कांग्रेस भूल गई कर्जमाफी का वादा: गजेन्द्र सिंह शेखावत बोले- कर्जमाफी तो दूर की कोड़ी, 20 हजार से ज्यादा किसानों जमीने हो गई नीलाम

गजेन्द्र सिंह शेखावत बोले- कर्जमाफी तो दूर की कोड़ी, 20 हजार से ज्यादा किसानों जमीने हो गई नीलाम
Gajendra Singh Shekhawat
Ad

Highlights

जयपुर में भाजपा प्रदेश मीडिया सेंटर पर प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने कांग्रेस के घोषणा-पत्र को झूठ का पुलिंदा बताया।

जयपुर | राजस्थान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के बीच चल रही ताबड़तोड़ बयानबाजी के बीच गजेन्द्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh Shekhawat) ने भी अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार पर हमला बोला है। 

मंगलवार को राजधानी जयपुर में भाजपा प्रदेश मीडिया सेंटर पर प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने कांग्रेस के घोषणा-पत्र को झूठ का पुलिंदा बताया।

उन्होंने कांग्रेस पर जनता को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने 15 साल तक शासन किया और तीन बार एक ही व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनने का मौका दिया, लेकिन सिवाय प्रदेश को रेप कैपिटल बनाने, किसानों की जमीनें नीलाम करने और युवाओं से पेपर लीक के नाम पर छलावा करने के कुछ भी नहीं किया। 

कांग्रेस पार्टी ने 2018 में भी घोषणा पत्र जारी किया था जो कि महज 44 पेज का था और इसमें कांग्रेस पार्टी ने जो वादे और घोषणा किए थे उनमें से एक भी पूरा नहीं किया इसलिए अबकी बार दोगुना 85 पेज का घोषणा पत्र लेकर आए हैं। 

कांग्रेस ने 2023 के घोषणा पत्र के प्राक्कथन में लिखा है कि हमने 2018 के जन-घोषणा पत्र में किए गए 96 प्रतिशत वादे पूरे किए हैं। आप समझ सकते हैं कि झूठ की शुरूआत प्राक्कथन से ही कर दी गई है। 

केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने कहा कि कांग्रेस ने किसानों के लिए जो वादे किए थे उसके प्रथम बिंदु मंे कहा था कि 10 दिवस में किसानों का संपूर्ण कर्जा माफ करेंगे, लेकिन जो हुआ वह आपके सामने है। 

प्रदेश के 20 हजार से ज्यादा किसानों की जमीनें नीलाम की गई और सैंकड़ो किसानों ने कर्ज से तंग होकर आत्महत्या कर ली। किसानों को फसल खराबे का मुआवजा देने की बात कही थी, लेकिन कोई मुआवजा नहीं दिया गया। 

वहीं कांग्रेस ने कहा था कि किसानों की फसल का उचित मूल्य दिलाएंगे, जबकि राजस्थान के किसानों को बाजरा बेचने के लिए हरियाणा जाना पड़ा।

वृद्ध किसानों को पेंशन देना किसानों को कृषि कार्य हेतु बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करना और गुणवत्तायुक्त बिजली उपलब्ध कराने का वादा भी पूरी तरह खोखला निकला। 

कांग्रेस ने स्वास्थ्य का अधिकार लागू करने का वादा 2018 के घोषणा पत्र में किया था जिसमें पंचायत स्तर पर मेडिकल मोबाइल वैन चलाने की बात कही गई थी, इसके बाद वैन की खरीद भी की गई लेकिन अभी तक नहीं चल पाई अधिकांश वैन राजधानी जयपुर में धूल फांक रही हैं। 

कांग्रेस का 24 घंटे बिजली देने का वादा भी पूरी तरह झूठा साबित हुआ। 

Must Read: कहा-’शर्म बची होती तो इस्तीफा देते’... अगर रक्षक ही भक्षक बन जाएगा तो राज्य का क्या होगा?

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :