सिरोही में केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट: बोले- जो जिस भाषा में समझेगा उसे उसी भाषा में दिया जाएगा जवाब

बोले- जो जिस भाषा में समझेगा उसे उसी भाषा में दिया जाएगा जवाब
Union Minister of State for Defense Ajay Bhatt
Ad

Highlights

केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट ने कहा कि हमारे जवान सरहद पर बिना थके दिन रात देश की रक्षा करते है। हमारी सेना व अन्य सुरक्षा एजेंसियों के लोग हर समय हर संकट का सामना करने के लिए तैयार रहते हैं।

सिरोही | हमारा देश पहले वाला नहीं रहा। भारत की तीनों सेनाएं जल, थल और वायु बहुत मजबूत हो चुकी है। 

आतंकवाद पूरी तरह से खात्मे की ओर बढ़ रहा है। पहले मोटा अनाज केवल गरीबों का भोजन हुआ करता था लेकिन आज फाइव स्टार होटल में परोसा जाने लगा है। यह बात भारत सरकार के केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने कही। 

राजस्थान के सिरोही जिले के आबूरोड स्थित ब्रह्माकुमारी संस्थान (Brahma Kumari Institute) में आत्म सशक्तिकरण द्वारा चुनौतियों का प्रबंधन विषय पर आयोजित हुए कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होने के लिए अजय भट्ट वायुसेना के विशेष विमान से शुक्रवार को सिरोही पहुंचे।

शुक्रवार को ब्रह्माकुमारीज संस्थान में सुरक्षाकर्मियों के लिए आयोजित तीन दिवसीय सम्मेलन में देशभर से सुरक्षा से जुड़े जवानों और अधिकारियों ने भी भाग लिया। 

जो जिस भाषा में समझेगा उसे उसी भाषा में दिया जाएगा जवाब

इस दौरान केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट ने कहा कि हमारे जवान सरहद पर बिना थके दिन रात देश की रक्षा करते है। हमारी सेना व अन्य सुरक्षा एजेंसियों के लोग हर समय हर संकट का सामना करने के लिए तैयार रहते हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हमारी सेनाओं को जब से दुश्मनों को जबाब देने की खुली छूट दी हुई है। तब से सेना का मनोबल काफी बढ़ा है। ऐसे में हमारे देश की सुरक्षा सुरक्षित हाथों में है। 

केंद्रीय मंत्री अजय भट्ट ने दुश्मन देशों के चेताते हुए कहा कि जो जिस भाषा में समझेगा उसे उसी भाषा में जवाब दिया जाएगा। 

मोटे अन्न की दुनिया ने जानी महत्वता

जी20 देशों की अध्यक्षता के दौरान हमारे देश में पैदा होने वाले  को लजीज व्यंजन बनाकर पूरी दुनिया के शीर्ष नेताओं को परोसा गया। इससे भारत की संस्कृति और अध्यात्म का पूरी दुनिया ने लोहा माना है।

ब्रह्माकुमारीज संस्थान द्वारा आयोजित इस सम्मेलन में भारत की तीनों सेनाओं के अधिकारी शामिल हुए। इसके अलावा असम राईफल्स, नौसेना, सीमा सुरक्षा बल, सीआरपीएफ के सैन्यकर्मियों ने भी भाग लिया है। 

इस कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारीज संस्थान की प्रमुख राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी, अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन, कर्नल सती, सेवा सुरक्षा प्रभाग की अध्यक्ष बीके शुक्ला ने भी अपने अपने विचार व्यक्त किए।

Must Read: राजस्थान सेवानिवृत्त पुलिस कल्याण संस्थान ने RGHS के आदेशों में बदलाव और दरिंदगी की शिकार महिला पुलिसकर्मी के लिए मांगा न्याय

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें thinQ360 App.

  • Follow us on :