फ्रेंच यूनिवर्सिटी ने दिया सम्मान: बेबाक अंदाज़ और निष्पक्ष पत्रकारिता के धनी मुकेश राजपूत डॉक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित 

बेबाक अंदाज़ और निष्पक्ष पत्रकारिता के धनी मुकेश राजपूत डॉक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित 
Mukesh Rajpoot
Ad

Highlights

मुकेश राजपूत पत्रिकारिता जगत के जाने-माने सितारे हैं। ये अपने बेबाक अंदाज़ और निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए कई बार विभिन्न-विभिन्न संस्थाओं द्वारा सम्मानित हो चुके हैं। 

जयपुर | मीडिया जगत में अपनी अलग पहचान बनाने वाले मुकेश राजपूत (Mukesh Rajpoot) को फ्रांस के ’रॉबर्ट डी सोरबोन विश्वविद्यालय’ (Robert de Sorbon university) ने बड़े सम्मान से नवाजा है। 

फ्रेंच यूनिवर्सिटी ने मुकेश राजपूत का मीडिया जगत में उनकी बेहतरीन उपलब्धि के लिए डॉक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित किया है। 

मौजूदा समय में मुकेश राजपूत सूर्य समाचार के एडिटर इन चीफ है। उन्होंने अपने पूर्व अनुभव और छवि के दम पर सूर्य समाचार चैनल के संपादन और उसकी एक सशक्त टीम को खड़ा करने में काबिलेतारीफ सफलता हासिल की है।

पत्रकारिता के लिए मिल चुके कई सम्मान

मुकेश राजपूत पत्रिकारिता जगत के जाने-माने सितारे हैं। ये अपने बेबाक अंदाज़ और निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए कई बार विभिन्न-विभिन्न संस्थाओं द्वारा सम्मानित हो चुके हैं। 

राजपूत को हिमाचल प्रदेश के जनसंचार से जुड़े ’ठाकुर वेदराम पुरस्कार’ और ’हिमोत्कर्ष’ आदि श्रेष्ठ पुरस्कार से नवाजा जा चुका है।

हिमाचल के शिमला में एक साधारण से परिवार में जन्म लेने वाले मुकेश राजपूत ने मीडिया जगत में अपनी एक अलग छाप छोड़ी है।

राजपूत विलक्षण प्रतिभा और वाकपटुता के धनी है। उन्होंने अपने कॉलेज के समय में ही ऑल इंडिया रेडियो में अपनी आवाज का ऐसा जादू बिखेरा की लोग उनके कद्रदान हो गए। 

दूरदर्शन में भी दिखाई प्रतिभा

मुकेश राजपूत ने अपनी किशोर अवस्था में ही शिमला के दूरदर्शन में अपनी प्रतिभा दिखा दी थी। उन्होंने यहां कई डॉक्यूमेंट्री को निर्देशित और प्रोडक्शन किया और एक नया मुकाम हासिल किया। 

इसके बाद तो उनकी यही प्रतिभा अलग-अलग राष्ट्रीय चैनल्स में बतौर एंकर्स/रिपोर्टर के तौर पर झलकने लगी थी।

’चक्रव्यू’ और ’बिग बुलेटिन’ शो में छोड़ी छाप

हिमाचल-हरियाणा चैनल में संपादक की भूमिका निभाते हुए मुकेश राजपूत ने दो ’चक्रव्यू’ और ’बिग बुलेटिन’ शो में ऐसी छाप छोड़ी जो उनके लिए नींव का पत्थर साबित हुई। चक्रव्यूह में इनके बेबाक सवालों को दर्शकों ने बहुत सराहा।

ऐसा रहा जीवन का सफर

फ्रेंच यूनिवर्सिटी से सम्मानित होने वाले मुकेश राजपूत का जन्म 4 अक्टूबर 1971 को शिमला के एक साधारण से परिवार में हुआ था।

इनकी प्रारंभिक शिक्षा डीएवी हाई स्कूल लक्कड़ बाजार, राजकीय महविद्यालय चौड़ा मैदान में पूरी हुई। इसके बाद उन्होंने 1997 में हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से एमटीए और 2002 में जनसंचार की उपाधि हासिल की।

अपने जीवन के सफर में आगे बढ़ते हुए राजपूत ने साल 1995 में दूरर्दशन शिमला ज्वॉइन किया और अपनी प्रतिभा को निखारा।

यहां एक उद्घोषक की भूमिका निभाते हुए हिमाचल प्रदेश की संस्कृति एवं अन्य विषयों पर कई डॉक्यूमेंटरी फिल्में बनाई।

इसके बाद साल 2004 में राजपूत ने शिमला से चंडीगढ़ कूच किया और समाचार जगत की दुनिया में कदम रखा। 

राजपूत सहारा समय राष्टीय न्यूज़ चैनल में पंजाब-हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के ब्यूरो चीफ रहे। 

इसके बाद 2014 तक विभिन्न न्यूज चैनल्स अपनी प्रतिभा की छापा छोड़ी। 

2014 में ईटीवी न्यूज में हरियाणा के सम्पादक नियुक्त किया हुए और लोकप्रियता हासिल की। 

इसके बाद साल 2021 से सूर्य समाचार में मुख्य संपादक के पद पर कार्यरत है। 

Must Read: रेगुलर हार्डवर्क है सफलता का मंत्र : कौशल विजयवर्गीय 

पढें सफलता की कहानी खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :