश प्रभारी अरूण सिंह ने सदस्यता कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश के सभी समाजों में भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने को लेकर उत्साह और उत्सुकता है।

कांग्रेस सरकार के जंगलराज से आज प्रदेश का हर तबका तंग है। इसलिए सदस्यता ग्रहण कार्यक्रम में भी दलित समाज से बडी संख्या में पूर्व प्रशासनिक अधिकारियों ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है। प्रदेश की जनता अब मन बना चुकी है, आगामी चुनावों में युवा, किसान और दलित विरोधी कांग्रेस सरकार को प्रदेश की जनता उखाड फेंकेगी। 

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी ने सदस्यता कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश के अलग अलग क्षेत्रों से भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने वाले सभी लोगों को भाजपा परिवार स्वागत करता है। राजस्थान में एक सिलसिला चल पडा है, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में लोगों की भाजपा के प्रति अटूट आस्था है।

आज प्रदेश में कांग्रेस की महाभ्रष्ट सरकार ने बिजली कटौती, महंगे बिजली बिल, पेपर लीक, पेट्रोल-डीजल पर वैट, महिला अपराध, युवाओं और किसानों से वादाखिलाफी के साथ प्रदेश के हर वर्ग को चोट पहुंचाई है। सदस्यता ग्रहण करने वाले सभी लोगों को पता है कि सुशासन देने वाली कोई पार्टी देश और प्रदेश में है तो वह भाजपा है। 

केंद्रीय कानून राज्य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने सदस्यता कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि देशसेवा करने के लिए हमें किसी माध्यम से फर्क नहीं पडता। भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने वाले सभी लोगों का भाजपा परिवार में स्वागत और अभिनंदन करता हूं।

आज देश को प्रधानमंत्री मोदी के रूप में मजबूत नेतृत्व वाली सरकार मिली है। कल का दिन भारतवासियों के लिए गौरव का दिन था। भारत चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने वाला पहला देश बना।

दूसरी ओर प्रदेश में कांग्रेस राज को देखने पर लगता है कि पर्यटन और शौर्य के लिए अपनी पहचान रखने वाला राजस्थान बदहाल कानून व्यवस्था, महिला और दलित उत्पीडन के चलते शर्मशार हुआ है। हम सभी को विजय संकल्प लेकर आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को प्रचंड बहुमत से सत्ता में लाने के लिए जुट जाना चाहिए।  

Must Read: कांग्रेस का शतक, पंचासे पर अटकी भाजपा, जेडीएस मार रही बाजी

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :