Lok Sabha Elections 2024: क्या पूर्व सीएम दोहरा पाएंगे दो दशक पुराना इतिहास

क्या पूर्व सीएम दोहरा पाएंगे दो दशक पुराना इतिहास
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव
Ad

Highlights

  •  देश में 18वीं लोकसभा के लिए अब तक तीन चरणों का मतदान हो चुका 
  • 13 मई को चौथे चरण में 49 सीटों पर मतदान(Voting) होगी
  • अखिलेश उत्तर प्रदेश के विधानसभा में विपक्षी दल के नेता बने

लखनऊ | देश में 18वीं लोकसभा के लिए अब तक तीन चरणों का मतदान हो चुका है। तीसरे चरण में मंगलवार को 12 राज्यों की 94 सीटों पर मतदान पूरा होने के साथ ही 543 सदस्यों की लोकसभा की 283 सीटों के लिए मतदान(Voting) का काम पूरा हो गया। वहीं, अब 13 मई को चौथे चरण में 49 सीटों पर मतदान(Voting) होगी।

इन 49 सीटों में उत्तर प्रदेश की कन्नौज सीट भी शामिल है जिस पर मतदान(Voting) होनी है। कन्नौज सीट से भारतीय जनता पार्टी(BJP) ने जहां अपने वर्तमान सांसद सुब्रत पाठक को फिर से उम्मीदवार बनाया है तो वहीं, समाजवादी पार्टी की तरफ से अखिलेश यादव ताल ठोक रहे हैं। 
 
अखिलेश 2 बार विधायक, तीन बार सांसद और एक बार मुख्य मंत्री रहे 

पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश(UP) के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के बेटे हैं। 2004 में 14वीं लोकसभा के लिए कन्नौज से सांसद(Member of parliament) चुने गए थे। इसके बाद 2009 के चुनाव में उन्होंंने सूबे की दो सीटों कन्नौज और फिरोजबाद दोनों जगहों से चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की। हालांकि उन्होंने बाद में फिरोजाबाद की सीट छोड़ दी।

उपचुनाव(by-election) में कांग्रेस के राजबब्बर ने अखिलेश की पत्नी और फिलहाल मैनपुरी से सांसद(Member of parliament) डिंपल यादव को हराया। दो बार के सांसद अखिलेश यादव के राजनैतिक जीवन बड़ा बदलाव तब आया जब 2012 में हुए उत्तर प्रदेश(UP) के विधानसभा चुनाव(assembly elections) में सपा ने जीत दर्ज की और अखिलेश यादव सूबे के नए CM बनें।

इसके बाद उन्होंने कन्नौज सीट से इस्तीफा दे दिया और विधान परिषद(Legislative Assembly) के रास्ते पहली बार विधायक बने। हालांकि 2017 के विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद अखिलेश ने एक बार फिर से संसद का रुख किया और 2019 में 17वीं लोकसभा के चुनाव में आजमगढ़ से लोकसभा सांसद(Lok Sabha MP) के रुप में चुने गए। 

इसके बाद एक बार फिर 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में उन्होंने सूबे की राजनीति में एंट्री(Entry) ली और मैनपुरी के करहल विधानसभा सीट से विधायक बनें। हालांकि इस बार के विधानसभा चुनाव में सपा को जीत नहीं मिली और अखिलेश उत्तर प्रदेश के विधानसभा में विपक्षी दल के नेता बने। वहीं, अब 2024 में हो रहे 18वीं लोकसभा के चुनाव में वह कन्नौज सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।

अखिलेश यादव  40 करोड़ की संपत्ति के मालिक हैं 

2022 विधानसभा चुनाव(assembly elections)  में अखिलेश के हलफनामे के अनुसार उनके पास कुल 40 करोड़ 14 लाख की संपत्ति है। वहीं, उनके ऊपर 43 लाख से ज्यादा देनदारी भी है। उन्होंने 2020-21 में अपने इनकम टैक्स(Income Tax) रिटर्न में 83 लाख से ज्यादा की आय दिखाई थी। 

Must Read: चौधरी पहली, यादव दूसरी और शेखावत-मेघवाल तीसरी बार मंत्री बने

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :